CWG2018 : हॉकी में फाइनल की दौड़ से बाहर भारतीय महिलाएं, कांस्य के लिए इंग्लैंड से मुकाबला

 भारतीय महिला हॉकी टीम को राष्ट्रमंडल खेल के सेमीफाइनल मैच में मौजूदा चैंपियन ऑस्ट्रेलिया ने 1-0 से हरा दिया है. अंतिम चार मिनट में गोल करने के दो बड़े अवसरों को गंवाने वाली भारतीय टीम स्वर्ण पदक की दौड़ से बाहर हो गई है और अब वह कांस्य पदक के लिए इंग्लैंड से भिड़ेगी. भारत ने हालांकि मजबूत ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ अच्छा खेल दिखाया, लेकिन एक गोल के अंतर के साथ मेजबान टीम बेहतर साबित हुई और इस तरह भारत के हाथों से 2002 राष्ट्रमंडल खेलों की तरह स्वर्ण जीतने का मौका निकल गयागोल्ड कोस्ट: भारतीय महिला हॉकी टीम को राष्ट्रमंडल खेल के सेमीफाइनल मैच में मौजूदा चैंपियन ऑस्ट्रेलिया ने 1-0 से हरा दिया है. अंतिम चार मिनट में गोल करने के दो बड़े अवसरों को गंवाने वाली भारतीय टीम स्वर्ण पदक की दौड़ से बाहर हो गई है और अब वह कांस्य पदक के लिए इंग्लैंड से भिड़ेगी. भारत ने हालांकि मजबूत ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ अच्छा खेल दिखाया, लेकिन एक गोल के अंतर के साथ मेजबान टीम बेहतर साबित हुई और इस तरह भारत के हाथों से 2002 राष्ट्रमंडल खेलों की तरह स्वर्ण जीतने का मौका निकल गया.  खेले जा रहे मैच में पहले क्वार्टर से ही दोनों टीमों के बीच गोल के लिए कड़ा संघर्ष देखा गया, दूसरे ही मिनट में वंदना कटारिया ने ऑस्ट्रेलिया के डी-सेक्शन में आकर कप्तान रानी को गेंद पास की, लेकिन रानी का शॉट नेट से बाहर चला गया. ऑस्ट्रेलिया ने अगले पांच मिनट में एक के बाद एक दो पेनल्टी कॉर्नर हासिल किए, लेकिन गोलकीपर सविता ने दोनों ही कोशिशों पर पानी फेर दिया.  ऑस्ट्रेलिया की गोल की हर कोशिश को भारत के डिफेंस ने नाकाम किया. दूसरे क्वार्टर की शुरुआत के अगले मिनट में ही ऑस्ट्रेलिया की जेन क्लेक्स्टन ने सीधी गेंद भारतीय टीम के नेट पर मारने के लिए हिट की, लेकिन सविता ने शानदार डाइव मारते हुए अपने पैर से रास्ता रोकते हुए गेंद को नेट तक नहीं पहुंचने दिया.  भारतीय टीम की आक्रामक पंक्ति भी ऑस्ट्रेलिया के डिफेंस को नहीं भेद पा रही थीं और ऐसे में दूसरा क्वार्टर भी बिना किसी गोल के समाप्त हो गया. तीसरे क्वार्टर में  ऑस्ट्रेलिया ने पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया, लेकिन भारतीय टीम के डिफेंस ने इस अवसर को असफल कर दिया.ऑस्ट्रेलिया की खिलाड़ी के बैक स्टिक के गेंद पर लगने के कारण भारत को एक और पेनल्टी कॉर्नर मिला, लेकिन ऑस्ट्रेलिया की रशर ने फिर कमाल करते हुए इसे सफल कर दिया. अंतिम दो मिनट में कप्तान रानी के पास गोल करने का मौका था, लेकिन उनका शॉट नेट के किनारे से होकर निकल गया. इस कारण भारत को 0-1 से हार मिली..

खेले जा रहे मैच में पहले क्वार्टर से ही दोनों टीमों के बीच गोल के लिए कड़ा संघर्ष देखा गया, दूसरे ही मिनट में वंदना कटारिया ने ऑस्ट्रेलिया के डी-सेक्शन में आकर कप्तान रानी को गेंद पास की, लेकिन रानी का शॉट नेट से बाहर चला गया. ऑस्ट्रेलिया ने अगले पांच मिनट में एक के बाद एक दो पेनल्टी कॉर्नर हासिल किए, लेकिन गोलकीपर सविता ने दोनों ही कोशिशों पर पानी फेर दिया.

ऑस्ट्रेलिया की गोल की हर कोशिश को भारत के डिफेंस ने नाकाम किया. दूसरे क्वार्टर की शुरुआत के अगले मिनट में ही ऑस्ट्रेलिया की जेन क्लेक्स्टन ने सीधी गेंद भारतीय टीम के नेट पर मारने के लिए हिट की, लेकिन सविता ने शानदार डाइव मारते हुए अपने पैर से रास्ता रोकते हुए गेंद को नेट तक नहीं पहुंचने दिया.

भारतीय टीम की आक्रामक पंक्ति भी ऑस्ट्रेलिया के डिफेंस को नहीं भेद पा रही थीं और ऐसे में दूसरा क्वार्टर भी बिना किसी गोल के समाप्त हो गया. तीसरे क्वार्टर में  ऑस्ट्रेलिया ने पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया, लेकिन भारतीय टीम के डिफेंस ने इस अवसर को असफल कर दिया.ऑस्ट्रेलिया की खिलाड़ी के बैक स्टिक के गेंद पर लगने के कारण भारत को एक और पेनल्टी कॉर्नर मिला, लेकिन ऑस्ट्रेलिया की रशर ने फिर कमाल करते हुए इसे सफल कर दिया. अंतिम दो मिनट में कप्तान रानी के पास गोल करने का मौका था, लेकिन उनका शॉट नेट के किनारे से होकर निकल गया. इस कारण भारत को 0-1 से हार मिली.

You May Also Like

English News