Dangerous जानवरों के साथ शूट हुई थी यह फिल्म, शूटिंग पर हुआ ये…

हॉलीवुड फिल्म ‘रोर’ 1981 में रिलीज हुई थी। 17 मिलियन डॉलर (उस वक्त करीब 16 करोड़ रुपए) में बनी इस फिल्म की शूटिंग करीब 150 शेर, बाघ, तेंदुए, जगुआर और हाथियों के साथ की गई थी। शूटिंग के दौरान 70 के आसपास क्रू मेंबर्स घायल हुए थे, जिनमें से कुछ को सीरियस इंजरीज भी हुई थीं। इस फिल्म को शूटिंग के लिहाज से दुनिया की सबसे खतरनाक फिल्म माना जाता है। 11 साल तक फैमिली के साथ जानवरों के बीच रहे थे डायरेक्टर…Dangerous जानवरों के साथ शूट हुई थी यह फिल्म, शूटिंग पर हुआ ये...
– फिल्म की कहानी नॉएल मार्शल ने लिखी थी और वे ही इसके डायरेक्टर, एक्टर भी थे।

– फिल्म में मार्शल के अलावा उनकी पत्नी टिप्पी हेडरन, बेटी मेलनी ग्रिफ्थ, बेटे जेम्स और जेरी की भी अहम भूमिका थी।
– फिल्म को बनने में 11 साल का वक्त लगा था और यह समय मार्शल की पूरी फैमिली ने जानवरों के बीच ही काटा।

ऐसे घायल हुए थे क्रू मेंबर्स

– फिल्म की शूटिंग के दौरान किसी जानवर को कोई नुकसान नहीं हुआ था। लेकिन 70 क्रू मेंबर्स घायल हो गए थे।
– एक शेर के हमले के बाद सिनेमैटोग्राफर जैन डे बोंट का सिर फट गया था, जिसमें 220 टांके आए थे।
– एक हाथी के हमले के बाद मार्शल की पत्नी टिप्पी हेडरन का पैर फ्रैक्चर हो गया था और सिर पर भी चोट आई थी। इसके अलावा, उनकी गर्दन पर एक शेर ने भी काट लिया था, जिसमें 38 टांके आए थे। फिल्म में भी इस घटना को देखा जा सकता है।
– मार्शल की बेटी मेलनी ग्रिफ्थ के चेहरे पर इंजरी हुई थी और 50 टांके आए थे।
– खुद मार्शल पर भी कई बार शेरों ने हमला किया था। एक सीन के दौरान दौड़ते-दौड़ते मार्शल गिर गए थे। इसके बाद एक शेर उनपर झपट पड़ा। तब 6 लोगों ने उसे हटाया था। इस घटना के बाद मार्शल के चेहरे पर 56 टांके आए थे।
– इसी तरह के मार्शल के बेटे जेरी के पैर में एक शेर ने काट लिया था। असिस्टेंट डायरेक्टर डोरोन कॉपर के गले में एक शेर ने काटा था। उनके कान, चेस्ट और गले में भी इंजरी हुई थी।
क्या थी फिल्म की कहानी

– फिल्म की कहानी एक वाइल्डलाइफ प्रिजर्वेशनिस्ट हैंक (नॉएल मार्शल) के इर्द-गिर्द घूमती है, जो शेर, बाघ, चीता और हाथी जैसे खतरनाक जानवरों के बीच रहता है।
– एक दिन हैंक की पत्नी और बच्चे उससे मिलने आते हैं। लेकिन वे जानवरों के बीच फंस जाते हैं। क्योंकि इस दौरान हैंक वहां नहीं होता। यहीं से कहानी में ट्विस्ट आता है।
कैसे आया था फिल्म का आइडिया

-डायरेक्टर मार्शलऔरउनकी पत्नी हेडरनको तब आया, जब उन्होंने अफ्रीका की एक सुनसान जगह में स्थित प्लांटेशन हाउस में कई शेरों को बंद देखा।
– इस अमानवीय व्यवहार के खिलाफ अवेयरनेस के लिए मार्शल और हेडरन ने जानवरों के कई ट्रेनर्स से संपर्क किया और फिर फिल्म का वास्तविक कॉन्सेप्ट सामने आया।

घर में पालने लगे शेर

– मार्शल और हेडरन ने बाद में लॉस एंजिलिस स्थित अपने घर पर शेरों को अडॉप्ट करना और उनकी ब्रीडिंग करना शुरू की। 6 साल तक यह प्रोसेस चलती रही।
मार्शल के प्राइवेट खेत में शूट हुई थी फिल्म

– फिल्म की शूटिंग कैलिफोर्निया के ऐक्टन स्थित मार्शल के प्राइवेट खेत में शूट की गई थी।
– इस दौरान तीन साल तक खेत में बाढ़ आई तो मार्शल को करीब 3 मिलियन डॉलर (उस वक्त करीब 2.8 करोड़ रुपए) का घाटा उठाना पड़ा था।
– 11 साल के प्रोडक्शन के बाद फिल्म नवंबर 1981 में ऑस्ट्रेलिया में रिलीज की गई। इसके 34 साल बाद अप्रैल 2015 में यह अमेरिका में रिलीज हुई थी।
फिल्म को लगा था तगड़ा घाटा

– 17 मिलियन डॉलर (उस वक्त करीब 16 करोड़ रुपए) में बनी यह फिल्म 1981 में जब रिलीज हुई तो बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप साबित हुई।
– फिल्म ने महज 2 मिलियन डॉलर (उस वक्त करीब 1.8 करोड़ रुपए) की कमाई की थी। 2015 में जब यह यूएस में रिलीज हुई थी, तब इसने $110,048 यानी (करीब 7.3 करोड़ रुपए की कमाई की थी।

You May Also Like

English News