Dharmsabha-Ashirwad Utsav: मंदिर निर्माण के लिए चांदी की ईंट साथ लेकर अयोध्या पहुंचेंगे उद्घव ठाकरे, जानिए पूरा कार्यक्रम!

अयोध्या: राम मंदिर निर्माण के लिए सरगर्मियां तेज हो चुकी हैं। शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे भी आज आर्शीवाद उत्सव के लिए अपने शामिल होने के लिए अपने परिवार के साथ अयोध्या पहुंच रहे हैं और उनसे पहले ही शिवसैनिकों से भरी दो ट्रेनें अयोध्या पहुंची हैं।]


सूत्रों के अनुसारए उद्धव राम मंदिर निर्माण के लिए महाराष्ट्र से अपने साथ चांदी की एक ईंट लेकर आ रहे हैं जिसे वह संतों को सौंपेंगे। शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से साथ उनकी पत्नि रश्मि ठाकरे और उनके बेटे एवं शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे भी अयोध्या पहुंच रहे हैं। वह यहां दो बजे एयरपोर्ट पर पहुंचेंगे और तीन लक्ष्मण किला पहुंचेंगे और संतों से भी उनकी मुलाकात होगी।

इसके बाद शाम छह बजे वह सरयू घाट पर सरयू महाआरती में शामिल होंगे और इस दौरान उनका परिवार भी उनके साथ होगा। उधर वाराणसी से एक ट्रेन भी वीएचपी कार्यकर्ताओं को लेकर 2 बजे अयोध्या के लिए रवाना होगी। रविवार यानि 25 नवंबरद्ध को यहां वीएचपी धर्मसभा का आयोजन करेगी दोनों कार्यक्रमों को देखते हुए प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं।

प्रशासन ने करीब 70 हजार सुरक्षाकर्मियों को अयोध्या में तैनात किया है। कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए रेलवे स्टेशन पर बड़ी संख्?या में पुलिस बल तैनात हैं। अयोध्या में धारा 144 लगाई जा चुकी है। आज अयोध्या में स्कूल, कॉलेज बंद रहेंगे। शहर की करीब 50 स्कूलों में सुरक्षाबलों के कैंप लगाए गए हैं। अयोध्या में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए एक अपर पुलिस महानिदेशक स्तर के अधिकारी, एक उप पुलिस महानिरीक्षक, तीन वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, 10 अपर पुलिस अधीक्षक, 21 क्षेत्राधिकारी,160 इंस्पेक्टर, 700 कांस्टेबिल, पीएसी की 42 कंपनी, आरएएफ की पांच कंपनियां तैनात की गई हैं।

इसके अलावा एटीएस के कमांडो और ड्रोन कैमरे भी निगरानी के लिए तैनात किए गए हैं। चारों तरफ कड़ी सुरक्षा की व्यवस्था की गई है। हालांकिए कहा जा रहा है कि मुस्लिम समुदाय में खौफ का माहौल है। कुछ लोगों ने शुक्रवार को ही घर के सभी जरूरी सामानों का स्टॉक कर लिया है। उन्होंने राशन, फल, सब्जी और दवाओं का स्टॉक कर लिया है। हर कोई अपने.अपने घरों में सुरक्षित हो चुके हैं। कई लोगों को इस बात का डर है कि कहीं 6 दिसंबर 1992 की घटना फिर से न घटित हो जाए।

You May Also Like

English News