Good News: आईटी रुड़की ने विकसित की भूकम्प की चेतावनी देने वाली प्रणाली!

रुड़की: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान यानि आईआईटी रूड़की के वैज्ञानिकों का दावा है कि उन्होंने भूकम्प की चेतावनी देने वाली एक ऐसी प्रणाली विकसित की है जिसमें भूकम्प से एक मिनट पहले लोगों को इसके आने की जानकारी मिल सकती है।

उत्तराखंड के कुछ इलाके में पहले से ही ऐसी प्रणाली लगी हुई है जिसमें ऐसे नेटवर्क सेंसर लगे हुए हैं जो भूकम्प के बाद पृथ्वी के परतों से गुजरने वाले भूकम्पीय तरंगों की पहचान करती है। आईआईटी रूड़की के प्रोफेसर मुक्तलाल शर्मा ने बताया मौजूदा समय में भूकम्प का पूर्वानुमान लगाने के लिए जो तकनीक है वह वास्तव में काम नहीं करता है।

लोग सांख्यिकीय गणना के आधार पर इसका अनुमान लगाने की कोशिश करते हैं लेकिन अब तक ज्ञात जितने भी तरीके हैं वे सटीक नहीं हैं। दरअसल यह प्रणाली लोगों को भूकम्प की जानकारी उसके आने से 10 सेकेंड से एक मिनट पहले तक दे सकती है। शर्मा ने बताया कि हिमालयी क्षेत्र में विवर्तनिकी प्लेट यानि टेक्टोनिक प्लेट की गतिविधि की वजह से भूकम्प आता है इसलिए देहरादून के लोगों को भूकम्प से पहले सिर्फ 11 सेकेंड का समय मिलेगा जबकि दिल्ली में रहने वाले लोगों को भूकम्प से एक मिनट पहले इसकी चेतावनी मिल जाएगी।

शर्मा ने 16वीं भूकंप इंजीनियरिंग संगोष्ठी से इतर कहा कि भले ही इतना कम वक्त इमारतों को खाली कराने के लिए काफी न हो लेकिन इस चेतावनी की वजह से लोग खुद को खतरनाक चोटों से बचा सकते हैं।

वहीं परमाणु ऊर्जा संयंत्र बंद करने, मेट्रो ट्रेन रोकने या गैस आपूर्ति रोकने में एक मिनट का समय मिलने से मदद मिल सकती है। उन्होंने कहा हम इमारतों को नहीं बचा सकते लेकिन कुछ और जानें बचा सकते हैं। शर्मा ने बताया कि उत्तराखंड के उत्तरकाशी और चमोली जिलों में 100 से ज्यादा सेंसर लगाए गए हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर भारत के अन्य राज्यों में यह प्रणाली लगाने के लिए उन्होंने राष्ट्रीय आपदा प्रबंध प्राधिकरण एनडीएमए और पृथ्वी मंत्रालय और दूरसंचार मंत्रालय से भी संपर्क किया है।

English News

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com