Gujarat Election: मोदी के गढ़ गुजरात में जमकर बरसे अखिलेश यादव, जानिए क्या-क्या कहा?

गुजरात: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पीएम मोदी के गढ़ गुजरात में शुक्रवार को जमकर केन्द्र सरकार और भाजपा पार्टी पर बरसे। अखिलेश ने कहा कि भाजपा पिछले 22 सालों से गुजरात की जनता को धोखा दे रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 12 सालों तक गुजरात के मुख्यमंत्री रहे। इनका विकास का मॉडल धोखे का है। गुजरात में गरीब, किसान, व्यापारी पेरशान हैं।


अहमदाबाद में आयोजित एक प्रेस वार्ता में अखिलेश यादव ने कहा कि चुनाव प्रचार के आखिरी दिन है। हम गुजरात की जनता को सावधन करने आए हैं कि बीजेपी के धोखे में न आए इनका पूरा मॉडल धोखे का है। नरेन्द्र मोदी पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पेरिस में क्लाइमेट चेंज पर समझौता करके आए। लेकिन उन्होंने एक पेड़ नहीं लगाया सिर्फ वादे किए हैं। मोदी जी सिर्फ झूठे वादे करते हैं।

लोकसभा चुनाव में किया गया एक भी वादा पूरा नहीं किया। वाराणसी में गंगा की सफार्ई का वादा किया था। आज तक कोई काम नहीं हुआ। अखिलेश ने कहा बीजेपी के नेता कहते हैं कि हम विकास के आधार पर चुनाव लड़ते हैं लेकिन जब चुनाव आता है तब जाति और धर्म के नाम पर जनता को बांटने लगते हैं। अखिलेश ने कहा कि मै गुजरात में मोदी जाी का विकास मॉडल देखना चाहता था। हमें यहां किसी शहर में मेट्रो चलती नहीं दिखी। हमें यहां कोई ऐसा एक्सप्रेस वे नहीं दिखा जहां देश की सुरक्षा के लिए लड़ाकू विमान उतारे जा सकतें है। गुजरात में भाजपा 22 साल से सत्ता में है।

जिसमें 12 साल मोदी जी सीएम थे। श्री यादव ने कहा कि हमने उत्तर प्रदेश में विकास के बहुत सारे काम पांच वर्र्ष में कराए। देश की सबसे अच्छी सड़क बनाई है, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर वायुसेना अपना लड़ाकू विमान उतारता है। लेकिन मोदी जी यूपी में भी विकास के बजाय जाति-धर्म की बात कर चुनाव लडऩे लगे। अखिलेश ने कहा कि भाजपा आम जनता के रोजगार, शिक्षा, पीने के पानी की बात नहीं करती है।

ये पार्टी झूठ के प्रचार में आगे है। इसने किसानों, नौजवानों, महिलाओं, व्यापारियों को धोखा दिया है। अखिलेश ने कहा कि हमने 2.5 साल में मेट्रो बनवाई, एलिवेटर सड़क बनाई, 55 लाख गरीबों को पेंशन दी लेकिन जब हम विकास की बात करते थे तो बीजेपी जाति और धर्म की बात करती थी। भाजपा लोगों को बांटने का काम करती है। अखिलेश ने कहा कि ईवीएम से चुनाव को लेकर लोगों में अविश्वास बढ़ता जा रहा है। चुनाव में पता ही नहीं रहता ईवीएम कब खराब हो जाए और कैसे ठीक कर दिया जाता है।

You May Also Like

English News