ICICI बैंक ने FD की ब्याज दरें बढ़ाईं, जानें कितना होगा फायदा

देश के बड़े निजी बैंकों में से एक आईसीआईसीआई बैंक ने फिक्स डिपॉजिट पर ब्याज दरें बढ़ा दी हैं. बैंक ने कुछ चुनिंदा टर्म डिपोजि‍ट्स पर ब्याज दरों में 0.15 फीसदी से 0.25 फीसदी तक की बढ़ोत्तरी की है. बढ़ी हुई ब्याज दरें 14 अगस्त से लागू हो चुकी है.देश के बड़े निजी बैंकों में से एक आईसीआईसीआई बैंक ने फिक्स डिपॉजिट पर ब्याज दरें बढ़ा दी हैं. बैंक ने कुछ चुनिंदा टर्म डिपोजि‍ट्स पर ब्याज दरों में 0.15 फीसदी से 0.25 फीसदी तक की बढ़ोत्तरी की है. बढ़ी हुई ब्याज दरें 14 अगस्त से लागू हो चुकी है.  बैंक ने इसके साथ ही कहा कि बैंक के जितने भी कर्मचारी हैं, उन्हें 1 करोड़ रुपये से कम की एफडी पर 1 फीसदी ज्यादा ब्याज मिलेगा. नये एफडी रेट जनरल के साथ ही वरिष्ठ नागरिकों के लिए भी लागू होंगे.  आईसीआईसीआई बैंक से पहले भारतीय स्टेट बैंक, एचडीएफसी और कैनरा बैंक भी एफडी रेट्स में बदलाव कर चुके हैं. बैंकों की तरफ से यह कदम आरबीआई के ब्याज दरें बढ़ाने के बाद उठाया गया है.  बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक ने एक अगस्त को मौद्रिक नीति की घोषणा की थी. इसमें रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोत्तरी की गई थी. इस बढ़त के साथ ही रेपो रेट 6.50 फीसदी पर पहुंच गया था.  भारतीय स्टेट बैंक ने आरबीआई के ब्याज दरों में बदलाव करने के दो दिन पहले ही एफडी रेट्स में बदलाव कर दिया था. एसबीआई ने 31 जुलाई को 1 करोड़ रुपये से कम की डोमेस्ट‍िक टर्म डिपोजिट्स के रेट्स बदले थे. इनमें 5 से 10 बेसिस प्वाइंट का बदलाव किया गया था.

बैंक ने इसके साथ ही कहा कि बैंक के जितने भी कर्मचारी हैं, उन्हें 1 करोड़ रुपये से कम की एफडी पर 1 फीसदी ज्यादा ब्याज मिलेगा. नये एफडी रेट जनरल के साथ ही वरिष्ठ नागरिकों के लिए भी लागू होंगे.

आईसीआईसीआई बैंक से पहले भारतीय स्टेट बैंक, एचडीएफसी और कैनरा बैंक भी एफडी रेट्स में बदलाव कर चुके हैं. बैंकों की तरफ से यह कदम आरबीआई के ब्याज दरें बढ़ाने के बाद उठाया गया है.

बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक ने एक अगस्त को मौद्रिक नीति की घोषणा की थी. इसमें रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोत्तरी की गई थी. इस बढ़त के साथ ही रेपो रेट 6.50 फीसदी पर पहुंच गया था.

भारतीय स्टेट बैंक ने आरबीआई के ब्याज दरों में बदलाव करने के दो दिन पहले ही एफडी रेट्स में बदलाव कर दिया था. एसबीआई ने 31 जुलाई को 1 करोड़ रुपये से कम की डोमेस्ट‍िक टर्म डिपोजिट्स के रेट्स बदले थे. इनमें 5 से 10 बेसिस प्वाइंट का बदलाव किया गया था.

You May Also Like

English News