IND vs WI: कप्तान विराट कोहली के 10000 रन का सफर हुआ पूरा!

वाइजैग: टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का क्रीज पर आना और रिकॉड्र्स बनाते देखना फैंस की आदत में शामिल हो गया है। वेस्टइंडीज के खिलाफ वाइजैग के मैदान पर कोहली ने बुधवार को एक बार फिर रिकॉड्र्स की झड़ी लगा दी।  भारतीय कप्तान ने 129 गेंदों में 13 चौकों और चार छक्कों की मदद से नाबाद 157 रन बनाए। इस दौरान वह विश्व में सबसे तेज 10000 वनडे रन पूरे करने वाले बल्लेबाज बने। चलिए विराट के 10000 रन का सफर पूरा करने से जुड़ी 10 रोचक बातों पर गौर करते हैं।


कोहली ने 213 वनडे की 205 पारियों में 10000 रन पूरे किए। उन्होंने अपने आदर्श सचिन तेंदुलकर से 54 पारी पहले यह मुकाम हासिल किया। तेंदुलकर ने 259वीं पारी में 10000 रन पूरे किए थे। विराट कोहली की औसत भी शानदार है। दस हजार रन पूरे करने वाले बल्लेबाजों में से कोहली की औसत सबसे बेहतर है। कोहली ने 59.62 की औसत से 10000 रन पूरे किए। एमएस धोनी इस मामले में दूसरे स्थान पर हैं जिनकी औसत 51.30 रही। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व ऑलराउंडर जैक्स कैलिस 45.45 की औसत के साथ तीसरे स्थान पर हैं।

विराट कोहली ने 10000 रन पूरे किए लेकिन उन्होंने 6000 से अधिक रन दूसरी पारी में बनाए। इस मामले में शीर्ष पर महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर काबिज हैं। मास्टर ब्लास्टर ने दूसरी पारी में 8720 रन बनाए हैं। इन दोनों के अलावा वेस्टइंडीज के महान बल्लेबाज ब्रायन लारा एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने पहली पारी की तुलना में दूसरी पारी में ज्यादा रन बनाए हैं। विराट कोहली दस हजारी क्लब में शामिल होने वाले भारत के पांचवें बल्लेबाज हैं। इससे पहले सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़ और एमएस धोनी यह कमाल कर चुके हैं।

बता दें कि धोनी टीम इंडिया की तरफ से दस हजार रन पूरे करने से 31 रन दूर हैं लेकिन उन्होंने एशिया एकादश के लिए रन बनाए थे जिस वजह से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उनके नाम 10ए000 से अधिक रन दर्ज हैं। श्रीलंका के चार बल्लेबाजों ने 10000 रन पूरे किए हैं। इसमें सनथ जयसूर्या, तिलकरत्ने दिलशान, कुमार संगकारा और महेला जयवर्धने शामिल हैं। इसके अलावा पाकिस्तान के इंजमाम उल हक, दक्षिण अफ्रीका के जैक्स कैलिस, वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा और ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग 10000 का आंकड़ा पार कर चुके हैं। विराट कोहली ने 9000 से 10ए000 रन तक का सफर पूरा करने के लिए केवल 11 पारियों का सहारा लिया।

उन्होंने इस दौरान पांच शतक और तीन अर्धशतक जमाए। कोहली ने 149.42 की औसत और 103.87 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए। विराट कोहली ने छह देशों के खिलाफ 1000 से अधिक रन बनाए हैं। यानी यह कहना गलत नहीं होगा कि कोहली इन देशों के लिए बुरा सपना बन चुके हैं। दाएं हाथ के बल्लेबाज ने श्रीलंका के खिलाफ सर्वाधिक 2186 रन बनाए।

वेस्टइंडीज के खिलाफ उनके 1684 रन हुए। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ कोहली 1269 रन बना चुके हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 1182 रन, न्यूजीलैंड के खिलाफ 1154 रन और इंग्लैंड के खिलाफ 1112 रन बना चुके हैं। कोहली ने 29 वर्ष 353 दिन की उम्र में 10000 रन का आंकड़ा पार किया। वह ऐसा करने वाले विश्व के दूसरे सबसे युवा बललेबाज बने। इस मामले में नंबर.1 पर सचिन तेंदुलकर काबिज हैं। महान बललेबाज ने 27 साल 341 दिन की उम्र में 10000 रन का आंकड़ा पार किया था।

विराट कोहली इन गेंदबाजों के लिए काल बने हुए हैं। वनडे में कोहली ने सबसे ज्यादा धुनाई श्रीलंका के थिसारा परेरा की करते हुए 262 रन बनाए। इसके बाद नंबर लसिथ मलिंगा का आता है। मलिंगा की गेंदों पर भारतीय कप्तान ने 236 रन बनाए। फिर नुवान कुलसेकरा के खिलाफ 202, एंजेलो मैथ्यूज के खिलाफ 196 रन, इमरान ताहिर की गेंदों पर 194 रन और टिम साउदी के खिलाफ 187 रन बनाए हैं।

You May Also Like

English News