INDvAUS: इन खिलाड़ियों के कारण यादगार बन गई टी20 इंटरनेशनल सीरीज

टीम इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की टी20 इंटरनेशनल सीरीज का आगाज जिस अंदाज में हुआ था, अंत भी वैसा ही हुआ। हैदराबाद में शुक्रवार को खेले जाने वाले तीसरे व निर्णायक टी20 इंटरनेशनल मैच में दोनों टीमों के बीच कांटे की टक्कर की उम्मीद थी, लेकिन बारिश ने फैंस के साथ-साथ दोनों टीमों के अरमानों पर पानी फेर दिया। यह मैच एक भी गेंद किए बिना रद्द हुआ और इसी के साथ सीरीज 1-1 की बराबरी पर रही। बता दें कि वर्षाबाधित पहले टी20 को टीम इंडिया ने 8 विकेट से जीता था जबकि ऑस्ट्रेलिया ने दूसरा मुकाबला 8 विकेट से जीता था। बहरहाल, इस छोटी सी सीरीज में कई रोमांचक प्रदर्शन देखने को मिले। चलिए नजर डालते हैं टॉप-5 हीरोज पर: INDvAUS: इन खिलाड़ियों के कारण यादगार बन गई टी20 इंटरनेशनल सीरीज

Happy Birthday: ये हैं गौतम गंभीर की पांच बड़ी पारियां…

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने अपनी यॉर्कर गेंदों से सीरीज में कंगारू बल्लेबाजों को पस्त कर दिया। उन्होंने सीरीज के पहले टी20 इंटरनेशनल मैच में अपनी यॉर्क गेंदों पर टीम पैन और नाथन कोल्टर नाइल को शिकार बनाया। वहीं दूसरे मैच में उन्होंने वार्नर का महत्वपूर्ण विकेट लिया। बुमराह ने सीरीज में कुल 6 ओवर किए और 42 रन खर्च करके 3 विकेट लिए। 

गुवाहाटी में टीम इंडिया को अकेले के दम पर पस्त करके WWE सुपरस्टार जॉन सीना की उपाधि पाने वाले जेसन बेहरेनडोर्फ इस सीरीज में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे। उन्होंने सीरीज में दो मैच खेले, लेकिन दूसरे मैच में अपनी छाप छोड़ी। 27 वर्षीय बेहरेनडोर्फ ने दूसरे मैच में चार ओवर में 21 देकर 4 विकेट लिए। ये उनके टी20 करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन भी रहा। बेहरेनडोर्फ का विराट कोहली को शून्य पर आउट करना मैच की हाईलाइट रहा। बता दें कि टीम इंडिया के कप्तान अपने टी20 इंटरनेशनल करियर में पहली बार बिना खाता खोले आउट हुए। बेहरेनडोर्फ को ऑस्ट्रेलिया की खोज माना जा रहा है। बेहरेनडोर्फ ने सीरीज में कुल 5 ओवर किए और 26 रन देकर चार विकेट लिए। 

चाइनामैन के लिए ये सीरीज मिली-जुली रही। पहले टी20 मैच में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीतने वाले कुलदीप यादव की दूसरे मैच में जमकर पिटाई हुई। हालांकि, एक मैच में मैन ऑफ द मैच बनने की वजह से वो इस स्पेशल लिस्ट में अपनी जगह बनाने में कामयाब रहे। कुलदीप ने पहले मैच में खतरनाक आरोन फिंच और मोइजेस हेनरिक्स को अपना शिकार बनाया था। उन्होंने इस मैच में 4 ओवर में केवल 16 रन देकर दो विकेट लिए। अगले मैच में उन्होंने 4 ओवर में 46 रन खर्च किए, जबकि कोई सफलता हासिल नहीं कर सके। कुलदीप ने सीरीज में कुल 8 ओवर में 62 रन देकर दो विकेट लिए।

दाएं हाथ के बल्लेबाज ने पांच मैचों की सीरीज के तीसरे वन-डे में चोट के बाद दमदार वापसी की। उनका ये फॉर्म टी20 सीरीज में भी जारी रहा। भले ही ऑस्ट्रेलिया की टीम पहले मैच में हारी हो, लेकिन वो फिंच ही थे, जिन्होंने एक छोर पर भारतीय बल्लेबाजों का डटकर मुकाबला किया था। फिंच ने पहले मैच में 42 रन की पारी खेली, जबकि दूसरे मैच में वो केवल 8 रन की पारी ही खेल सके। 30 वर्षीय फिंच ने 2 मैचों में 25 की औसत से 50 रन बनाए। 

मोइजेस हेनरिक्स ने दूसरे मैच में ऑस्ट्रेलिया को जीत दिलाकर सीरीज में 1-1 की बराबरी दिलाई। हालांकि, पहले मैच में वो सफल नहीं रहे और केवल 8 रन बनाकर पवेलियन लौट गए थे। मगर 30 वर्षीय हेनरिक्स ने अगले मैच में अपने प्रदर्शन में गजब का सुधार किया और 46 गेंदों में 4 चौको व इतने ही छक्कों की मदद से नाबाद 62 रन की पारी खेली। वो सीरीज में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज भी रहे। हेनरिक्स ने दो मैचों में 70 की औसत से 70 रन बनाए।

You May Also Like

English News