JDU ने तेजस्वी पर कसा तंज, तेजस्वी और शिक्षा नीति पर उठाया गया सवाल…

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद के छोटे बेटे और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है. दोनों के बीच टकराव की ताजा वजह है बिहार की शिक्षा व्यवस्था. दरअसल नीतीश ने गुरुवार को बिहार के शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए एक फरमान सुनाया जिसके तहत उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूलों में जो भी शिक्षक 50 साल की उम्र पार कर चुके हैं और निकम्मे साबित हो रहे हैं उन्हें सरकार जबरन रिटायर कराएगी.JDU ने तेजस्वी पर कसा तंज, तेजस्वी और शिक्षा नीति पर उठाया गया सवाल...खुद को CM योगी का बताया निजी सहायक, बिल्डर्स को देते थे धमकी, किया गिरफ्तार…

इधर नीतीश ने यह फरमान सुनाया उधर तेजस्वी ने बिहार के खस्ताहाल शिक्षा व्यवस्था के लिए नीतीश को ही जिम्मेदार ठहरा दिया. तेजस्वी ने तेलुगु Facebook पर लिखा कि पिछले 10-12 सालों में बिहार की जो शिक्षा व्यवस्था में गिरावट आई है उसके लिए केवल एक शख्स जिम्मेदार है और वह है मुख्यमंत्री नीतीश कुमार . तेजस्वी ने लिखा कि बिहार के शिक्षा व्यवस्था के लिए जिम्मेदार नीतीश हैं मगर वह अपनी कमियों को छुपाने के लिए शिक्षकों को बलि का बकरा बना कर हटाने का प्रयास कर रहे हैं.

आगे नीतीश पर हमला बोलते हुए तेजस्वी ने लिखा की मुख्यमंत्री भी 65 साल के पार हो चुके हैं और उनसे राज्य नहीं संभल रहा है और ऐसे में उन्हें भी संयास ले लेना चाहिए.

तेजस्वी ने कहा कि उनकी पार्टी बिहार में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की मांग उठाती रही है और अगर सरकार नहीं चेती तो शिक्षा और शिक्षकों की मांगों को लेकर आंदोलन भी किया जाएगा. इधर तेजस्वी ने नीतीश को बिहार के शिक्षा व्यवस्था के लिए जिम्मेदार क्या ठहराया, जेडीयू ने खुद तेजस्वी के शिक्षा को लेकर ही तंज कसना शुरु कर दिया. 

जेडीयू के प्रवक्ता अजय आलोक ने ट्वीट करके लिखा, “तेजस्वी और सवाल?? वह भी शिक्षा नीति पर?? अब राजनीति का मजाक उड़ेगा देश में और 9 अगस्त को गांधी जी की आत्मा कराहेगी जब यह बेतिया जाएंगे.”

गौरतलब है कि तेजस्वी खुद 9वीं पास हैं और ऐसे में जेडीयू ने उन पर ही तंज कसते हुए सवाल खड़े कर दिए कि आखिर तेजस्वी यादव किस मुंह से शिक्षा नीति पर नीतीश कुमार से सवाल कर रहे हैं???

You May Also Like

English News