एमएलसी ने विधान परिषद में बुरहान वानी को बताया शहीद

कश्मीर में खराब रहे हालात पर विधान परिषद में चर्चा के दौरान नेशनल कांफ्रेंस के एमएलसी शौकत हुसेन गनेई ने आठ जुलाई को इन काउंटर में मारे गए आतंकी बुरहान वानी को शहीद व स्वतंत्रता सैनानी बताया। एमएलसी ने विधान परिषद में बुरहान वानी को बताया शहीद
शौकत यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा जब तक कश्मीर का मसला हल नहीं होता कश्मीरी लोग बंदूक उठाते रहेंगे। शौकत के इस बयान पर पीडीपी भाजपा सदस्यों ने आपत्ति जताई। भाजपा पीडीपी सदस्यों की आपत्ति व चेयरमैन हाजी अनायत अली की ओर से शौकत को बोलने का अतिरिक्त समय न दिए जाने के बाद गनेई ने दस्तावेज उछालकर सदन से वाक आउट कर दिया।  
वाक आउट से पूर्व शौकत ने पीडीपी भाजपा गठबंधन पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा विपरीत विचारधारा के दलों के सत्ता में आने से सारी गड़बड़ हुई है।

बीएसएफ जवान ने अपने ही साथियों को आतंकी समझ चलाई गोली

उन्होंने कहा पीडीपी कहती हैं कि नेकां के कार्यकारी अध्यक्ष उमर अब्दुल्ला वाजपेयी सरकार में शामिल रहे। उस वक्त एनडीए की सरकार थी अब सरकार भाजपा और आरएसएस की है। शौकत के इतना कहने पर वह सदन में हास्य के पात्र भी बने और सत्तापक्ष के सदस्यों ने कहा कि शौकत क्या कह रहे है उन्हें पता नहीं।

‘सदन में हो रहा उकसावे वाले शब्दों का प्रयोग’

पीडीपी सदस्य फिरदोस टाक ने कहा कि सदन से उकसावे वाले शब्दों का इस्तेमाल किया जा रहा है जो गलत है। उन्होंने कहा कश्मीर के युवा बंदूक उठाते रहेंगे का मतलब साफ करना चाहिए।

गहरे दरियाई नाले में गिरी स्कार्पियो, 7 की मौत

आखिर नेशनल कांफ्रेंस चाहती क्या है। इन्ही लोगों ने कश्मीर में हालात खराब किए है। पीडीपी के ही यासिर रेशी ने भी शौकत के बयान की निंदा की।  भाजपा एमएलसी रमेश अरोड़ा ने कहा सदन की मर्यादा है। इसलिए यहां से ऐसे शब्दों का प्रयोग नहीं होना चाहिए जिससे कश्मीर में भटके युवाओं को प्रोत्साहन मिले। भाजपा के ही अशोक खजूरिया ने कहा कश्मीर भारत का अटूट अंग हैं और कोई माई का लाल इसे अलग नहीं कर सकता। 
 चर्चा का जवाब देते हुए सरकार की तरफ से शिक्षा मंत्री नईम अख्तर ने कहा सदन में बुरहान वानी को शहीद बताया गया है और जंग होती रहेगी कहा गया है। किसी के लिए बुरहान विलियन है और किसी के लिए हीरो।
पड़ोसी के बेटे को कश्मीर में कहते हैं शहीद होने को आगे बढ़ो और अपने बेटे को पब्लिक स्कूलों व विदेशों में भेजते है। उन्होंने कहा कश्मीर में इनकाउंटर होते रहते है। पहले भी हुए। कोशिश होनी चाहिए कि भटके नौजवान मुख्यधारा में आएं ताकि ऐसी स्थिति ही पैदा न हो। 

 

You May Also Like

English News