#KarnatakaFloorTest :कर्नाटक में भाजपा के यू-र्टन के पीछे क्या है खेल?

बेंगलोर: विधानसभा में बहुमत परीक्षण से पहले बीएस येदियुरप्पा का पद से इस्तीफा देने के लिए पीछे का असली खेल क्या है, यह तो आने वाला वक्त ही तय करेगा, पर ऐसी चर्चा है कि बीएस येदियुरप्पा ने भाजपा हाईकमान के कहने वाले पद से इस्तीफा दिया है। भाजपा अपनी इस हार को भी जीत में बदलकर जनता के बीच 2019 चुनाव में जाना चाहती है।


कुछ जानकार यह मानते हैं कि भाजपा ने अचानक कर्नाटक में यू-र्टन एक सोची-समझी रणनीति है। कर्नाटक की सत्ता हाथ से खो कर भी भाजपा जनता के बीच अपनी जीत दर्शाना चाहती है। राजनीति के जानकार कहते हैं कि खरीद-फरोख्त और धन व बहुबल के लगे रहे आरोप को ध्यान में रखते हुए भाजपा हाईकमान ने कर्नाटक में सत्ता से दूर रहने का फैसला किया।

अगले ही साल यानि वर्ष 2019 में लोकसभा चुनाव है। ऐसे में भाजपा कर्नाटक की हर को भी अपनी जीत दर्शाते हुए जनता के बीच जाने की सोच रही है। वहीं कुछ जानकार यह भी मना रहे हैं कि कर्नाटक में अब बनने वाले कांग्रेस और जेडीएस की सरकार भी ज्यादा दिन की महमान नहीं होगी।

दोनों पार्टियों में सत्ता हासिल करने के बाद भी टकराव की स्थिति पैदा हो सकती है। ऐसे में फिर भाजपा इस टकराव को फायदा उठाते हुए सत्ता हासिल करने की सोच सकती है। फिलहाल कर्नाटक में बदले समीकरणों को लेकर कांग्रेस और जेडीएस में खुशी की लहर है। कांगे्रस के अलावा मायावती, अखिलेश यादव और ममता बनर्जी ने भी कर्नाटक में जीत को लोकतंत्र की जीत बताया।

वहीं इस मौके पर मीडिया को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी और आरएसएस पर बड़ा निशाना साधा है। उन्होंने बताया कि भाजपा और संघ देश की सभी संवैधानिक संस्थानों को हथिया चाहती है। इसके लिए वह किसी भी हद तक जा सकते हैं। अब देखा यह होगा कि कर्नाटक में भाजपा की हार उसके लिए क्या रंग लाती है?

You May Also Like

English News