गुरु माँ की डायरी – TOS News https://tosnews.com Latest Hindi Breaking News and Features Mon, 06 Aug 2018 12:17:15 +0000 en-US hourly 1 https://wordpress.org/?v=4.9.8 https://tosnews.com/wp-content/uploads/2017/03/tosnews-favicon-45x45.png गुरु माँ की डायरी – TOS News https://tosnews.com 32 32 डायरी दिनांक 27 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को https://tosnews.com/%e0%a4%a1%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%95-27-%e0%a4%ae%e0%a4%88-2017-%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%81-%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%81/42855 Sun, 28 May 2017 12:32:50 +0000 https://tosnews.com/?p=42855 27 मई 17…आज मैंने श्रीगुरुजी से पूछा,” **जो दिखता है, वह होता नहीं**, का कोई उदाहरण देंगे आप? “ श्रीगुरुजी बोले, ” अरे!बहुत आसान

The post डायरी दिनांक 27 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>

27 मई 17…आज मैंने श्रीगुरुजी से पूछा,” **जो दिखता है, वह होता नहीं**, का कोई उदाहरण देंगे आप? “
श्रीगुरुजी बोले, ” अरे!बहुत आसान है।अपने आस- पास ही देख लो… जो मेरे -आपके सामने लोग दिखाते हैं, वे वैसे होते कहाँ हैं….मेरी – आपकी छोटी – मोटी ज़रूरतों से लेकर आश्रम में कुछ बड़ा काम/ दान करने तक number game ही तो है।”
डायरी दिनांक 27 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु कोमैं मन ही मन इनसे सहमत थी फिर भी इन्हें दुख न हो ,इसलिए बोली, ” पर सारे ऐसे नहीं… कुछ लोग सच में मुझसे- आपसे प्रेम करते हैं, इसलिए वे काम करते हैं।”
ये मुस्कुराए और बोले,” मेरे- आपके लिए अगर करते हैं तो यह बात क्यों नहीं समझते कि हमें ज़्यादा खुशी तब होगी जब वे हमारे मन की भावनाएं समझेंगे…आपस में एकजुट होंगे, एक दूसरे से प्रेम करेंगे, हमारा संबल बनेंगे…एक दूसरे से होड़ न करके, एक दूसरे को सहयोग देंगे, हमारा लक्ष्य पूरा करने में मदद करेंगे।”
इन्होंने जैसे मेरे भी मन की पीड़ा को शब्द दे दिए थे…मैंने अपनी आंखों के लाल डोरे छुपाते हुए कहा,” कर तो रहे हैं सब अपने- अपने ढंग से…. पर परिवर्तन आते- आते ही तो आएगा….मैं मानती हूं, कुछ लोग जो दिखाते हैं, वैसे हैं नहीं…पर अगर हम उन्हें सिखाएंगे तो धीरे- धीरे सब ठीक हो जाएगा….।”
(आंखों के कोर के साथ- साथ मन भी गीला हो गया है, सो इसके आगे कल ही बता पाऊंगी…)

 
 
 

The post डायरी दिनांक 27 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>
डायरी दिनांक 23 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को https://tosnews.com/%e0%a4%a1%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%95-22-%e0%a4%ae%e0%a4%88-2017-%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%81-%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%81/42108 Wed, 24 May 2017 12:36:56 +0000 https://tosnews.com/?p=42108 23 मई 17…. सर्वप्रथम, पाकिस्तान के विरुद्ध उठाये जा रहे कदम के लिए बधाई। श्रीगुरुजी कभी – कभी आश्रम सदस्यों से चुहल भी करते

The post डायरी दिनांक 23 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>

23 मई 17…. सर्वप्रथम, पाकिस्तान के विरुद्ध उठाये जा रहे कदम के लिए बधाई।
श्रीगुरुजी कभी – कभी आश्रम सदस्यों से चुहल भी करते हैं। एक बार की बात बताती हूँ।श्रीगुरुजी रात में अक्सर library में बैठ जाते हैं और आश्रम में रुके हुए सदस्यों के साथ सत्संग करते हैं।ऐसे में किसी भी प्रकार की औपचारिकता इन्हें अच्छी नहीं लगती और साथ में इनका यह भी कहना है कि जिसे भी भूख लगे या नींद आये ,तो निःसंकोच उठ जाए पर लोग जब ऐसा नहीं करते तो वे मीठे रूप में उन्हें सताते भी खूब हैं।
डायरी दिनांक 23 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु कोहाल-फिलहाल में, रात में सत्संग चल रहा था, एक सज्जन खाना खाने से रह गए थे, उनसे बार -बार खाने को कहा गया पर संकोच से वह उठ नहीं रहे थे।श्रीगुरुजी ने उन्हें मज़ा चखाने की सोची….वे ढाई घंटे तक बिना रुके प्रवचन देते रहे…तब तक तो रसोई भी बंद हो गयी।
इतने में एक और सदस्य आये जिन्हें अक्सर देर रात के सत्संग में नींद घेर लेती है…तो जैसे ही वह सदस्य भीतर आये, श्रीगुरुजी बोले,” हां भई…. सोने के लिये इन्हें एक कुर्सी दो…।”
ये दो वाक्ये निपटे ही थे, इतने में मैं वासु को सुला कर सत्संग में उपस्थित हुई। मुझे देखकर लोग, खड़े होकर अपनी कुर्सी देने लगे…मैं इशारे में सबको शांति से बैठे रहने को कह ही रही थी कि ये बोले,” इन लोगों को लगता है कि आप 8 कुर्सियों पर बैठेंगी…।”
मैं चुप और बाकी चुप-चाप जहां खड़े थे, वहीं बैठ गए…।
….तो next time, श्रीगुरुजी के साथ सत्संग में बैठने वालों …take care😊 नींद आये तो सोने चले जाना, समय रहते ही खाना खा लेना, फायदा क्या…न सो पाओ, न खा पाओ और मन लगा कर सुन भी न पाओ….

 
 
 

The post डायरी दिनांक 23 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>
डायरी दिनांक 22 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को https://tosnews.com/%e0%a4%a1%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%95-13-%e0%a4%ae%e0%a4%88-2017-%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%81-%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%81-2/41901 Tue, 23 May 2017 12:50:14 +0000 https://tosnews.com/?p=41901 22 मई 17…हां तो, 2-3 दिन पहले मैंने बताया था न कि श्रीगुरुजी से एक लंबी चर्चा हुई, आज उसी की एक और कड़ी

The post डायरी दिनांक 22 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>

22 मई 17…हां तो, 2-3 दिन पहले मैंने बताया था न कि श्रीगुरुजी से एक लंबी चर्चा हुई, आज उसी की एक और कड़ी बताती हूँ। श्रीगुरुजी अक्सर कहते हैं कि समाज से अच्छा कोई teacher नहीं… उस दिन भी library में हमारे साथ बैठे उसी बच्चे से ये बोले, ” मैंने अनेक बार बड़े

डायरी दिनांक 22 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को– बड़े काम कई लोगों के साथ शुरू तो किये पर कुछ धनाभाव के कारण पूरे नहीं हो पाए और कुछ में, जब मुझे बड़े- बड़े लोगों की स्वार्थपरस्ती दिखी, तो मैं ही छिटक गया…इन सब में मुझे कई बार दुःख भी मिलता है…पर मुझे तो काम करना है, सो फिर से शुरू करता हूँ।”
मैंने तुरंत पत्नी वाली भूमिका में कहा,” मैं जब आपसे कहती हूँ कि अमुक व्यक्ति मुझे रुचता नहीं तो आप मेरी बात भी तो नहीं मानते…”, फिर माँ वाली भूमिका में आकर, उसी बच्चे से बोली, ” अगर मेरी बात मान लें, तो दुख ही न हो…”।
इन्होनें उस बच्चे की ओर देखते हुए कहा,” लगता है भूल गयी हैं कि ये खुद भावनाओ में पसीज कर, अक्सर मुझे फंसा देती हैं और फिर मजबूर भी करती हैं कि मैं इनकी बात मानूँ…”।फिर संजीदा होते हुए बोले,” …ये बात ठीक है कि आपकी बात मान लूँ तो दुःख नहीं होगा पर नुकसान और बड़ा होगा कि अनुभव भी नहीं होगा ….अनुभव नहीं कमाया तो इन बच्चों को क्या सिखा पाऊंगा… फिर इन्हें खुद ठोकर खाकर सीखना पड़ेगा, इन सबमें कितना समय निकल जायेगा… इससे तो अच्छा ठोकर मैं खाऊं और मेरे अनुभव से फायदा ये लें और जल्दी- जल्दी समाज के लिए तैयार हों…”।
बात बहुत पते की कह दी,* सावधान रहने से दुःख तो नहीं होगा पर अनुभव से भी वंचित रहना होगा*
(हाँ …ये अलग बात है कि इस पते की बात पर पहुंचने में उस बच्चे का हम दोनों ने एक बार फिर shuttle- cock बनाया…कभी वह मेरी ओर देख कर हाँ में हां मिलाता…कभी इनकी ओर देखकर सर हिलाता…)

The post डायरी दिनांक 22 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>
डायरी दिनांक 21- मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को https://tosnews.com/%e0%a4%a1%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%95-20-%e0%a4%ae%e0%a4%88-2017-%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%81-%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%81-2/41749 Mon, 22 May 2017 12:46:10 +0000 http://www.tosnews.in/?p=41749 21- मई,17….क्षमा चाहती हूँ आज बहुत लेट हो गयी। दरअसल कार्यक्रम स्थल से अभी लौटी हूँ | आज का दिन बहुत सार्थक चर्चा में

The post डायरी दिनांक 21- मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>

21- मई,17….क्षमा चाहती हूँ आज बहुत लेट हो गयी। दरअसल कार्यक्रम स्थल से अभी लौटी हूँ | आज का दिन बहुत सार्थक चर्चा में व्यतीत हुआ। श्रीगुरु जी ने बहुत से मुद्दे रखे…. क्या कर रहा है पाकिस्तान, क्यूँ कर रहा है, चीन से उसका क्या सम्बन्ध है, NARCO Terrorism क्या है, कौन हैं कश्मीर में भारत विरोधी लोग, क्या इस अभियान को पाकिस्तानी जनता का समर्थन है, देश के अन्दर आतंकियों को fund कहाँ से आता है , इत्यादि |डायरी दिनांक 21- मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को
Col. R.S.N. Singh जी ने कश्मीर का पूरा भूगोल समझाया | वो पूरी तैयारी से थे …..कश्मीर का कौन सा हिस्सा सबसे ज्यादा exposed to danger है….. ।उन्होंने कहा कि अमरनाथ की यात्रा और माँ वैष्णों देवी की यात्रा अगर न होती तो हमारे राजनीतिक प्लेट में रख कर कश्मीर पाकिस्तान को सौंप चुके होते…”. यानि जनता का दबाव कितना जरुरी है |
श्री पुष्पेन्द्र जी जो अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पत्रकार हैं, ने कहा ,” हमारे पास narratives नहीं हैं, पाकिस्तानियों को जवाब देने के लिए और इसलिए हम चुप रह जाते हैं | वे हमारे खिलाफ़ नारे लगाते हैं और हम चुपचाप घरों में बंद रहते हैं | जब किसी आतंकवादी के जनाज़े पर भीड़ उमड़ती है,JNU में भारत विरोधी नारे लगते हैं पर फैयाज़ के मरने पर हम क्यूँ नहीं कहते, ‘फैयाज़ हम शर्मिंदा हैं, तुम्हारे कातिल जिंदा हैं ।’ उन्होंने यह भी कहा कि अगर जनता आवाज़ नहीं उठाएगी तो कोई कुछ नहीं करेगा |
स्वामी जितेन्द्रानंद जी महाराज ने संतों की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए कहा, “संतों का काम है कि समस्याओं के हल बताएं, जन-जागरण करें” | उन्होंने भी एक बात कही कि “अगर जनता ठंडी हो जाती है, तो राजा को ठंडा होने में देर नहीं लगती”|
श्रीगुरु जी ने concludeकरते हुए कहा कि अब पूजा पाठ करने का समय नहीं, देश के लिए जीने का और कर्म करने का समय है |
Discussion तो बहुत लम्बा चला – शहीद परिवार का सम्मान हुआ, श्रीगुरु जी ने अपनी आय में से कुछ राशि National Forces Fund को contribute भी करी | आप सोच ही सकते हैं कि चार घंटे तक चलने वाले कार्यक्रम में क्या-क्या चर्चा नहीं हुई होगी पर मैं इतना ही बताउंगी….सारा जानना था तो आये क्यों नहीं ?😢
एक चीज़ गौर करी आपने – सारे Experts ने एक बात कही, जनता चाहे तो सब कुछ हो सकता है, वर्ना कुछ नहीं…अब याद करिए जब श्रीगुरु जी पाकिस्तानी झंडा जलवा रहे थे तो उन्होंने भी यही कहा था, “पाकिस्तानी झंडा जलाओ….Facebookपर share करो, और लोग भी motivate होंगे तोPublic Opinion form होगी और आवाम की आवाज़ ही देश की किस्मत बदल सकती है”|
Experts ने जो हमें समझाया वह तो महत्वपूर्ण था ही ,साथ ही यह दिन इसलिए भी महत्वपूर्ण था कि श्रीगुरु जी के आवाहन पर जैसे आश्रम परिवार और अन्य लोग उमड़ पड़े थे….अलग-अलग शहरों से भी पधारे थे | कार्यक्रम का अंत एक और पाकिस्तानी झंडा फूंक कर हुआ…
नींद अब उड़ चुकी है, काम भी बहुत है….कल मिलते हैं…..

 
 
 

The post डायरी दिनांक 21- मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>
डायरी दिनांक 20 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को https://tosnews.com/%e0%a4%a1%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%95-20-%e0%a4%ae%e0%a4%88-2017-%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%81-%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%81/41524 Sun, 21 May 2017 11:50:35 +0000 http://www.tosnews.in/?p=41524 20 मई 17….कल की चर्चा आगे बढाती हूँ…| विचारक वाली बात पूर्ण हो भी नहीं पाई थी कि आश्रम के एक बच्चे ने श्रीगुरुजी

The post डायरी दिनांक 20 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>

20 मई 17….कल की चर्चा आगे बढाती हूँ…| विचारक वाली बात पूर्ण हो भी नहीं पाई थी कि आश्रम के एक बच्चे ने श्रीगुरुजी से अपना दुखड़ा रखा कि बहुत सारे लोग सत्संग में आते हैं पर अन्दर आकर libraryमें या dormitory में आराम ही करते हैं…

ओहो | फिर तो जैसे भूचाल ही आ गया….| श्रीगुरुजी बोले, ” ऐसे लोगों को सत्संग में कोई रुचि होती ही नही… खाली एक ritual सा पूरा करते हैं कि हमने महीने का अंतिम रविवार कर दिया आश्रम के नाम….| अब boundary के अन्दर आ गए, ritual पूरा हो गया, चाहे सत्संग में बैठें या dormitory में… और वैसे भी सत्संग में जो बैठते भी हैं वे भी कहाँ प्रवचन सुनते हैं…. नहीं तो मैं लगभग हर बार कहता हूँ कि कोई भी दुःख हो, मंदिर में ऊपर मैया से प्रार्थना करो, वे ही कष्ट दूर करेंगी, ध्यान मंदिर में जाओ… कुछ पल भीतर की यात्रा करो… कष्ट न दूर हो, तब की बात है … पर सत्संग पूर्ण होते ही मैंने देखा है लोग संध्या प्रसाद की लाइन में लग जाते हैं… ” उनकी नाक फिर फूलने लगी थी… इतने में उनके लिए खरबूजा आया और आमतौर पर तरबूज पसंद करने वाले आपके श्रीगुरुजी गुस्से में खरबूजा भी खा गए, फिर बोले “ क्या रहता है संध्या प्रसाद में?” मैं धीरे से बोली “ जो भी कोई सदस्य भोग में चढ़ाना चाहे… ”
” तो फिर ठीक है , इस बार प्रसाद मैं बांटूंगा और वो भी उन्हें जो मंदिर से उतर रहे होंगे …|ये दृढ़ निश्चय से बोले।
इनका यह वाक्य सुनकर आश्रम के बच्चे ने कहा, “ नहीं-नहीं गुरूजी… हम कर लेंगे…” पर गुरूजी ने खाते हुए उसे जैसे ही घूर कर देखा , उसने चुप रहने में ही भलाई समझी| मैंने भी उसका हाथ दबा कर चुप रहने का संकेत दिया | हम सब फिर चुपचाप खरबूजा खाते रहे… मुझे लगा सब निपट गया… अचानक मेरे सुपुत्र जो वहां अपना holiday homework कर रहे थे… बीच में बोल पड़े… ” हाँ ,आप प्रसाद बांटेंगे तो लोग दुबारा-दुबारा नहीं ले पाएंगे … और फिर सबको मिल पायेगा…| ”
फिर इन्होंने क्या कहा होगा ,ये आप सब सोच ही सकते हैं .. मैं सिर्फ hint दूंगी – ” खाना …. बतियाना … सोना …. क्यों आना …. समर्पण …..??? ” (blanks आप खुद भर लें )

हाँ, तो कल मिलते हैं…..21 मई…

 

The post डायरी दिनांक 20 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>
डायरी दिनांक 4 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को https://tosnews.com/38491-2/38491 Fri, 05 May 2017 13:58:18 +0000 http://www.tosnews.in/?p=38491 4 मई 17….कल श्रीगुरूजी ने आश्रम में पाकिस्तान का झंडा जलाया, हम सभी उनके साथ थे, आश्रम परिवार के एक-दो लोगों ने भी पाकिस्तान

The post डायरी दिनांक 4 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>

4 मई 17….कल श्रीगुरूजी ने आश्रम में पाकिस्तान का झंडा जलाया, हम सभी उनके साथ थे, आश्रम परिवार के एक-दो लोगों ने भी पाकिस्तान का झंडा बनाकर, उसे जलाया और उसकी videoes भेंजी। यह देख मेरा ही नहीं श्रीगुरुजी का भी मन खुशी से भर गया।

डायरी दिनांक 4 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु कोमुझे लगा यही क्रांति तो श्रीगुरूजी चाहते थे, कम से कम एक बच्ची ने इसकी शुरुआत तो करी…. पर एक पीड़ा भी छलक आई ….कुछ श्रीगुरूजी को गुरु रूप में मानते होंगे,.…. क्योंकि वह university में पढ़ाते भी हैं तो कुछ उनके students होंगे, कुछ उनके fans होंगे, कुछ followers होंगे, कुछ उन्हें मित्र, तो कुछ उन्हें बड़ा भाई भी मानते होंगे,….चलिए कुछ नहीं भी मानते होंगे ,तो 9-10 साल से जो उन्हें T. V. पर देख रहे है और श्रीगुरुजी की बताई हुई किसी छोटी सी बात से भी उन्हें फायदा हुआ हो या प्रेरणा मिली हो या कुछ भी …उन्होंने भी पाकिस्तान के खिलाफ कहीं कोई आक्रोश नहीं दिखाया….
श्रीगुरुजी ने पाकिस्तान का झंडा जलाने से पहले अपने video में कहा था (अगर आपने देखने का समय निकाला हो तो ) कि हर कोई एक पाकिस्तानी झंडा paint करे और उसे जलाए, social media पर उसकी photos डाले तो एक public opinion form होगी और देश के जवानों को ये पता चलेगा कि हम उनके साथ हैं। पर अफसोस.. किसी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं की। जो श्रीगुरुजी से किसी भी रूप में जुड़े हैं, उनसे अपनी मन की बात कह रही हूँ ….आप से ही आपकी शिकायत कर रही हूं ….

 
 
 

The post डायरी दिनांक 4 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>
डायरी दिनांक 2 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को https://tosnews.com/%e0%a4%a1%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%95-2-%e0%a4%ae%e0%a4%88-2017-%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%81-%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%81/38268 Wed, 03 May 2017 13:14:33 +0000 http://www.tosnews.in/?p=38268 2 मई 17….जब श्रीगुरुजी के साथ बंधन में बंधी तो लगा कि सारा भविष्य पता चल जाएगा, अहा कितना आनंद है! (ये अलग बात

The post डायरी दिनांक 2 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>

2 मई 17….जब श्रीगुरुजी के साथ बंधन में बंधी तो लगा कि सारा भविष्य पता चल जाएगा, अहा कितना आनंद है! (ये अलग बात है कि मुझे भी अपने जन्मदिन पर वार्षिक फल T .V. के कार्यक्रम से ही पता चलता है)।जब-जब ये पता चला कि यह साल बुरा होगा….

डायरी दिनांक 2 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को

चाहे T.V. के माध्यम से ही सही…वह साल बुरा तो गुज़रा पर पहले से prepared होने के कारण उन मुश्किल लम्हों से लड़ सकी और कामयाब भी हुई पर तस्वीर का दूसरा पहलू…., जब यह पता हो कि भविष्य में क्या होना है और सारे घटनाक्रम उसी भंवर की ओर ढकेलते से दिखते हों, तो कैसी लाचारगी सी महसूस होती है …और लगता है कोई तो रोक लो…और कोई रत्न, कोई धागा, कोई उपाय नहीं जो नियति को रोक सके…
श्रीगुरुजी कहतें हैं कि मातारानी से प्रार्थना सर्वोपरि उपाय है पर जब ऐसा होने लगे कि प्रार्थना तो करो पर माँ से कुछ मांग न सको, तो क्या यह संकेत है कि नियति तय है, या कुछ न मांग सकने से यह अदम्य विश्वास झलकता है कि… माँ हैं तो सब ठीक ही होगा…और यही विश्वास, कुछ मांगने नही देता। श्रीगुरुजी यह भी कहते हैं कि ऊपरवाले के रास्ते पर चलो,तो वह हाथ पकड़कर सब मुश्किलों से निजात दिलाता है ।
आप सोच रहे होंगे, कि आज मैं यह क्या लिख रही हूं।दरअसल कल एक सज्जन आये थे जो कह गये ,” आप तो श्रीगुरुजी से सब पहले ही जान लेती होंगी और फिर पहले से ही उपाय भी कर लेती होंगी…..”, उनसे जो कहा और जो अनकहा रह गया, वह सब यहां कह गयी…

 
 
 

The post डायरी दिनांक 2 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>
डायरी दिनांक 1 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को https://tosnews.com/38094-2/38094 Tue, 02 May 2017 13:08:28 +0000 https://tosnews.com/?p=38094 1 मई 17….बात तब की है जब मेरे पास simple phone हुआ करता था जिससे msg टाइप करने में बार – बार keys दबानी

The post डायरी दिनांक 1 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>

1 मई 17….बात तब की है जब मेरे पास simple phone हुआ करता था जिससे msg टाइप करने में बार – बार keys दबानी पड़ती थीं। श्रीगुरुजी ने एक बार देखा कि मैं mail इत्यादि का काम भी फोन से ही करती हूं, सो उन्होंने मेरे लिए एक smart phone मंगवाया,जो मेरे लिए surprise gift था। मैंने उस phone से उन्हें एक msg भेजा और typing convenience की वजह से खुश होकर तुरंत ही इन्हें call किया।
डायरी दिनांक 1 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु कोमैं इधर से,” एक बात कहनी थी आपसे, इसलिये आपको studio में disturb किया….ये फोन तो बहुत ही अच्छा है, मैंने जैसे ही I want टाइप किया, इसने तुरंत ही कई options दे दिए….say, thank, tell और भी 2-3 थे।”
ये उधर से,” अच्छा…options भी आते हैं…बड़ा interesting फोन है।”
” और पता है कि spellings भी पूरी -पूरी खुद आ जाती हैं…”, मैं जोश में बोली जा रही थी।
” बहुत खूब …फिर तो आपको काम करने में आराम हो जाएगा…., ” ये भी बहुत खुश सुनाई दे रहे थे।
” ठीक है, आप जल्दी घर आइए, फिर मैं आपको फोन दिखाती हूँ ,” कह कर मैंने फ़ोन रख दिया। phone रखते ही realize हुआ कि ये तो तकरीबन एक-डेढ़ साल से smart phone use कर रहे हैं…तो इन्हें तो typing options वाली बात पता ही होगी।
….फिर इनसे अपनी बात-चीत सोच कर खुद पर हंसी भी आई और एक गहन विचार, हम कुछ भी इन्हें बताते हैं…ये सोच कर कि ये नया idea है या इन्हें नही पता होगा, ….ये सारी बात इतने उत्साह से सुनते हैं कि सामने वाला सातवें आसमान पर होता है कि आज हमने गुरुजी को suggestions दिये… ये दिमाग में ही नहीं आता कि हमें धैर्य के साथ सुनकर ये हमारा मन रख लेते हैं…
फिर मुझे थोड़ा सा गुस्सा भी आया कि ये बता नहीं सकते थे कि मुझे सब पता है , मैं तो कब से ऐसा फ़ोन use कर रहा हूँ….फिर अपनी जोश भरी बातों पर हंसी भी छूट गयी….सो मैंने कोई गुस्सा नहीं किया।☺☺

 
 
 

The post डायरी दिनांक 1 मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>
डायरी दिनांक 30 अप्रैल 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को https://tosnews.com/37876-2/37876 Mon, 01 May 2017 13:25:48 +0000 https://tosnews.com/?p=37876 30 अप्रैल 17…..आज की डायरी में सिर्फ मेरे मन के भाव…. न धरती की परिक्रमा रुकती है, न सूर्य और चंद्र का अपना कर्म…उत्तरदायित्व

The post डायरी दिनांक 30 अप्रैल 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>

30 अप्रैल 17…..आज की डायरी में सिर्फ मेरे मन के भाव….
न धरती की परिक्रमा रुकती है, न सूर्य और चंद्र का अपना कर्म…उत्तरदायित्व का निर्वाह करने वाले क्या कभी थक कर बैठते हैं ?
थके हुए प्राणियों को नींद की थपकियाँ देने के लिए, सूरज, चंद्रमा को उत्तरदायित्व दे, खुद सोते हुओं को जगाने चला जाता है….. पर कोई ऐसा भी होता है, जो सूरज के साथ चलता है और चंद्रमा के साथ जागता है….

डायरी दिनांक 30 अप्रैल 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु कोअरे!क्या इत्तेफ़ाक़ है,….. लिखते -लिखते मुझे याद आया कुछ ऐसे ही भाव कभी श्रीगुरुजी ने भी लिखे थे,…. आप सब के लिए, वह कविता भी भेज रही हूं…

 

The post डायरी दिनांक 30 अप्रैल 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>
डायरी दिनांक 28 अप्रैल 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को https://tosnews.com/%e0%a4%a1%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%95-28-%e0%a4%85%e0%a4%aa%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a5%88%e0%a4%b2-2017-%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%b0/37567 Sat, 29 Apr 2017 13:06:43 +0000 https://tosnews.com/?p=37567 28 अप्रैल 17… ( श्रीगुरुजी अपने कक्ष में ) मैंने पूछा,” शनि यदि ग्रह है, तो इसको देवता क्यों कहते हैं? “ ” इसके

The post डायरी दिनांक 28 अप्रैल 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>
28 अप्रैल 17… ( श्रीगुरुजी अपने कक्ष में ) मैंने पूछा,” शनि यदि ग्रह है, तो इसको देवता क्यों कहते हैं? “
” इसके लिए आपको देवता, भगवान, ईश्वर के बीच का अंतर समझना होगा… फिलहाल यह जानिए कि जो भी कुछ देता है, उसे देवता कहते हैं, जैसे सूर्य देव, वरुण देव इत्यादि …देवता का अर्थ भगवान नहीं है, ये कम से कम70- 75 हज़ार साल पहले की शब्दावली है जो तब इसी अर्थ के लिए प्रयुक्त होती थी, आज देवता कहते ही हम serials की वजह से कल्पना करने लगते हैं कि देवता …मतलब …मुकुट पहने बादलों से पुष्प वर्षा करने वाले अलौकिक लोग ….” ये हंसते हुए बोले।
डायरी दिनांक 28 अप्रैल 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को“पर शनि हमें देता क्या है ?” मैंने और clarity के लिए पूछा ।
“देता है ना, …..अपना aura, अपना प्रभाव, अपनी radiations, अपना नीला प्रकाश…” ये अपनी किताबें ठीक करते हुए बोले ।
” ओहो!कहाँ से कहाँ….अर्थ से अनर्थ पर आ गए हम….देवता वाली बात तो जी बिल्कुल clear हो गयी… पर हम शनि से इतना डरते क्यों हैं ?” मैं बोली।
( किताबें तो उन्होंने side में कर दीं ) ” ग्रह कोई डरने की चीज़ नहीं है …पहले लोग डरते भी नहीं थे , ये तो धीरे- धीरे जब मनुष्य में लालच बढ़ने लगा, महत्वाकांक्षा बढ़ने लगी, अपना वर्चस्व स्थापित करने की भूख बढ़ने लगी…और इधर लोगों ने अपने शास्त्रों को पढ़ना-समझना बंद कर दिया तो कुछ तथाकथित विद्वान मन-गढ़न्त कहानियां बनाकर, देवता का हौआ बनाकर, अपनी जेबें भरने के लिए, देवता के agent बन गए और हमारी अज्ञानता का जी भर फायदा उठाने लगे। बिना डराये ये काम बनता नहीं… सो हमें खूब डराया …और हम डर गए…”, ये डरने की acting करते हुए बोले। ” जी …जी..पहले भी आप बता चुके हैं कि हम डर के मारे ही तो कभी वैभव लक्ष्मी, तो कभी संतोषी माँ को अपने पूजा घर में add करते रहते हैं, उनसे प्रेम है, इसलिये थोड़े ही न पूजते हैं, बल्कि इसलिए कि शायद वो मुराद पूरी कर दें,…यही रहता है दिमाग में…. । अच्छा, ये बताइये कि फिर हमें शनि के उपाय फलते कैसे हैं? ”

The post डायरी दिनांक 28 अप्रैल 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को appeared first on TOS News.

]]>