#2019 – TOS News https://tosnews.com Latest Hindi Breaking News and Features Sat, 11 Aug 2018 08:37:07 +0000 en-US hourly 1 https://wordpress.org/?v=4.9.8 https://tosnews.com/wp-content/uploads/2017/03/tosnews-favicon-45x45.png #2019 – TOS News https://tosnews.com 32 32 Politics: कन्हैया कुमार के लोकसभा चुनाव लडऩे की चर्चा तेज, जानिए कौन सी सीट से लड़ सकत हैं! https://tosnews.com/politics-%e0%a4%95%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%b9%e0%a5%88%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%95%e0%a5%81%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b2%e0%a5%8b%e0%a4%95%e0%a4%b8%e0%a4%ad%e0%a4%be/138009 Wed, 25 Jul 2018 05:35:04 +0000 https://tosnews.com/?p=138009 बिहार: लोकसभा चुनाव का वक्त जैसे-जैसे करीब आ रहा है, वैसे-वैसे अटकलों का दौरा भी तेज होता जा रहा है। अब अगर बिहार की राजनीति

The post Politics: कन्हैया कुमार के लोकसभा चुनाव लडऩे की चर्चा तेज, जानिए कौन सी सीट से लड़ सकत हैं! appeared first on TOS News.

]]>
बिहार: लोकसभा चुनाव का वक्त जैसे-जैसे करीब आ रहा है, वैसे-वैसे अटकलों का दौरा भी तेज होता जा रहा है। अब अगर बिहार की राजनीति की बात की जाये तो ऐसी चर्चा है कि यहां पर विपक्षी दल एकजुट होकर भाजपा के खिलाफ चुनाव लडऩे का मन बना रही हैं। इस पर एक बड़ी खबर भी सामने आ रही है कि जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार के बिहार से लोकसभा चुनाव लडऩे की चर्चा हैण् वे महागठबंधन के उम्मीदवार हो सकते हैं।


चर्चा है कि भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी पूर्व जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को उनके गृह जिला बेगूसराय सीट से उम्मीदवार बना सकती है। बता दें कि कन्हैया बेगूसराय जिले के बरौनी प्रखंड के बीहट पंचायत के निवासी हैं। साल 2016 में जेएनयू के अध्यक्ष रहने के दौरान कन्हैया कुमार पर देशद्रोही नारे लगाने के आरोप लगे थे।

कन्हैया को पुलिस हिरासत में भी लिया गया था लेकिन बाद में हाईकोर्ट से उन्हें केस में जमानत मिल गई थी। कन्हैया भी कई मंचों पर चुनाव लडऩे की बात कर चुके हैं। बेगुसराय में सीपीआई की जमीन मजबूत रही है और इस पार्टी का इस क्षेत्र में अच्छा जनाधार रहा है। हालांकि हाल में ही यहां के वोटर बीजेपी के साथ नजर आए हैं। लोकसभा चुनाव 2014 में पहली बार बीजेपी को इस सीट से जीत मिली थी।

सूत्रों के मुताबिक सहयोगी दलों के बीच अब तक की वार्ता के अनुसार बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से लगभग आधी सीटों पर लालू की पार्टी आरजेडी लड़ेगी, कांग्रेस को 10 और हम को 4 सीटें मिलने की संभावना है। इसके अलावा एनसीपी और वाम दल को एक-एक सीट दी जा सकती है। वर्ष 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव के बाद राज्य में अपने विधायकों की संख्या बढऩे के मद्देनजर कांग्रेस द्वारा और अधिक लोकसभा सीटों की मांग की जा रही है।

एनडीए से नाता तोड़कर महागठबंधन में शामिल हुई हम पांच सीटें हासिल करने की कोशिश में है। एनसीपी अपने पार्टी महासचिव तारिक अनवर को उनकी कटिहार सीट से दोहरा सकती है। शरद यादव अपने बेटे को आरजेडी के चुनाव चिह्न पर चुनावी मैदान में उतार सकते हैं।

आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुश्वाहा ने जेडीयू सुप्रीमो नीतीश कुमार के नेतृत्व में चुनाव लडऩे से इनकार कर दिया है। आरएलएसपी के फिलहाल तीन सांसद हैं। महागठबंधन उनकी नाराजगी का फायदा उठाकर उन्हें अपने खेमे में जोडऩा चाहता है। उन्हें 4 सीटें दी जा सकती हैं, हालांकि उपेंद्र महागठबंधन से जुडऩे की खबरों को खारिज करते रहे हैं लेकिन जेडीयू और बीजेपी के फिर से एक हो जाने के बाद बदले हालात में उनके लिए महगठबंधन बेहतर विकल्प हो सकता है।

The post Politics: कन्हैया कुमार के लोकसभा चुनाव लडऩे की चर्चा तेज, जानिए कौन सी सीट से लड़ सकत हैं! appeared first on TOS News.

]]>
Politics:2019 का लोकसभा चुनाव होगा अहम, भाजपा सत्ता बचाने में तो विपक्षी हराने में जुटे! https://tosnews.com/politics2019-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%b2%e0%a5%8b%e0%a4%95%e0%a4%b8%e0%a4%ad%e0%a4%be-%e0%a4%9a%e0%a5%81%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%b5-%e0%a4%b9%e0%a5%8b%e0%a4%97%e0%a4%be-%e0%a4%85%e0%a4%b9%e0%a4%ae/128962 Sat, 09 Jun 2018 07:30:41 +0000 https://tosnews.com/?p=128962 लखनऊ: वर्ष 2019 लोकसभा चुनाव को लिए सभी राजनैतिक पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है। भाजपा से लेकर कांग्रेस और यूपी की समाजवादी पार्टी,

The post Politics:2019 का लोकसभा चुनाव होगा अहम, भाजपा सत्ता बचाने में तो विपक्षी हराने में जुटे! appeared first on TOS News.

]]>
लखनऊ: वर्ष 2019 लोकसभा चुनाव को लिए सभी राजनैतिक पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है। भाजपा से लेकर कांग्रेस और यूपी की समाजवादी पार्टी, बहुजन पार्टी व अन्य क्षेत्रीय दलों में भी अपनी-अपनी तैयारियां शुरू कर दी है। इस बार 2019 में होना वाला चुनाव बहेद की अहम होने वाला है। इसके पीछे कारण है कि सत्ता की शीर्ष पर मौजूद भारतीय जनता पार्टी के विरोध में सभी विपक्षी पार्टियां एक जुट होने की बात कह रहीं है। वहीं भाजपा की राहें भी इस चुनाव में आसान नहीं दिख रही हैं। राजनीति के जानकार मानते हैं इस बार चुनाव में जहां भाजपा के सामने अपनी सत्ता पर काबिज रहने की चुनौती है, वहीं विपक्षी दलों का मकसद सिर्फ और सिर्फ दिल्ली की सत्ता से भाजपा को दूर रखने का है।


एक तरफ भाजपा अपने ही कुछ साथियों की नाराजगी से परेशान हैं। वहीं संत समाज भी अध्योध्या में राम मंदिर को जल्द बनवाने की मांग को लेकर अड़ा हुआ है। चंद रोज पहले यूपी के कई संतों ने सूबे के सीएम योगी आदित्यानाथ ने मिलकर चुनाव से राम मंदिर मुद्दे को लेकर अपना पक्ष साफ करने के लिए कहा है। यहां तक कि संत समाज ने इस बात की भी चेतावनी दी है कि अगर जल्द राम मंदिर का निमार्ण नहीं शुरू हुआ तो 2019 के चुनाव में इसका खामियाजा भाजपा को उठाना पड़ेगा।

वहीं कनार्टक में सरकार न बना पाने के गम और यूपी के गोरखपुर, फूलपुर, कैराना और नूरपुर की सीटें हार के बाद भाजपा ने अपनी रणनीति को बदल दिया है। अब भाजपा फिर से दलित व मुस्लिम वोट बैंक को अपनी तरफ खीचने का काम कर रही है। भाजपा ने समर्थन फार स्पोर्ट अभियान पूरे देश में चला रखा है। इस अभियान के तहत भाजपा के राष्टï्रीय अध्यक्ष अमित शाह से लेकर तमाम बड़े नेता रोज किसी न किसी बड़ी हस्ती से मिल रहे हैं और समर्थन की मांग कर रहे हैं।

वहीं कर्नाटक में मिली जीत के बाद कांग्रेस पार्टी में नई जान डाल दी है। अब कांग्रेस अपनी खोई हुई राजनैतिक जमीन तलाशने के लिए क्षेत्रीय दलों का सहारा ले रही है। कर्नाटक फार्मूले पर कांग्रेस अन्य राज्यों में भी इलाके की पार्टियों से गठबंधन कर सकती है। लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की हमेशा से अहम भूमिका रही है।

कहा जाता है कि दिल्ली की सत्ता का रास्ता यूपी के गलियारों से होकर गुजरता है। वर्ष 2019 में होने वाले चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी, बहुजन पार्टी, लोकदल और अन्य पाॢटयों ने अपनी तैयारियां शुरु कर दी हैं। इस बार यूपी में समाजवादी पार्टी और बहजुन पार्टी में गठबंधन हो सकता है। जानकार बताते हैं कि दोनों पार्टियां 50-50 प्रतिशत सीटों के बंटवारों पर सहमत हो सकती हैं।

इस गठबंधन ने कांग्रेस और लोकदल भी शामिल हो सकती है, पर अभी यह तय नहीं है कि लोकदल और कांग्रेस को कितनी सीट मिल सकती है। उधर पूर्व सीएम अखिलेश यादव और मायावती केन्द्र व प्रदेश की भाजपा सरकार के खिलाफ कोई भी मौका छोडऩा नहीं चाहते हैं। एक तरफ मायावती भाजपा को दलित विरोधी पार्टी बता रही है तो समाजवादी पार्टी भाजपा पर विकास को छोड़ हिन्दुतव की राजनीति करने का आरोप लगा रही है।

वहीं प्रदेश की भाजपा सरकार में गुटबाजी अपने चरम पर पहुंच चुकी है। यूपी के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने अपने बयानों से यूपी सरकार को कटघरे में खड़ा कर रखा है। वहीं यूपी के बहराइच जनपद से सांसद सावित्री बाई फूले में भी पार्टी के लिए कई बार मुश्किले खड़ी की हैं।

भाजपा सरकार पश्चिमी यूपी में अपनी कमजोर पड़ रही पकड़ को मजबूत करने में लगी है, पर कैराना और नूरपुर की हार वर्ष 2019 चुनाव पर खासा असर डाल सकते हैं। फिलहाल अभी लोकसभा चुनाव में एक साल का वक्त बाकी है, पर इस बार यह चुनाव हर माने में अहम होंगे। एक तरफ भाजपा फिर से जीत हासिल करने की कोशिश कर रही है तो बाकी पार्टियां किसी भी हाल में भाजपा को अब सत्ता में देखना नहीं चाहती हैं।

The post Politics:2019 का लोकसभा चुनाव होगा अहम, भाजपा सत्ता बचाने में तो विपक्षी हराने में जुटे! appeared first on TOS News.

]]>
Politics: सीएम कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण की यह तस्वीरे बयां कर रही है भविष्य की राजनीति, जानिए कैसे? https://tosnews.com/politics-%e0%a4%b8%e0%a5%80%e0%a4%8f%e0%a4%ae-%e0%a4%95%e0%a5%81%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a4%b8%e0%a5%8d%e0%a4%b5%e0%a4%be%e0%a4%ae%e0%a5%80-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b6%e0%a4%aa%e0%a4%a5/125806 Thu, 24 May 2018 05:29:11 +0000 https://tosnews.com/?p=125806 बैगलोर: कर्नाटक के सीएम एचडी कुमारस्वामी के बुधवार को शपथ ग्रहण समारोह में भविष्य की राजनीति की तस्वीर देखने को मिली। 2019 से पहले विपक्षी

The post Politics: सीएम कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण की यह तस्वीरे बयां कर रही है भविष्य की राजनीति, जानिए कैसे? appeared first on TOS News.

]]>
बैगलोर: कर्नाटक के सीएम एचडी कुमारस्वामी के बुधवार को शपथ ग्रहण समारोह में भविष्य की राजनीति की तस्वीर देखने को मिली। 2019 से पहले विपक्षी एकता के प्रदर्शन के बीच जदएस के नेता एचडी कुमारस्वामी ने बुधवार को कर्नाटक के 24वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। गठबंधन सरकार में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष जी परमेश्वर ने भी डिप्टी सीएम के पद की शपथ ली। शुक्रवार को होने वाले बहुमत परीक्षण के बाद मंत्रिमंडल में अन्य सदस्यों को शामिल किया जाएगा।


14 विपक्षी दलों के दिग्गज नेताओं ने इस कार्यक्रम में शामिल होकर पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ मजबूत मोर्चा बनाने का संदेश दिया। इनमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधीए यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी, जदएस सुप्रीमो एचडी देवगौड़ा, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आंध्र प्रदेश के सीएम एन चंद्रबाबू नायडू, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, केरल के सीएम पिनराई विजयन, यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती शामिल रहे।

फूलपुर और गोरखपुर के लोकसभा उपचुनाव में साथ आकर भाजपा को करारी शिकस्त देने वाले सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा नेता मायावती ने पहली बार कोई मंच साझा किया। दोनों नेता एक साथ बैठे और आपस में गुफ्तगू करते नजर आए। आपको बता दें कि गोरखपुर व फूलपुर उपचुनाव सपा-बसपा ने मिलकर लड़ा था। जिससे कि भाजपा को अपने सबसे मजबूत किले गोरखपुर में करारी हार का सामना करना पड़ा था। वही फूलपुर में भी हार हुई।

भाजपा की इस हार ने 2019 के चुनाव के लिए सपा-बसपा के गठबंधन की संभावनाओं को और मजबूत कर दिया। इसके अलावा अभी कुछ दिनों पहले ही बैंगलौर में बसपा सुप्रीमो मायावती ने बयान दिया था कि सीटों का बंटवारा होते ही सपा-बसपा गठबंधन की घोषणा कर दी जाएगी। कर्नाटक के सीएम के शपथ ग्रहण समारोह में अन्य नेताओं में एनसीपी नेता शरद पवार, माकपा महासचिव सीताराम येचुरीए राजद के नेता तेजस्वी यादव भी शामिल थे।

2019 से पहले विपक्षी एकता के प्रदर्शन के बीच जदएस के नेता एचडी कुमारस्वामी ने बुधवार को कर्नाटक के 24वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। गठबंधन सरकार में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष जी परमेश्वर ने भी डिप्टी सीएम के पद की शपथ ली। शुक्रवार को होने वाले बहुमत परीक्षण के बाद मंत्रिमंडल में अन्य सदस्यों को शामिल किया जाएगा। 14 विपक्षी दलों के दिग्गज नेताओं ने इस कार्यक्रम में शामिल होकर पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ मजबूत मोर्चा बनाने का संदेश दिया।

The post Politics: सीएम कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण की यह तस्वीरे बयां कर रही है भविष्य की राजनीति, जानिए कैसे? appeared first on TOS News.

]]>
#KarnatakaLesson: कर्नाटक जीत के बाद कांग्रेस को मिली संजीवनी बूटी, जीता का फार्मूला कर रही है तैयार! https://tosnews.com/karnatakalesson-%e0%a4%95%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%9f%e0%a4%95-%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a4-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%ac%e0%a4%be%e0%a4%a6-%e0%a4%95%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%97/125086 Sun, 20 May 2018 09:45:57 +0000 https://tosnews.com/?p=125086 दिल्ली: कर्नाटक में बहुमत साबित ना कर पाने के बाद भाजपा की हार को अब कांग्रेस व अन्य पार्टियां बड़ा हथियार बना सकती है। कांगे्रस

The post #KarnatakaLesson: कर्नाटक जीत के बाद कांग्रेस को मिली संजीवनी बूटी, जीता का फार्मूला कर रही है तैयार! appeared first on TOS News.

]]>
दिल्ली: कर्नाटक में बहुमत साबित ना कर पाने के बाद भाजपा की हार को अब कांग्रेस व अन्य पार्टियां बड़ा हथियार बना सकती है। कांगे्रस और अलग-अलग राज्य में क्षेत्रीय पार्टियों के गठजोड़ को भी कर्नाटक जीत से मजबूती मिलती दिख रही है। आने वाले 2019 के लोकसभा चुनाव में कांगे्रस कर्नाटक वाला फार्मूला आपना सकती है।

इस पर कांग्रेस ने अभी से काम करना शुरू भी कर दिया है। कर्नाटक की जीत के बाद राहुल गांधी ने शनिवार को अपनी प्रेस वार्ता में इस बात के संकेत दे दिय है। प्रेस वार्ता में पहली बार राहुल 2019 लोकसभा चुनाव के लिए रणनीति बनाते हुए सभी विपक्षी पार्टियों को एकजुट करने की कोशिश करते हुए दिखे। कांग्रेस अध्यक्ष के बयान के बाद सभी पार्टियों ने अपनी प्रतिक्रिया दी। सभी राहुल के सुर में सुर मिलाते हुए भाजपा को घेरते हुए दिखे। कर्नाटक के फार्मूले को कांग्रेस इस साल होने वाले विधानसभा चुनावों और अगले साल के लोकसभा चुनावों में लागू कर सकती है। यदि वह ऐसा करती है तो इससे वह 11 राज्यों की 12 बड़ी क्षेत्रीय पार्टियों के साथ चुनाव से पहले या बाद में गठबंधन करके भाजपा को सरकार बनाने से रोक सकती है।

आइये नज़र डालते हैं कहां-कहां हो सकता है गठबंधन
यूपी में लोकसभी की 80 सीटें। यहां भाजपा को रोकने के लिए कांग्रेस, बसपा और सपा के साथ गठबंधन कर सकती है। महाराष्ट्र मेें 48 सीटें हैं। यहां कांग्रेस और एनसीपी मिलकर भाजपा को कड़ी टक्कर दे सकते हैं। दोनों पहले ही साथ चुनाव लडऩे का संकेत दे चुके हैं। इसमें शिवसेना के शामिल होने की अटकले हैं।

वहीं पश्चिम बंगाल में 42 सीटे हैं। ममता बनर्जी लगतार मोदी सरकार पर हमला करती रहती हैं। यहां कांग्रेस और टीएमसी मिलकर चुनाव लड़ सकते हैं। वहीं बिहार में 40 सीटें हैं कांग्रेस यहां राजद के साथ मिलकर लोकसभा का चुनाव लड़ सकती है। पहले से ही दोनों का गठबंधन है। उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी आरएसएलपी के भी शामिल होने की संभावना है।

इसके अलावा तमिलनाडु में  39 सीटें हैं कांग्रेस और डीएमके ने पिछले साल विधानसभा चुनाव साथ मिलकर लड़ा था। दोनों 2019 में भाजपा के खिलाफ एक बार फिर साथ आ सकते हैं। वहीं कर्नाटक में 28 सीटें है। विधानसभा की तरह लोकसभा चुनाव में भी जेडीएस और कांग्रेस गठबंधन कर सकते हैं।

इसके अलावा आंध्रपद्रेश में 25 सीटें हैं। विशेष राज्य का दर्जा ना मिलने पर भाजपा से नाता तोड़ चुकी टीडीपी कांग्रेस का हाथ थाम सकती है। तेलंगाना में 17 सीटें हैं। राज्य में टीआरएस भाजपा के खिलाफ तीसरे मोर्चे की वकालत कई मौके पर कर चुकी है।

ऐसे में वह कांग्रेस का साथ दे सकती है। वहीं झारखंड में 14 सीटें हैं। यहां भी कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा साथ आ सकते हैं। कई उपचुनाव साथ मिलकर लड़ चुके हैं। वहीं हरियाणा में 10 सीटें हैं। यहां इंडियन नेशनल लोकदल और कांग्रेस हाथ मिला सकते हैं। इसके अलावा जम्मू- कश्मीर में 6 सीटें है। यहां नेशलन कॉन्फ्रेंस यानि एनसी और कांग्रेस भाजपा को टक्कर देने के लिए साथ आ सकते हैं।

The post #KarnatakaLesson: कर्नाटक जीत के बाद कांग्रेस को मिली संजीवनी बूटी, जीता का फार्मूला कर रही है तैयार! appeared first on TOS News.

]]>
#KarnatakaFloorTest :कर्नाटक में भाजपा के यू-र्टन के पीछे क्या है खेल? https://tosnews.com/karnatakafloortest-%e0%a4%95%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%9f%e0%a4%95-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82-%e0%a4%ad%e0%a4%be%e0%a4%9c%e0%a4%aa%e0%a4%be-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%af%e0%a5%82/124982 Sat, 19 May 2018 13:12:10 +0000 https://tosnews.com/?p=124982 बेंगलोर: विधानसभा में बहुमत परीक्षण से पहले बीएस येदियुरप्पा का पद से इस्तीफा देने के लिए पीछे का असली खेल क्या है, यह तो आने

The post #KarnatakaFloorTest :कर्नाटक में भाजपा के यू-र्टन के पीछे क्या है खेल? appeared first on TOS News.

]]>
बेंगलोर: विधानसभा में बहुमत परीक्षण से पहले बीएस येदियुरप्पा का पद से इस्तीफा देने के लिए पीछे का असली खेल क्या है, यह तो आने वाला वक्त ही तय करेगा, पर ऐसी चर्चा है कि बीएस येदियुरप्पा ने भाजपा हाईकमान के कहने वाले पद से इस्तीफा दिया है। भाजपा अपनी इस हार को भी जीत में बदलकर जनता के बीच 2019 चुनाव में जाना चाहती है।


कुछ जानकार यह मानते हैं कि भाजपा ने अचानक कर्नाटक में यू-र्टन एक सोची-समझी रणनीति है। कर्नाटक की सत्ता हाथ से खो कर भी भाजपा जनता के बीच अपनी जीत दर्शाना चाहती है। राजनीति के जानकार कहते हैं कि खरीद-फरोख्त और धन व बहुबल के लगे रहे आरोप को ध्यान में रखते हुए भाजपा हाईकमान ने कर्नाटक में सत्ता से दूर रहने का फैसला किया।

अगले ही साल यानि वर्ष 2019 में लोकसभा चुनाव है। ऐसे में भाजपा कर्नाटक की हर को भी अपनी जीत दर्शाते हुए जनता के बीच जाने की सोच रही है। वहीं कुछ जानकार यह भी मना रहे हैं कि कर्नाटक में अब बनने वाले कांग्रेस और जेडीएस की सरकार भी ज्यादा दिन की महमान नहीं होगी।

दोनों पार्टियों में सत्ता हासिल करने के बाद भी टकराव की स्थिति पैदा हो सकती है। ऐसे में फिर भाजपा इस टकराव को फायदा उठाते हुए सत्ता हासिल करने की सोच सकती है। फिलहाल कर्नाटक में बदले समीकरणों को लेकर कांग्रेस और जेडीएस में खुशी की लहर है। कांगे्रस के अलावा मायावती, अखिलेश यादव और ममता बनर्जी ने भी कर्नाटक में जीत को लोकतंत्र की जीत बताया।

वहीं इस मौके पर मीडिया को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी और आरएसएस पर बड़ा निशाना साधा है। उन्होंने बताया कि भाजपा और संघ देश की सभी संवैधानिक संस्थानों को हथिया चाहती है। इसके लिए वह किसी भी हद तक जा सकते हैं। अब देखा यह होगा कि कर्नाटक में भाजपा की हार उसके लिए क्या रंग लाती है?

The post #KarnatakaFloorTest :कर्नाटक में भाजपा के यू-र्टन के पीछे क्या है खेल? appeared first on TOS News.

]]>
Politics: हो सकता है यूपी मंत्रीमण्डल में फेरबदल, कई को मिल सकती है अहम जिम्मेदारी! https://tosnews.com/politics-%e0%a4%b9%e0%a5%8b-%e0%a4%b8%e0%a4%95%e0%a4%a4%e0%a4%be-%e0%a4%b9%e0%a5%88-%e0%a4%95%e0%a4%bf-%e0%a4%af%e0%a5%82%e0%a4%aa%e0%a5%80-%e0%a4%ae%e0%a4%82%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a5%80/123846 Mon, 14 May 2018 08:44:40 +0000 https://tosnews.com/?p=123846 लखनऊ: यूपी सरकार में कुछ फेरबदल की संभावन है। चर्चा ऐसी है कि खराब प्रदर्शन करने वाले मंत्रियों की छुट्टïी हो सकती है। वहीं बेहतर

The post Politics: हो सकता है यूपी मंत्रीमण्डल में फेरबदल, कई को मिल सकती है अहम जिम्मेदारी! appeared first on TOS News.

]]>
लखनऊ: यूपी सरकार में कुछ फेरबदल की संभावन है। चर्चा ऐसी है कि खराब प्रदर्शन करने वाले मंत्रियों की छुट्टïी हो सकती है। वहीं बेहतर काम करने वाले लोगों को महत्वपूर्ण पद भी दिये जा सकते हैं। भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष पदाधिकारियों ने रविवार को एक के बाद एक तीन उच्च स्तरीय बैठकें कीं। चौथी बैठक सोमवार की सुबह सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ हुई और फिर वह सीधे दिल्ली निकल गए।


राज्य में अटकलों का बाजार गर्म है कि वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव को देखते हुए योगी मंत्रिमंडल में जल्द ही व्यापक बदलाव हो सकते हैं। बीजेपी की पहली बैठक पार्टी मुख्यालय में हुई। इसमें प्रदेश के अध्यक्ष महेंद्र नाथ पाण्डेयए पार्टी के सभी महासचिवए सचिवए और संगठन मंत्री सुनील बंसल भी उपस्थित रहे।

रविवार की देर रात तक चली बैठक में कैराना और नूरपुर में होने वाले उपचुनाव को लेकर भी चर्चा की गई। वहीं सीएम आवास में हुई बैठक में बीजेपी कोर कमिटी के सदस्य शामिल हुए। कर्नाटक चुनाव होने के बाद और वहां से प्रचार करके लौटे सीएम योगी आदित्यनाथ ने अब लोकसभा चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी हैं। बीजेपी वर्ष 2014 की तरह ही 2019 में भी वापसी चाहती है।

2019 में धुआंधार वापसी के लिए ही बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने 18 मई को पार्टी के टॉप लीडर्स की बैठक बुलाई है। संगठन के मंत्रियों ने चर्चा की कि मंत्रिमंडल में बदलाव करके पार्टी को कैसे मजबूत किया जाए। सरकारी निगमों में खाली पड़ीं 350 सीटों को भरने पर चर्चा हुई। निगमों में ऐसे लोगों को पद देने की बात हुई जिन्हें 2017 के विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं मिल पाया या उन्हें पार्टी में कोई पोजिशन नहीं दी गई।

कोर कमिटी ने यह भी फैसला लिया कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को जोडऩे के लिए कार्यक्रमों का आयोजन किया जाए। दलितों को लुभाने के लिए काम किया जाए। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने पार्टी के विभिन्न विंग के प्रभारी भी घोषित किए। महिला मोर्चा का प्रभार रंजना उपाध्यायए युवा मोर्चा की जिम्मेदारी अशोर कटारिया और किसान मोर्चा पंकज सिंह को दिया गया।

सरकार में बदलाव भी पार्टी का टॉप अजेंडा है। प्रदेश में मुख्यमंत्री से लेकर मंत्रियों तक के 60 पद हैं। इनमें से अभी सिर्फ 47 मंत्री बनाए गए हैं। 13 पद अभी भी खाली हैं। सूत्रों की मानें तो इन 13 पदों पर एमएलसी और एमएलए को मंत्री बनाया जा सकता है। बीएसपी और एसपी के गठबंधन के बाद ओबीसी और दलित वोटर्स को कैसे लुभाया जाए उस पर चर्चा की गई।

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कोर कमिटी के बैठक के बाद बताया कि प्रदेश में निगम, आयोग और तमाम बोर्ड के 350 पद खाली पड़े हैं। इनके पदों पर जल्द ही प्रभार दिया जाएगा। वहीं अच्छा प्रदर्शन न करने वाले मंत्रियों को भी हटाने पर चर्चा हुई। जल्द ही मंत्रिमंडल में पिछड़ा और अनुसूचित जाति के नए चेहरे शामिल हो सकते हैं।

The post Politics: हो सकता है यूपी मंत्रीमण्डल में फेरबदल, कई को मिल सकती है अहम जिम्मेदारी! appeared first on TOS News.

]]>
Controversial: भाजपा विधायक ने इस बार के चुनाव को बताया धर्मयुद्घ, जानिए आगे क्या कहा? https://tosnews.com/controversial-%e0%a4%ad%e0%a4%be%e0%a4%9c%e0%a4%aa%e0%a4%be-%e0%a4%b5%e0%a4%bf%e0%a4%a7%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%a8-%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%87%e0%a4%b8-%e0%a4%ac%e0%a4%be%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a5%87/122404 Mon, 07 May 2018 06:48:17 +0000 https://tosnews.com/?p=122404 वाराणसी: भाजपा पार्टी के नेताओं के बयान अक्सर विवाद की वजह बन जाते हैं। अपने बयानों से चर्चा में रहने वाले बलिया के बैरिया से

The post Controversial: भाजपा विधायक ने इस बार के चुनाव को बताया धर्मयुद्घ, जानिए आगे क्या कहा? appeared first on TOS News.

]]>
वाराणसी: भाजपा पार्टी के नेताओं के बयान अक्सर विवाद की वजह बन जाते हैं। अपने बयानों से चर्चा में रहने वाले बलिया के बैरिया से भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव को धर्मयुद्ध बताया। उन्होंने कहा कि इसमें पांडवों के रूप में भाजपा तथा कौरवों के रूप में अन्य दल होंगे।

कौरवों- पांडवों के बीच संस्कृतियों की लड़ाई होगी। जिसे देश की जनता देखेगी। महाभारत का जिक्र करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव धर्मयुद्घ और न्याय के क्षेत्र में होगा। विधायक ने कहा कि कुरुक्षेत्र की लड़ाई की तरह यह पांडवों और कौरवों के बीच संस्कृतियों की लड़ाई का साक्षी होगा। पांडवों के सेनापति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी होंगे जो अर्जुन की भूमिका निभाएंगे, जबकि कौरवों का नेतृत्व की भूमिका में कांग्रेस सहित अन्य दल होंगे।

वहीं धृतराष्ट्र की भूमिका में सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव निभाएंगे। लोकतंत्र की लड़ाई में हमेशा विजय न्याय की होती है जो नरेंद्र मोदी होंगे। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला करते हुए सिंह ने कहा उनके पास भारत और भारतीयता के साथ कोई संबंध नहीं है।

राहुल गांधी में राजनीतिक क्षमता की कमी हैए वह कांग्रेस के अंतिम अध्यक्ष साबित होंगे। विधायक ने दावा करते हुए कहा कि 12 मई के कर्नाटक विधानसभा चुनावों के बादए देश कांग्रेस मुक्त हो जाएगा। जिस दिन कांग्रेस खत्म हो जाएगीए राहुल गांधी भारत छोड़ देंगे और इटली में अपने मां के साथ बस जाएंगे।

The post Controversial: भाजपा विधायक ने इस बार के चुनाव को बताया धर्मयुद्घ, जानिए आगे क्या कहा? appeared first on TOS News.

]]>
Politics: बड़ी खबर अब सोनिया की सीट से चुनाव लड़ सकती है प्रियांका गांधी! https://tosnews.com/politics-%e0%a4%ac%e0%a4%a1%e0%a4%bc%e0%a5%80-%e0%a4%96%e0%a4%ac%e0%a4%b0-%e0%a4%85%e0%a4%ac-%e0%a4%b8%e0%a5%8b%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%b8%e0%a5%80%e0%a4%9f/93579 Sat, 16 Dec 2017 07:08:08 +0000 https://tosnews.com/?p=93579 रायबरेली: सोनिया गांधी के राजनीति से रिटयरमेंट की बात कहने और राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद अब कांग्रेस पार्टी से एक बड़ी

The post Politics: बड़ी खबर अब सोनिया की सीट से चुनाव लड़ सकती है प्रियांका गांधी! appeared first on TOS News.

]]>
रायबरेली: सोनिया गांधी के राजनीति से रिटयरमेंट की बात कहने और राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद अब कांग्रेस पार्टी से एक बड़ी और अहम बात निकल कर सामने आ रही है। सोनिया गांधी की बेटी प्रियंका गांधी की भी राजनीति में एंट्री कर सकती हंै। माना जा रहा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में सोनिया गांधी की जगह प्रियंका रायबरेली से चुनाव लड़ेंगी।


वहीं राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष का पदभार संभाल लिया है। इस मौके पर उन्होंने कहा कि भारत एक महान देश हैए लेकिन कुछ लोग इसे गरीब रखना चाहते हैंए राजनीति सेवा के लिए होती है लेकिन आज लोगों को दबाने की राजनीति हो रही है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग देश में आग और हिंसा फैलाने की कोशिश कर रहे हैंए एक बार आग लगाने के बाद इसे बुझाना मुश्किल है।

राहुल ने कहा कि बीजेपी पूरे देश में आग लगाने में जुटी हैए पीएम मोदी देश को पीछे ले जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूरे देश में केवल कांग्रेस और उसके प्यारे कार्यकर्ता ही बीजेपी को रोक सकते हैं। हम कांग्रेस को एक यंग पार्टी बनाने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम क्रोध की राजनीति से लड़ेंगे। राहुल ने कहा कि हम बीजेपी की कार्यप्रणाली से सहमत नहीं हैं। वो तोड़ते हैं और हम जोड़ते हैं।

राहुल ने कहा कि मैं हमेशा दिग्गजों के नेतृत्व में काम करता रहूंगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस प्राचीन भारत की तस्वीर है। राहुल गांधी ने सोनिया गांधी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की मौजूदगी में कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में जिम्मेदारी संभाली। पार्टी के केंद्रीय चुनाव समिति के अध्यक्ष एम रामचंद्रन ने राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर प्रमाणपत्र सौंपा। इस मौके पर पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा कि देश में डर का माहौल हैए राहुल मुश्किल दौर में पार्टी की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं।

सोनिया गांधी ने राहुल को आर्शीवाद और बधाइयां दीं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के सामने नया दौर और उम्मीदें हैं। सोनिया ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में यह मेरा आखिरी संबोधन है। सोनिया ने कहा कि गांधी परिवार का हर सदस्य देश की आजादी के लिए जेल गया। इंदिरा ने उन्हें बेटी की तरह अपनाया।

सोनिया ने कहा कि इंदिरा की हत्या ने मेरा जीवन बदल दिया। मैं अपने पति और बच्चों को राजनीति से दूर रखना चाहती थी लेकिन फिर मेरा सहारा मेरे पति को भी मुझसे छीन लिया गया है वो मेरे लिए बहुत मुश्किल दौर था। उन्होंने कहा कि हम डरने और झुकने वाले नहीं हैं।

सोनिया ने कहा कि देश में भय का माहौल बनाया जा रहा है। ये एक नैतिक लड़ाई है। हम सत्ता के लिए नहीं देश की सेवा के लिए लड़ रहे हैं। राहुल मेरा बेटा है इसलिए उसकी तारीफ करना सही नहीं लेकिन उसमें पार्टी के प्रति पूरा समर्पण है। राजनीतिक हमलों ने राहुल को मजबूत बनाया।

The post Politics: बड़ी खबर अब सोनिया की सीट से चुनाव लड़ सकती है प्रियांका गांधी! appeared first on TOS News.

]]>
सीएम योगी का बड़ा दावा 2019 तक रामराज का सपना होगा पूरा, देखिए अयोध्या की तस्वीरें भी! https://tosnews.com/%e0%a4%b8%e0%a5%80%e0%a4%8f%e0%a4%ae-%e0%a4%af%e0%a5%8b%e0%a4%97%e0%a5%80-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%ac%e0%a4%a1%e0%a4%bc%e0%a4%be-%e0%a4%a6%e0%a4%be%e0%a4%b5%e0%a4%be-2019-%e0%a4%b8%e0%a5%87-%e0%a4%b0/80712 Wed, 18 Oct 2017 14:23:41 +0000 https://tosnews.com/?p=80712 अयोध्या: राम की नगरी में आज सीएम योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में त्रता युग की तरह दीपावली का जश्न मनाया गया। इस दौरान सीएम योगी

The post सीएम योगी का बड़ा दावा 2019 तक रामराज का सपना होगा पूरा, देखिए अयोध्या की तस्वीरें भी! appeared first on TOS News.

]]>
अयोध्या: राम की नगरी में आज सीएम योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में त्रता युग की तरह दीपावली का जश्न मनाया गया। इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि 2019 तक पूरे प्रदेश में रामराज का सपना भी कर लिया जायेगा।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में दीपावली की पूर्व संध्या पर भगवान राम के अयोध्या आगमन पर उनका स्वागत करते हुए कहा कि अयोध्या हमेशा नकारात्मक चर्चा का केंद्र रही है। यह कार्यक्रम नकारात्मक चर्चा को सकारात्मक की ओर ले जाने का एक कदम है।

उन्होंने कहा कि अयोध्या का विकास चार चरणों में पूरा किया जाएगा दीपावली पर यह पहले चरण का आयोजन है। इस मौके पर 135 करोड़ की लागत से विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार प्रदेश को दुनिया के पर्यटन का हब बनाएगी और इसकी शुरूआत हो चुकी है।

अयोध्या पुराना वैभव प्राप्त करे इस ओर कार्य किए जा रहे हैं। योगी ने कहा कि केंद्र सरकार के प्रयासों से हर किसी की अपनी छत और हर हाथ को रोजगार की परिकल्पना को साकार करने के लिए तेजी से काम किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिसके पास अपना घर होए घर में रोशनी हो, हर हाथ को काम हो, यही राम राज्य है, और राम राज्य का यह सपना उत्तर प्रदेश में 2019 तक पूरा हो जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या और अन्य पर्यटक स्थलों के विकास के लिए यूपी सरकार पूरी तरह प्रयासरत है। नदियों की संस्कृति और उनके जीवन को बचाने के लिए नदियों की आरती का कार्यक्रम शुरू किया है। इस मौके पर सरयू नदी के तटों पर दो लाख से अधिक मिट्टी के दीपकों से रोशनी की गई। बताया जा रहा है कि अयोध्या में इस तरह का भव्य आयोजन अपनेआप में एक रिकॉर्ड है।

The post सीएम योगी का बड़ा दावा 2019 तक रामराज का सपना होगा पूरा, देखिए अयोध्या की तस्वीरें भी! appeared first on TOS News.

]]>
Politics: 2019 लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने कसी कमर, जानिए पूरी रणनीति! https://tosnews.com/politics-2019-%e0%a4%b2%e0%a5%8b%e0%a4%95%e0%a4%b8%e0%a4%ad%e0%a4%be-%e0%a4%9a%e0%a5%81%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%b5-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b2%e0%a4%bf%e0%a4%8f-%e0%a4%ad%e0%a4%be%e0%a4%9c%e0%a4%aa/75458 Sun, 24 Sep 2017 08:14:00 +0000 https://tosnews.com/?p=75458 नई दिल्ली: 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी अभी से चुनाव के लिए रणनीति बनाने में जुट गई है। चुनावी रणनीति का

The post Politics: 2019 लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने कसी कमर, जानिए पूरी रणनीति! appeared first on TOS News.

]]>
नई दिल्ली: 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी अभी से चुनाव के लिए रणनीति बनाने में जुट गई है। चुनावी रणनीति का तानाबाना बुनने के लिए बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक आयोजित कर रही है। यह बैठक दिल्ली में रविवार को शुरू होगी। साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारी में बीजेपी कोई कसर नहीं छोडऩा चाहती है। इस बैठक में पार्टी के सभी सांसदों, सभी विधायकों, पार्षदों और प्रदेश इकाइयों के अध्यक्षों समेत 2000 नेताओं को बुलाया गया है।


बीजेपी के सूत्रों के अनुसार बैठक के दूसरे दिन 25 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संबोधन खास होगा जो कि आने वाले समय में कुछ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव की दिशा तय करेगा। सूत्रों ने बताया कि बैठक के दौरान राजनीतिक प्रस्ताव पेश किया जाएगा जिसमें रोहिंग्या मुसलमानों के मुद्दे को शामिल किए जाने की संभावना है।

राजनीतिक प्रस्ताव तैयार करने की जिम्मेदारी राम माधव और विनय सहस्रबुद्धे को सौंपी गई है। इसके अलावा एक आर्थिक प्रस्ताव भी पेश किया जा सकता है जिसमें वस्तु एवं सेवा कर जीएसटी से आए आर्थिक बदलावए नोटबंदी के कारण बदली परिस्थितियों का जिक्र हो सकता है।

गौरतलब है कि रोहिंग्या मुसलमानों के मुद्दे पर सरकार के रुख की कुछ विपक्षी दलों समेत एक वर्ग आलोचना कर रहा है। दूसरी ओर वस्तु एवं सेवा कर जीएसटी और नोटबंदी के मुद्दे पर भी सरकार को कांग्रेस समेत कुछ विपक्षी दलों की आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। कार्यक्रम के आयोजन के लिए दिल्ली प्रदेश में समन्वय करने की जिम्मेदारी कैलाश विजयवर्गीय को सौंपी गई है।

बीजेपी की विस्तारित राष्ट्रीय कार्यकारणी की यह बैठक दीनदयाल उपाध्याय जन्मशती समारोह के समापन के अवसर पर आयोजित की जा रही है। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी लगातार अलग-अलग राज्यों का दौरा कर पार्टी कार्यकर्ताओं में नई ऊर्जा का संचार करने का प्रयास कर रहे हैं। पार्टी पिछले एक साल से पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी वर्ष मना रही है। बैठक में पार्टी के सभी 281 लोकसभा सदस्य, राज्यसभा के 57 सदस्य, 1400 विधायक और विधान पार्षद, कोर ग्रुप के सदस्य और प्रदेश इकाइयों के अध्यक्ष एवं महामंत्री शामिल होंगे।

राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक में आमतौर पर स्थाई और विशेष आमंत्रित सदस्यों समेत 200 से कम सदस्य हिस्सा लेते हैं। इस बार इसमें हिस्सा लेने वालों की संख्या 2000 के आसपास होगी। सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक के विषयों पर 24 सितंबर को पदाधिकारी मंथन करेंगे।

पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं दिल्ली बीजेपी के प्रभारी श्याम जाजू व राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल ने दिल्ली बीजेपी के नेताओं के साथ राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक की तैयारियों की समीक्षा की। दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने बताया कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी के लिए सभी 19 विभागों के कार्यों का विभाजन किया गया है।

माना जा रहा है कि पहली बार संघ से प्रेरणा लेकर बीजेपी के पूर्णकालिक सदस्यों की अवधारणा को पार्टी में लागू किया। पिछले एक साल में इस प्रयोग से मिल रही सफलता से पार्टी अध्यक्ष अमित शाह बेहद उत्साहित हैं।

The post Politics: 2019 लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने कसी कमर, जानिए पूरी रणनीति! appeared first on TOS News.

]]>