hug – TOS News https://tosnews.com Latest Hindi Breaking News and Features Sat, 11 Aug 2018 12:28:31 +0000 en-US hourly 1 https://wordpress.org/?v=4.9.8 https://tosnews.com/wp-content/uploads/2017/03/tosnews-favicon-45x45.png hug – TOS News https://tosnews.com 32 32 Politics: राहुल की झप्पी पर शुरू हुई राजनीति, बीजेपी ने बताया नादानी तो कांग्रेस ने बताया प्यार! https://tosnews.com/politics-%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%b9%e0%a5%81%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%9d%e0%a4%aa%e0%a5%8d%e0%a4%aa%e0%a5%80-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%b6%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%82-%e0%a4%b9%e0%a5%81/137417 Sun, 22 Jul 2018 06:45:45 +0000 https://tosnews.com/?p=137417 मुम्बई: अविश्वास प्रस्ताव के दौरान शुक्रवार को लोकसभा में राहुल गांधी के प्रधानमंत्री मोदी के गले मिलने को जहां भाजपा नेता उनकी नादानी और बचकानापन

The post Politics: राहुल की झप्पी पर शुरू हुई राजनीति, बीजेपी ने बताया नादानी तो कांग्रेस ने बताया प्यार! appeared first on TOS News.

]]>
मुम्बई: अविश्वास प्रस्ताव के दौरान शुक्रवार को लोकसभा में राहुल गांधी के प्रधानमंत्री मोदी के गले मिलने को जहां भाजपा नेता उनकी नादानी और बचकानापन करार दे रहे हैं तो वहीं कांग्रेस ने इसे नफरत और प्यार की परिभाषा से जोड़ दिया है। मुंबई कांग्रेस ने राहुल की पीएम मोदी को झप्पी का एक पोस्टर चिपकाया है जिसमें लिखा है नफरत से नहीं प्यार से जीतेंगे।


बता दें कि इस झप्पी की चर्चा इस वक्त पूरे देश में हो रही है। भाजपा नेताओं ने राहुल को बचकाना नेता और कांग्रेस का खोटा लोहा बताया है। हालांकि कांग्रेसी नेताओं का मानना है कि राहुल ने इस झप्पी के जरिए संदेश दिया कि वह नफरत की राजनीति में विश्वास नहीं रखते। शनिवार को प्रधानमंत्री मोदी ने भी एक रैली के दौरान राहुल गांधी पर निशाना साधा।

उन्होंने राहुल का नाम लिए बिना कहा कि उनको पीएम की कुर्सी के अलावा कुछ नहीं दिखता है। इसका उदाहरण उन्होंने राहुल गांधी शुक्रवार को संसद में भी दे दिया। हमने अविश्वास प्रस्ताव का कारण पूछा, लेकिन वो कारण तो बता नहीं पाए और सीधे गले ही पड़ गए। गौरतलब है कि अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के दौरान राहुल गांधी ने खुद को पप्पू कहकर भी संबोधित किया था।

उन्होंने कहा था आप लोगों के अंदर मेरे लिए नफरत है। आपके अंदर मेरे लिए गुस्सा है। मैं आपके लिए पप्पू हो सकता हूं। आप मुझे गाली भी दे सकते हैं। लेकिन आपके लिए मेरे दिल में थोड़ा सा भी गुस्सा नहीं है क्योंकि आपने मुझे हिंदुस्तानी, एक कांग्रेसी होने का मतलब सिखाया है। इससे बड़ी बात और क्या हो सकती है।

राहुल ने अपना भाषण खत्म करते ही प्रधानमंत्री मोदी की सीट के पास जाकर उन्हें गले लगा लिया था। इस बात पर किरकिरी होता देख राहुल ने शनिवार को ट्वीट के जरिए अपने भाषण का सार बताने की कोशिश की है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा था कि प्रधानमंत्री घृणा का प्रयोग करते हैं। हमारे कुछ लोगों के दिल में व्याप्त भय और क्रोध ही उनके भाषण का आधार है। लेकिन हम साबित करके रहेंगे कि सभी भारतवासियों के दिलों का प्यार और दया ही राष्ट्र निर्माण का एकमात्र रास्ता है।

The post Politics: राहुल की झप्पी पर शुरू हुई राजनीति, बीजेपी ने बताया नादानी तो कांग्रेस ने बताया प्यार! appeared first on TOS News.

]]>
Emotional: जब बुजुर्ग महिला शिक्षक की बात सुन भावुक हुए राहुल, जानिए तब क्या हुआ! https://tosnews.com/emotional-%e0%a4%9c%e0%a4%ac-%e0%a4%ac%e0%a5%81%e0%a4%9c%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%97-%e0%a4%ae%e0%a4%b9%e0%a4%bf%e0%a4%b2%e0%a4%be-%e0%a4%b6%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a5%8d%e0%a4%b7%e0%a4%95/88989 Sat, 25 Nov 2017 12:31:01 +0000 https://tosnews.com/?p=88989 गुजरात: गुजरात विधानसभा के प्रचार में जुटे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी वोटरों को अपनी तरफ खींचने के लिए हर संभव प्रयास में लगे हैं। जनसभाओं

The post Emotional: जब बुजुर्ग महिला शिक्षक की बात सुन भावुक हुए राहुल, जानिए तब क्या हुआ! appeared first on TOS News.

]]>
गुजरात: गुजरात विधानसभा के प्रचार में जुटे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी वोटरों को अपनी तरफ खींचने के लिए हर संभव प्रयास में लगे हैं। जनसभाओं से लेकर लोगों के साथ वक्त गुजार कर राहुल गांधी जनता के दिल में अपनी जगहा बनाना चाह रहे हैं। शुक्रवार को अहमदाबाद में भी राहुल का यही रूप नजर आया। शिक्षा जगत के लोगों के साथ बातचीत के दौरान अंशकालीन महिला व्याख्याता की दुर्दशा सुनकर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भावुक हो गए और उन्हें गले से लगा लिया। राहुल को गले लगाकर महिला की आंखें भी नम हो गईं।


पहले चरण से पहले चुनाव प्रचार के लिए राहुल गांधी गुजरात के दो दिन के दौरे पर हैं। इस दौरान राहुल गांधी के साथ स्कूल शिक्षकों, प्राध्यापकों, व्याख्याताओं को बातचीत के लिए आमंत्रित किया गया था। इसी में महिला व्याख्याता रंजना अवस्थी भी आई थीं जिन्होंने अपनी राहुल को अपनी परेशानियां बयां कीं।

जब राहुल ने मंच से अपनी बात पूरी कर ली तब रंजना अवस्थी को माइक दिया गया। माइक मिलते ही उन्होंने अपनी व्यथा बयां की। रिटायरमेंट के करीब पहुंच चुकी रंजना ने पार्टी की सरकार बनने पर राहुल से अध्यापकों के समक्ष उत्पन्न समस्याओं से निपटने की कांग्रेस की योजना के बारे में पूछा। भारी दिल से रंजना ने कहा कि मैंने 1994 में संस्कृत से पीएचडी किया है।

उस समय से हम बहुत खराब स्थिति में रह रहे हैं। अंशकालीन सेवा के 22 साल बीत जाने के बावजूद हमारा वेतन केवल 12 हजार रूपया प्रति महीना है। हमें मातृत्व अवकाश नहीं दिया जाता है।

रंजना अवस्थी ने राहुल के सामने रोते हुए कहा कि अब कोई आशा नहीं है,केवल हम जानते हैं कि हमने किस प्रकार का संघर्ष किया है और किस प्रकार के दर्द से हम गुजरे हैं। महिला का दर्द सुनकर राहुल उनके पास पहुंच गए। जैसे ही राहुल वहां पहुंचे महिला हाथ जोड़कर भावुक हो गई। राहुल ने उन्हें भरोसा दिलाया। इसके बाद उन्हें गले लगाकर हिम्मत भी दी। मंच से राहुल ने वादा किया कि उनकी सरकार आने के बाद इस व्यवस्था को बदला जाएगा।

The post Emotional: जब बुजुर्ग महिला शिक्षक की बात सुन भावुक हुए राहुल, जानिए तब क्या हुआ! appeared first on TOS News.

]]>
यहाँ सिर्फ गले मिलने के लिए पैसे खर्च कर रहे हैं लोग https://tosnews.com/%e0%a4%b8%e0%a4%bf%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%ab-%e0%a4%97%e0%a4%b2%e0%a5%87-%e0%a4%ae%e0%a4%bf%e0%a4%b2%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b2%e0%a4%bf%e0%a4%8f-%e0%a4%aa%e0%a5%88%e0%a4%b8/14069 Sun, 18 Dec 2016 11:05:22 +0000 http://hindi.tosnews.com/?p=14069 गले लगना सबको पसंद होता है लेकिन आज की भागती-दौड़ती जिंदगी में जैसे हम किसी के गले भी नहीं लग पाते। दुनिया में ऐसे

The post यहाँ सिर्फ गले मिलने के लिए पैसे खर्च कर रहे हैं लोग appeared first on TOS News.

]]>
गले लगना सबको पसंद होता है लेकिन आज की भागती-दौड़ती जिंदगी में जैसे हम किसी के गले भी नहीं लग पाते। दुनिया में ऐसे लोगों की संख्या तेजी से बढ़ रही है जो गले लगने के लिए पैसे खर्च करने को तैयार हैं।

यहाँ सिर्फ गले मिलने के लिए पैसे खर्च कर रहे हैं लोग

नेलपॉलिश के इस्तेमाल से हो सकता है बांझपन, बरतें ये सावधानी

इसी का नतीजा है कि अमेरिका जैसे देशों में कडलिंग यानी गले लगाना एक प्रफेशन का रूप ले चुका है।

अमेरिका में कई कंपनियों जैसे कडलिस्ट, कडल टाइम और कडल थेरेपी ने अपनी सेवाएं देनी भी शुरू कर दीं। इसके लिए वे तकरीबन 80 डॉलर (5,500 रुपये) चार्ज करते हैं। कई सायकॉलजिस्ट भी अपने पेशंट्स को नियमित रूप से कडलिंग थेरेपी लेने को कहते हैं।
 
कंपनियां और सायकॉलजिस्ट यह सुनिश्चित करते हैं कि गले लगने की प्रक्रिया पूरी तरह नॉन-सेक्शुअल होनी चाहिए। सायकॉलजिस्ट्स का मानना है कि गले लगने से लोगों को मानसिक मजबूती और राहत मिलती है।
 
एक्सपर्ट्स का मानना है कि आज के वक्त में लोगों को नॉन-सेक्शुअल टच कम ही मिल पाता है। कडल थेरेपी की सीईओ कहती हैं,’अकेले बैठकर रोना और किसी बांहों में रोना, दोनों अलग चीजें हैं।’
 
कडलिंग बिजनस धीरे-धीरे बढ़ रहा है और थेरेपिस्ट्स इससे अच्छी कमाई भी कर रहे हैं। भविष्य में इसके और फलने-फूलने के आसार हैं।
कडलिंग को अपनी प्रैक्टिस में शामिल करना थेरेपिस्ट्स के लिए भी फायदेमंद साबित हो रहा है। इस तरह वह अपने मरीजों से बेहतर ढंग से जुड़ पा रहे हैं।

The post यहाँ सिर्फ गले मिलने के लिए पैसे खर्च कर रहे हैं लोग appeared first on TOS News.

]]>