OMG! सुलह न करने पर दुष्कर्म पीड़िता की एक आंख फोड़ी, दूसरी निकाल ली

उन्नाव (जेएनएन)। दिल दहलाने वाली वारदात आज उन्नाव जिले के मांखी थाना क्षेत्र में देखने को मिली जहां मुकदमे में सुलह नहीं करने पर दुष्कर्म पीडि़ता को आरोपी के भाई ने लाठी-डंडों से पीटा और उसकी आंखें फोड़ कर दाहिनी आंख निकाल ली। पिता ने नामजद मुकदमा दर्ज कराया है। पीडि़ता की हालत गंभीर है।उसे परिवारीजन जिला अस्पताल ले गए जहां घटना के दो घंटे बाद पहुंचे दारोगा ने पीडि़ता के पिता का बयान लिया। बाद में बेहतर इलाज के लिए उसे कानपुर भेजा। डीजीपी जावीद अहमद ने मामले का संज्ञान लेते हुए पीड़ित परिवार को सुरक्षा और दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई का आदेश दिया है।युवती 15 मई 2015 को मवेशी चराने खेत गई थी। आरोप है कि पड़ोसी गांव जोधाखेड़ा निवासी मुन्ना और मतई ने उससे सामूहिक दुष्कर्म किया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर दोनों को जेल भेज दिया।

10 जुलाई 2015 से दोनों अभी जेल में ही हैं। तब से आरोपी मुन्ना का भाई पुत्तन युवती और उसके परिवार पर सुलह का लगातार दबाव बना रहा था। पीडि़त पक्ष ने दबाव को दरकिनार रख पैरवी जारी रखी। इसी की खुन्नस में पुत्तन ने आज उस समय वारदात को अंजाम दिया जब वह दोपहर में दैनिक क्रिया को घर से 100 मीटर दूर बाग गई थी। काफी देर तक घर नहीं पहुंचने पर तलाश शुरू हुई तो छोटी बहन को वह मरणासन्न हाल में पड़ी मिली। पिता उसे सीएचसी मियागंज लेकर गए। जहां से नाजुक हालत में उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। युवती के पिता ने आरोप लगाया कि सुलह नहीं करने पर ऐसी घिनौनी हरकत की गई है। 

सीओ अशोक सिंह ने पुलिस टीम के साथ घटनास्थल की जांच की। ग्रामीणों और परिवारीजन के बयान दर्ज करने के बाद पुलिस ने आरोपी की तलाश शुरू कर दी है। इसी सामूहिक दुष्कर्म से गर्भवती हुई पीडि़ता ने जिला अस्पताल में बच्ची को जन्म दिया था। हालांकि जन्म के 35 दिन बाद ही बच्ची की मौत हो गई थी। 
पुलिस अधीक्षक नेहा पांडेय ने बताया कि पीडि़त युवती को कानपुर के लाला लाजपत राय अस्पताल (हैलट) भेजा गया था। वहां डाक्टरों की सलाह पर परिवार वालों की सहमति से उसे रीजेंसी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मैं खुद परिवार के साथ अस्पताल में मौजूद रही हूं। पीडि़त युवती का इलाज पुलिस करायेगी। दोषी को किसी भी कीमत पर छोड़ा नहीं जाएगा। 

डीजीपी जावीद अहमद ने कहा कि यह घटना बहुत ही गंभीर है और यह हमारे संज्ञान में है। मामले में पहले के आरोपी जेल में हैं। इस बार जिनकी भी भूमिका है उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की हिदायत दी गयी है। उन्नाव की एसपी को पीडि़ता के भरपूर सहयोग और सुरक्षा के भी निर्देश दिए गये हैं। इस मामले में किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा।

You May Also Like

English News