PAK में विवादित बयान देकर फंसे मणिशंकर, देशद्रोह मामले में गिरफ्तारी की मांग

अपने बोल बचन की वजह से अक्सर विवादों में रहने वाले और विवादों की वजह से ही कांग्रेस से निलंबित किए गए मणिशंकर अय्यर एक बार फिर विवादों के घेरे में हैं.PAK में विवादित बयान देकर फंसे मणिशंकर, देशद्रोह मामले में गिरफ्तारी की मांग

पाकिस्तान में दिए गए उनके बयान के खिलाफ दिल्ली पुलिस को शिकायत की गई है कि देशद्रोह के आरोप में मुकदमा दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया जाए. अय्यर पाकिस्तान में साहित्य उत्सव में हिस्सा लेने गए थे और उन्होंने विवादों का ऐसा साहित्य रचा कि बस बवाल मच गया. बवाल भी इस कदर आगे बढ़ा कि अब इस मामले की जांच दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा करेगी, यानी अय्यर पर शिकंजा और कस सकता है.

कांग्रेस से निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर के पाकिस्तान और भारत की विदेश नीति, कश्मीर नीति और बातचीत की नीति को लेकर दिए गए विवादित बयान के बाद उनके खिलाफ दिल्ली के निजामुद्दीन थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है. यह शिकायत दर्ज कराई है भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता और सुप्रीम कोर्ट के वकील अजय अग्रवाल ने.

उन्होंने अपनी शिकायत में मणिशंकर अय्यर की गिरफ्तारी की मांग की गई है. बीते 12 फरवरी को मणिशंकर ने भारत और पाकिस्तान के बीच मुद्दों के समाधान के लिए निर्बाध बातचीत की पैरवी की थी. अय्यर कराची साहित्य महोत्सव में भाग लेने पाकिस्तान गए थे.

दिल्ली पुलिस के निजामुद्दीन थाने ने ये शिकायत उच्चस्तरीय जांच के लिए अपराध शाखा को भेज दी है, यानी अब इस पूरे मामले में अपराध शाखा ही उपयुक्त समझेगी तो एफआईआर दर्ज करेगी. जरूरत पड़ने पर चार्जशीट भी दाखिल करेगी. 

इस महोत्सव के दौरान अय्यर ने कहा था कि भारत-पाकिस्तान के बीच विवादित मुद्दों को हल करने के लिए एक ही रास्ता है और वो है निर्बाध बातचीत का.  अय्यर ने बातचीत के जरिए मुद्दों को हल करने की कोशिश के लिए पाकिस्तान की सराहना की और कहा कि नई दिल्ली के पास यह नीति नहीं है.

कांग्रेस ने पिछले साल 7 दिसंबर को अपने वरिष्ठ नेता मणिशंकर की प्राथमिक सदस्यता निलंबित कर दी थी. तब भी प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ अय्यर के विवादित बयान पर ही बवाल मचा था. उनको निलंबित करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने एक ट्वीट कर यह जानकारी दी थी. तब सुरजेवाला ने कहा था कि कांग्रेस ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से मणिशंकर को निलंबित कर दिया है. उन्होंने ये भी कहा था कि यह कांग्रेस पार्टी का गांधीवाद है और अपने प्रतिद्वंद्वियों के प्रति सम्मान की भावना है. क्या मोदीजी (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) कभी इस तरह की भावना दिखा सकते हैं?”

अय्यर ने प्रधानमंत्री को एक ‘नीच आदमी’ कहा था. बाद में उन्होंने सफाई दी की इस शब्द का प्रयोग उन्होंने मोदी का भाषण सुनने के बाद आक्रोश में आकर किया. मोदी ने अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में राहुल गांधी का नाम न लेते हुए ये भी ताना मारा था कि कुछ लोगों को इस समय बाबा साहेब के बजाय भोले बाबा याद आते हैं. उनकी यह टिप्पणी राहुल के मंदिरों में जाने के संदर्भ में थी. कांग्रेस को ये भी नागवार गुजरी लेकिन अब किया क्या जा सकता था क्योंकि अय्यर पहले ही निलंबित किए जा चुके थे.

हालांकि अरुंधति राय के मामले में कोर्ट पहले ही यह कह चुका है कि बोलने की आजादी के तहत किसी का बोलना देशद्रोह का अपराध नहीं माना जा सकता. अब देखना यह है कि पुलिस अय्यर मामले में किस दिशा में और कैसे आगे बढ़ती है.

You May Also Like

English News