PM की रैली से पहले कर्नाटक में सियासत तेज, कन्नड़ समर्थकों ने बुलाया बंद

उत्तर और मध्य भारत में भगवा परचम लहराने के बाद भारतीय जनता पार्टी अब दक्षिण में सेंध लगाने की कोशिश में है. इस कड़ी में सबसे पहला नंबर कर्नाटक का है, क्योंकि यहां इसी साल अप्रैल तक चुनाव होने की संभावना है. ऐसे में सूबे की सियासी बिसात पूरे तरीके से बिछ चुकी है. बीजेपी की ‘कर्नाटक नवनिर्माण यात्रा’ भी अंजाम तक पहुंच गई है.PM की रैली से पहले कर्नाटक में सियासत तेज, कन्नड़ समर्थकों ने बुलाया बंद

पूरे कर्नाटक में करीब ढाई महीने तक चली नवनिर्माण यात्रा पूरी होने के बाद आज एक रैली आयोजित की गई है. इस रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हिस्सा ले रहे हैं. हालांकि, यात्रा पूरी होने के मौके पर 28 जनवरी को पीएम को रैली में शिरकत करनी थी, लेकिन उनकी व्यस्तता के चलते रैली टाल दी गई थी. अब पीएम इस रैली को संबोधित करने जा रहे हैं, जिससे ठीक पहले एक बार फिर सूबे में सियासत गरमा गई है.

जल विवाद पर बुलाया बंद

महादायी जल विवाद को लेकर कन्नड़ समर्थित संगठनों ने आज बंद बुलाया है. साथ ही विरोध प्रदर्शन का भी आह्वान किया है. हालांकि, कर्नाटक हाई कोर्ट ने इस बंद को अवैध ठहराया है. वहीं, कांग्रेस सीधे तौर पर इस प्रदर्शन का समर्थन नहीं कर रही है, लेकिन माना जा रहा है कि प्रदर्शकारियों को उसका संरक्षण प्राप्त है.

दरअसल, महादायी जल विवाद कर्नाटक की राजनीति में बड़ा मुद्दा है. महादायी नदी उत्तर-पश्चिमी कर्नाटक के बेलागावी जिले के पश्चिमी घाट के भीमगढ़ से शुरू होकर गोवा तक जाती है. कर्नाटक 2001 से ही गोवा से 7.6 अरब क्यूबिक फीट नदी का पानी छोड़ने की मांग कर रहा है. लेकिन ऐसा नहीं हो पाया है. जिसे लेकर किसान और उनसे जुड़े संगठन नाराज हैं. जुलाई 2016 में महादायी जल विवाद ट्रिब्यूनल (एमडब्ल्यूडीटी) ने कर्नाटक के दावे को ठुकरा दिया था.

कांग्रेस-बीजेपी में जुबानी जंग 

पीएम मोदी की रैली से पहले कांग्रेस और बीजेपी के बीच जुबानी जंग भी छिड़ गई है. दरअसल, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने दावा किया है कि केंद्र ने कर्नाटक को विभिन्न योजनाओं के तहत तीन लाख करोड़ रूपये से अधिक दिया है, जिस पर कांग्रेस ने पलटवार किया है.

कांग्रेस के प्रदेश कार्यवाहक अध्यक्ष दिनेश गुंडु राव और कर्नाटक के कृषि मंत्री कृष्ण बैरेगौड़ा ने अमित शाह की टिप्पणी को झूठ बताया है. राव ने कहा है कि बीजेपी के पास कर्नाटक के लोगों को पेश करने के लिए सिर्फ आधा सच है. बीजेपी ऐसे कह रही है, जैसे कि इसने राज्य को तोहफे में धन दिया है, जबकि हकीकत में सभी राज्य संवैधानिक रूप से इसके हकदार हैं. उन्होंने कहा कि कर्नाटक को 10,533 करोड़ रुपया कम मिला, जिसका वह हकदार था.

पीएम के दौरे पर टिप्पणी

दिनेश गुंडु ने पीएम मोदी के दौरे पर भी टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि हम जानते हैं कि आप (प्रधानमंत्री) हमें (रविवार को) तीन लाख करोड़ रूपया नहीं देंगे, लेकिन कम से कम आप अनुदान में कम रही राशि ही कर्नाटक को जारी कर दीजिए.

इस पर बीजेपी प्रदेश प्रमुख बीएस येदियुरप्पा ने कांग्रेस को आड़े हाथ लिया और कहा कि कांग्रेस अपनी अक्षमता छिपाने के लिए अनुदान के बारे में बात कर रही है.

You May Also Like

English News