PM मोदी का बड़ा बयान: आतंकवाद और साइबर सिक्योरिटी से साथ-साथ निपटेंगे इटली और भारत

भारत के दो दिवसीय आधिकारिक दौरे पर आए इटली के प्रधानमंत्री पाओलो जेंटिलोनी के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस की. प्रेस कांफ्रेंस के दौरान दोनों देशों के प्रतिनिधियों ने परस्पर संबंधों को और मजबूत करने की बात तो दोहराई ही साथ ही साथ आतंकवाद और साइबर सिक्योरिटी जैसे मामलों से निपटने की बात भी कही.PM मोदी का बड़ा बयान: आतंकवाद और साइबर सिक्योरिटी से साथ-साथ निपटेंगे इटली और भारतनासा ने पहली बार सौर मंडल में तारों के बीच से गुजरती देखी रहस्यमयी वस्तु

आपको बता दें कि सोमवार को राष्ट्रपति भवन में जेंटिलोनी का औपचारिक स्वागत किया गया था. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जेंटिलोनी का स्वागत किया था. जिसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने सोमवार को जेंटिलोनी के साथ प्रतिनिधि स्तर की वार्ता की. यह संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस उसी वार्ता पर थी. यहां आपको यह भी बता दें कि जेंटिलोनी एक दशक बाद भारत आए हैं. इससे पहले फरवरी 2007 में इटली के प्रधानमंत्री रोमानो प्रोडी ने भारत का दौरा किया था.

संयुक्त प्रेस कांफ्रेस को सबसे पहले संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “भारत इटली संबंधों के एक ऐसे समय पर हो रही है जब हम अपने राजनयिक संबंधों की 70वीं वर्षगांठ मनाने वाले हैं. हम दोनों ही अपने द्वपक्षीय संबंधों को नई ऊंचाईयों पर ले जाने के इच्छुक हैं. दोनों देशों ने अपने परस्पर संबंधों की समीक्षा की. साथ ही क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर विचार विमर्श किया. भारत और इटली विश्व की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाएं हैं. लगभग 8.8 मिलियन डॉलर के द्विपक्षीय व्यापार में अभी काफी बढ़ोत्तरी होने की क्षमता है. मुझे प्रसन्नता है कि प्राइम मिनिस्टर के साथ एक हाइलेवल बिजनेस डेलीगेशन आया है. दोनों देशों के इंडस्ट्रियल लीडर के साथ मुलाकात के बीच मैंने भविष्य की संभावनाओं का अनुभव किया. हम मजबूत भागीदारी को प्रोत्साहित करना चाहेंगे.”

पीएम मोदी ने आगे कहा, “भारतीय कंपनियों के साथ अपार संभावनाएं हैं. अनेक क्षेत्रों में हमारी आवश्यकताएं और इटली की क्षमता मिलती है. इसी हफ्ते वर्ल्ड फूड इंडिया में इटली बड़े पैमाने पर भाग लेगा, साइंस और टेक्नॉलजी में हम भागीदारी बढ़ाने को उत्सुक हैं. इटली हायर एजुकेशन के लिए पसंदीदा जगह बनता जा रहा है. मुझे यह प्रसन्नता हुई कि इटली में बहुत से लोग भारतीय संस्कृति, खानपान, योग और रहन-सहन में रुचि रखते हैं. द्विपक्षीय मुद्दों के अलावा कई क्षेत्रीय और वैश्विक स्तर के मामलों पर भी बात हुई. आज के युग में प्रत्येक दिन हमें नए खतरों और चुनौतियों का सामना करना पड़ता है. हमने विस्तार पर चर्चा की, हम दोनों आतंकवाद से लड़ने और सायबर सिक्योरिटी से निपटने को प्रतिबद्ध हैं. साझा चुनौतियों और हितों के मामले में एकदूसरे का समर्थन करने पर सहमत हैं. मैं एक बार फिर प्रधानमंत्री का आभार व्यक्त करता हूं कि वे भारत आए और मुझे उनके साथ विभिन्न मामलों पर बात करने का मौका मिला.”

 

इटली के प्रधानमंत्री पाओलो ने भी प्रधानमंत्री का धन्यवाद देते हुए कहा कि इटली और भारत एकसाथ काम करेंगे. उन्होंने कहा, “यात्रा का विचार इस अवसर पर संबंधों को बढ़ाने के लिए था. हम दो प्रमुख सभ्याताएं और ब्रांड हैं. इटली में हालात काफी स्थिर हैं. भारतीय लोकतंत्र की महानता विश्व के लिए एक संदेश है. यह रिश्तों की रिलॉन्चिंग का समय है. हमारे राजनयिक संबंधों की रिलॉन्चिंग से हमें बेहतर करने का अधिक मौका मिलेगा.”

इस मौके पर भारत और इटली के संबंधों की 70वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में एक लोगो भी जारी किया गया. बता दें कि मार्च 2018 में भारत और इटली अपने संबंधों को 70वीं वर्षगांठ मनाएंगे.

You May Also Like

English News