PMO ने चौथी बार ठुकराई केरल सीएम की अर्जी

वामपंथी नेता और केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन पिछले लम्बे समय से प्रधानमंत्री कार्यालय से मिलने का समय मांग रहे है लेकिन एक बार फिर उनकी अर्जी को ठुकरा दिया गया है. बता दें कि पिछले तीन सालों में ऐसा चौथी बार हुआ है जब केरल के मुख्यमंत्री को पीएमओ से अपॉइंटमेंट नहीं मिला है. केरल सीएमओ के सूत्रों का कहना है कि केरल के लिए राशन आवंटन में असमानताओं पर चर्चा करने के लिए पीएमओ से वक्त मांगा गया था, लेकिन पीएमओ से अभीतक इसके लिए वक्त नहीं दिया है.वामपंथी नेता और केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन पिछले लम्बे समय से प्रधानमंत्री कार्यालय से मिलने का समय मांग रहे है लेकिन एक बार फिर उनकी अर्जी को ठुकरा दिया गया है. बता दें कि पिछले तीन सालों में ऐसा चौथी बार हुआ है जब केरल के मुख्यमंत्री को पीएमओ से अपॉइंटमेंट नहीं मिला है. केरल सीएमओ के सूत्रों का कहना है कि केरल के लिए राशन आवंटन में असमानताओं पर चर्चा करने के लिए पीएमओ से वक्त मांगा गया था, लेकिन पीएमओ से अभीतक इसके लिए वक्त नहीं दिया है.  बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री विजयन सीपीआई (एम) की केंद्रीय समीति की बैठक में भाग लेने के लिए दिल्ली जा रहे हैं. इसलिए विजयन और केरल की ऑल पार्टी डेलिगेशन ने प्रधानमंत्री कार्यालय से मिलने का समय माँगा था. बताया जा रहा है कि चौथी बार भी उनकी अर्जी को नकारते हुए पीएमओ ने जवाब के तौर पर यह कहा कि यदि आवश्यक हो तो खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री राम विलास पासवान से मिल सकते हैं.  पार्टी सूत्रों का कहना है कि पिछले हफ्ते भी प्रधानमंत्री कार्यालय से मिलने का समय माँगा गया था जो कि नहीं मिला. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि विजयन भी उन मुख्यमंत्रियों में शामिल है जो दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के एलजी ऑफिस में धरने पर बैठने के दौरान उनसे मिलने पहुंचे थे, साथ ही प्रधानमंत्री को पत्र लिख इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की थी.

बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री विजयन सीपीआई (एम) की केंद्रीय समीति की बैठक में भाग लेने के लिए दिल्ली जा रहे हैं. इसलिए विजयन और केरल की ऑल पार्टी डेलिगेशन ने प्रधानमंत्री कार्यालय से मिलने का समय माँगा था. बताया जा रहा है कि चौथी बार भी उनकी अर्जी को नकारते हुए पीएमओ ने जवाब के तौर पर यह कहा कि यदि आवश्यक हो तो खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री राम विलास पासवान से मिल सकते हैं.

पार्टी सूत्रों का कहना है कि पिछले हफ्ते भी प्रधानमंत्री कार्यालय से मिलने का समय माँगा गया था जो कि नहीं मिला. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि विजयन भी उन मुख्यमंत्रियों में शामिल है जो दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के एलजी ऑफिस में धरने पर बैठने के दौरान उनसे मिलने पहुंचे थे, साथ ही प्रधानमंत्री को पत्र लिख इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की थी.

 

You May Also Like

English News