PNB को लगा एक और तगड़ा झटका, अब हुआ 940 करोड़ रुपए का नुकसान

नीरव मोदी के महाघोटाले का दर्द अभी भरा भी नहीं था कि पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) को एक और बड़ा झटका लगा है. साल में दूसरी बार उसे नुकसान उठाना पड़ा है. 13400 करोड़ रुपए के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले के बाद पीएनबी को 940 करोड़ का नुकसान हुआ है. दरअसल, वित्त वर्ष 2018-19 की पहली तिमाही में उसे यह नुकसान हुआ है. अप्रैल-जून तिमाही में पीएनबी को 940 करोड़ रुपए का घाटा झेलना पड़ा. बता दें कि पिछले साल इस क्वॉर्टर में बैंक को 343 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था.

घाटा हुआ लेकिन आय बढ़ी
पंजाब नेशनल बैंक को भले ही मुनाफा न हुआ हो, लेकिन इसी तिमाही में उसकी आय बढ़कर 15072 करोड़ रुपए हो गई. वहीं, पिछले वर्ष अप्रैल-जून तिमाही में उसकी आय 14,468.14 करोड़ रुपए थी. अगर ब्याज से आय की बात करें तो पहली तिमाही में पीएनबी की ब्याज से आय 21.7 फीसदी बढ़कर 4,692 करोड़ रुपए पहुंच गई, जबकि पिछले वर्ष की पहली तिमाही में पीएनबी की ब्याज से आय 3,855 करोड़ रुपए रही थी.

NPA में हुआ सुधार
अप्रैल-जून तिमाही में पीएनबी का ग्रॉस एनपीए 18.38 फीसदी से घटकर 18.26 फीसदी रहा है. वहीं, नेट एनपीए 11.24 फीसदी से घटकर 10.58 फीसदी रहा है. रुपये में पीएनबी के एनपीए पर नजर डालें तो पहली तिमाही में ग्रॉस एनपीए 86,620 करोड़ रुपए से घटकर 82,889 करोड़ रुपए रहा है. वहीं, नेट एनपीए 48,684 करोड़ रुपए से घटकर 43,872 करोड़ रुपए रहा है.

प्रोविजनिंग भी घटी
पंजाब नेशनल बैंक के लिए राहत की बात यह है कि पहली तिमाही में उसकी प्रोविजनिंग 20,353.1 करोड़ रुपए से घटकर 5,758 करोड़ रुपए रही है, वहीं पिछले साल पहली तिमाही में प्रोविजनिंग 2,608.7 करोड़ रुपए रही थी.

अब तक का सबसे बड़ा घाटा
भारत के चौथे सबसे बड़े बैंक के लिए पिछला कुछ वक्त अच्छा नहीं रहा है. इससे पिछले वित्त वर्ष के आखिरी क्वॉर्टर में बैंक को 13,417 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था. यह उसका अबतक का सबसे बड़ा घाटा था. बैंक को लगातार दोनों क्वॉर्टर में घाटा नीरव मोदी के घोटाले के बाद हुआ है. नीरव और मेहुल चोकसी ने मुंबई की एक ब्रांच ब्रेडी हाउस के कुछ कर्मचारियों के साथ मिलकर बैंक को हजारों करोड़ का चूना लगाया था. फरवरी में इसका खुलासा हुआ था.

You May Also Like

English News