PNB घोटाले पर विश्व बैंक की सकारात्मक टिप्पणी व्यवस्था

यह खबर सरकार के साथ ही पंजाब नेशनल बैंक को भी राहत देने वाली है, कि पीएनबी)में हुआ करीब13,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला वास्तव में देश के वित्तीय क्षेत्र की व्यवस्था में समस्या की ओर संकेत नहीं करता है.यह कहना है वर्ल्ड बैंक के भारत में संचालक जुनैद कमाल अहमद का.जो अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की राय के एकदम उलट है.PNB घोटाले पर विश्व बैंक की सकारात्मक टिप्पणी व्यवस्था

उल्लेखनीय है कि मुंबई में लॉजिस्टिक्स उद्योग के एक कार्यक्रम में विश्व बैंक के भारत में संचालक जुनैद कमाल अहमद ने कहा, ‘कोई भी घोटाला हमारे लिए रेग्युलेटरी सुपरविजन फंक्शन जांचने और बैंकिंग सिस्टम सही तरीक से काम कर रहा है, कि नहीं यह जांचने के लिए महत्वपूर्ण होता है. यह हमें मौका देता है कि हम देख सकें कि हमारा बैंकिग सिस्टम जैसा इसे काम करना चाहिए ठीक वैसा ही काम कर रहा है या नहीं.मैं एक घोटाले को पूरे सिस्टम के फेल होने के संकेत के रूप में नहीं देखता.अहमद ने कहा कि भारत में पारदर्शिता और जवाबदेही को बढ़ाने के लिए बहुत से कदम उठाए गए हैं. उन्होंने डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर में आधार की भूमिका की भी प्रशंसा की.

गौरतलब है कि अहमद के इस बयान के विपरीत अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने इस तरह की धोखाधड़ियों से बचने के लिए बैंकों की संचालन व्यवस्था में के स्तर पर और अधिक बदलाव लाने की बात कही थी. पीएनबी में घोटाला सामने आने के बाद से ही भारत में बैंकिग व्यवस्था की कार्यप्रणाली पर लगातार सवाल उठ रहे हैं. कई रिपोर्ट्स में भी यह बात सामने आई है कि अगर बैंकिंग व्यवस्था  में खामी नहीं होती और लापरवाही नहीं बरती गई होती तो इतना बड़ा घोटाला संभव नहीं होता.

You May Also Like

English News