PNB फ्रॉड: 20 फीसदी तक लुढ़के शेयर, निवेशकों को 6,800 करोड़ का नुकसान

पंजाब नेशनल बैंक में 11 हजार करोड़ रुपये की महा धोखाधड़ी के बाद लगातार दूसरे दिन बैंक के शेयरों में गिरावट का सिलसिला जारी रहा. जहां पहले दिन बुधवार को नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर पीएनबी के शेयरों में 10 फीसदी तक गिरावट दर्ज हुई. वहीं, गुरुवार दिन के कारोबार की शुरुआत से ही बैंक के शेयरों में 7 फीसदी तक की गिरावट देखने को मिली.PNB फ्रॉड: 20 फीसदी तक लुढ़के शेयर, निवेशकों को 6,800 करोड़ का नुकसान

लेकिन दिन का कारोबार खत्म होते होते पीएनबी के शेयर लगभग 9 फीसदी लुढ़क गए. लिहाजा, धोखाधड़ी के असर से दो दिनों में बैंक के शेयरों की कीमत लगभग 19 फीसदी लुढ़क गई और शेयरधारकों को 6,840 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा.

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया को छोड़कर सभी प्रमुख बैंकों के शेयर में गिरावट का दौर जारी है. पीएनबी के अलावा नुकसान उठाने वाले शेयरों में इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, आईडीबीआई बैंक, सिंडिकेट बैंक, यूनियन बैंक, इंडियन बैंक और बैंक ऑफ इंडिया शामिल हैं जिन्हें 1 से 5 फीसदी तक की गिरावट देखनी पड़ी.

यूनियन बैंक के शेयरों में दिन के कारोबार में 1.85 फीसदी की गिरावट दर्ज हुई तो इलाहाबाद बैंक के शेयर 5.6 फीसदी कमजोर हो गए. हालांकि एक्सिस बैंक के शेयर दिन के कारोबार में हरे निशान में बंद होने में कामयाब रहा. सरकारी बैंकों के अलावा महा घोटाले के असर से शेयर बाजार पर लिस्टेड कुछ ज्वेलरी कंपनियों को भी शेयर में गिरावट देखनी पड़ी. गीतांजलि जेम्स के शेयरों में एक दिन में 19 फीसदी की गिरावट के साथ कीमत 47.50 रुपये के एक साल के निचले स्तर पर पहुंच गई. 

देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक पंजाब नेशनल बैंक की मुंबई स्थित एक शाखा में 11,360 करोड़ रुपये का फर्जी ट्रांजैक्शन किया गया है. फर्जीवाड़ा कर बैंक को चपत लगाई गई यह रकम शेयर बाजार में बैंक के कुल मार्केट कैपिटलाइजेशन का लगभग एक तिहाई है. इसके चलते जहां शेयर बाजार पर दो दिनों में कंपनी के शेयरों को 19 फीसदी का नुकसान उठाना पड़ा वहीं एक अनुमान के मुताबिक बैंक के आम खाताधारक को भी बैंक में जमा उसके 100 रुपये में 30 रुपये का नुकसान झेलना पड़ेगा. वहीं शेयर बाजार में बैंक के शेयरधारकों को इस दौरान लगभग 6 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का नुकसान झेलना पड़ा है.

गौरतलब है कि वित्त मंत्रालय ने पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के 11,300 करोड़ रुपये के फ्रॉड को लेकर जताई जा रही आशंकाओं को खारिज करते हुए कहा कि यह मामला ‘नियंत्रण के बाहर’ नहीं है और इस बारे में उचित कार्रवाई की जा रही है. हालांकि अन्य बैंकों में ऐसी घटना न होने पाए इसलिए मंत्रालय ने देश के सभी बैंकों से एक हफ्ते के अंदर रिपोर्ट तलब की है.

वहीं मामले में अरबपति ज्वैलरी कारोबारी नीरव मोदी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है. इस मामले में ईडी ने देशभर में कई जगह छापेमारी भी की है. छापेमारी के बाद सीबीआई ने मुंबई के हाजी अली दरगाह के पास वर्ली में स्थित नीरव मोदी का घर भी सील कर दिया है. वहीं बैंक ने अपने 10 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है.

You May Also Like

English News