RTI में हुआ बड़ा खुलासा- बोर्ड ने की लापरवाही, स्टूडेंट को 79 की जगह दिए सिर्फ 2 नंबर

आरटीआई में बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड की बड़ी लापरवाही सामने आई है। धनंजय कुमार नाम के छात्र को हिंदी में महज 2 अंक दिए गए थे, जबकि आरटीआई में खुलासा हुआ कि उसके असल मार्क्स 79 थे। आरटीआई की माने तो धनंजय ने 500 में से 421 मार्क्स पाए हैं, लेकिन बिहार बोर्ड ने उसे 344 मार्क्स पर ही समेट दिया था।RTI में हुआ बड़ा खुलासा- बोर्ड ने की लापरवाही, स्टूडेंट को 79 की जगह दिए सिर्फ 2 नंबर

जानना चाहेंगे कि कानपुर को क्यों कहा जाता हैं “मैनचेस्टर अॉफ ईस्ट”

धनंजय को बोर्ड की लापरवाही से नुकसान झेलना पड़ा है, क्योंकि उसे फेल करार दिया गया। धनंजय के भाई का कहना है कि उन्होंने इन सब के लिए करीब 6 महीने प्रशासन के चक्कर काटे हैं और इस वजह से उसका भाई डिप्रेशन में चला गया।

वहीं धनंजय का कहना है कि वो आईआईटी की परीक्षा देना चाहता था, लेकिन उसका सपना इस रिजल्ट के बाद टूट गया। धनंजय इन हालातों से गुजरा रहा था कि वो खुद को खत्म करने का प्लान बना चुका था, लेकिन परिवार का साथ होने के चलते उसे काफी मदद मिली।

ये मामला राजनीतिक तूल भी पकड़ता जा रहा है, क्योंकि आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने भी मामले पर ट्वीट किया है। दरअसल, बिहार में टॉर्प्स से जब सवाल पूछे गए थे तो वह जवाब देने में असमर्थ रहे थे और इसके बाद राज्य की शिक्षा व्यवस्था पर सवाल उठने लगे थे। 

You May Also Like

English News