Sensational: मासूम की हत्या उसके मौसा ने की थी, वजह जानकर हो जाईयेगा दंग!

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के ठाकुरगंज इलाके में 27 अप्रैल को हुई मासूम ऋषभ की हत्या का खुलासा करते हुए पुलिस ने ऋषभ के सगे मौसा को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर मासूम के कपड़े और एक मोबाइल फोन बरामद किया है। आरोपी मासूम की मां से एक-तरफा प्यार करता था। मासूम के पिता को उसकी हत्या में फंसाने के लिए आरोपी ने ऋषभ की हत्या की थी।


एसपी पश्चिम विकास चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि ठाकुरगंज के गढ़ी पीर खान इलाके में बीते 27 अप्रैल को साढ़े तीन साल के मासूम ऋषम का शव एक खेत में पड़ा मिला था। इस मामले में ऋषभ के घरवालों की तरफ से उसके पिता संतोष कश्यम सहित परिवार के 8 लोगों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज करायी थी।

इसके पीछे वजह यह भी कि ऋषभ की मां खुशबू और पति संतोष कश्यप के बीच आपसी मनमुटाव चल रहा था और खुशबू अपने मायके चौक में रह रही थी। इस मामले में ठाकुरगंज पुलिस ने संतोष और उसके परिवार वालों का हिरासत में लेकर कई बार पूछताछ की पर कुछ भी पता नहीं चल सका। इसके बाद पुलिस ने उस शादी समारोह की वीडियो हासिल की, जहां से ऋषभ गायब हुआ था।

वीडियो को देखने और सर्विलांस पर काम करते वक्त पुलिस को मासूम ऋषभ के मौसा बिजली मैकेनिक रज्जनलाल कश्यप की भूमिका संदिग्ध मिली। पुलिस ने इस मामले में सोमवार को रज्जनलाल को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया। आरोपी रज्जनलाल ने पहले तो पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की, पर बाद में वह पुलिस के सवालों के आगे टूट गया। उसने मासूम ऋषभ की हत्या करने की बात कुबूल ली। इसके बाद पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर घटनास्थल के पास से मासूम के कपड़े और आरोपी का मोबाइल फोन भी बरामद किया।

इसलिए की थी मासूम की हत्या
एसपी सिटी ने बताया कि आरोपी रज्जनलाल अपनी साली खुशबू से एक तरफा प्यार करता था। कुछ साल पहले खुशबू की शादी हुसैनगंज निवासी संतोष कश्यप से हो गयी। खुशबू की शादी से पहले रज्जनलाल उससे फोन पर भी बातचीत किया करता था। हमेशा उसके दिमाग में खुशबू को पानूे की चाह रहती थी। इस बीच खुशबू और उसके पति के बीच मनमुटाव हो गया और खुशबू कुछ समय के लिए रज्जनलाल के घर जाकर रहने लगी। इस बीच रज्जनलाल ने फर्जी नाम व पते से एक सिमकार्ड खरीदा और खुशबू के पति संतोष को फोन कर खुशबू की खूब बुराई की। ऐसा उसने इसलिए किया ताकि दोनों के बीच समझौत न हो सके और खुशबू उसके घर पर ही रहे। 27 अप्रैल को रज्जनलाल के पड़ोसी की बेटी की शादी थी। इस शादी में खुशबू और उसका मासूम बेटा ऋषभ भी शामिल होने गये थे। रात करीब 11 बजे ऋषम अचानक गायब हो गया था। परिवार के लोगों के साथ रज्जनलाल भी ऋषभ को तलाशने लगा। इस बीच मासूम टेंट के पीछे पाइप से अकेला झूला झुलते दिखा। बस इस बीच आरोपी के दिमाग में मासूम की हत्या कर उसके पिता व परिवार वालों को फंसाने का प्लान आया और वह मासूम को पास में ही राजा के खेत में ले गया और वहां उसकी गला दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद आरोपी ने मासूम के कपड़े भी उतर कर उसको दूसरा रूप देने की कोशिश की।

मददगार बन मासूम का तलाशने का करता रहा नाटक
इंस्पेक्टर ठाकुरगंज दीपक दूबे ने बताया कि सिरफिर रज्जनलाल पर साली से एक तरफा प्यार का भूत इस कदर सवार था कि वह मासूम को मार कर उसके ही पिता को फंसाने का प्लान बना डाला। मासूम की हत्या के बाद आरोपी मददगार बन इधर-उधर ऋषभ को तलाशने का नाटक करता रहा, जबकि आरोपी को पता था कि उसने मासूम की हत्या कर दी है।

बेगुनाह लोग जेल जाने से बचे
मासूम ऋषभ की हत्या का खुलासा करते हुए ठाकुरगंज पुलिस ने न सिर्फ असली आरोपी रज्जनलाल को गिरफ्तार किया, बल्कि इस मामले में नामजद ऋषम के पिता संतोष और उसके परिवार वालों को भी जेल जाने से बचा लिया। ऋषभ के परिवार वालों ने तो उसके ही पिता सहित परिवार के 8 लोगों पर हत्या का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट तक दर्ज करा दी थी। अगर सही ढंग से पुलिस ने छानबीन न की होती तो शायद बेगुनाह जेल भी जा सकते थे।

You May Also Like

English News