Smartphone : नई डिवाइस से सौ गुना बढ़ जाएगी बैटरी की लाइफ

पावर बैंक के इस जमाने में इलेक्ट्रॉनिक गैजेट को लेकर चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। स्मार्टफोन और लैपटॉप को बार-बार चार्ज करने के झंझट से जल्द छुटकारा मिल जाएगा। भारतवंशी वैज्ञानिक की अगुआई वाली टीम ने एक ऐसी डिवाइस विकसित की है, जिससे स्मार्टफोन और लैपटॉप जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की बैटरी लाइफ सौ गुना तक बढ़ जाएगी।पावर बैंक के इस जमाने में इलेक्ट्रॉनिक गैजेट को लेकर चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। स्मार्टफोन और लैपटॉप को बार-बार चार्ज करने के झंझट से जल्द छुटकारा मिल जाएगा। भारतवंशी वैज्ञानिक की अगुआई वाली टीम ने एक ऐसी डिवाइस विकसित की है, जिससे स्मार्टफोन और लैपटॉप जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की बैटरी लाइफ सौ गुना तक बढ़ जाएगी।  किसी चुंबकीय जाली की तरह की विशिष्ट इलेक्ट्रॉनिक गुणों वाली इस संरचना को अमेरिका की मिसौरी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने विकसित किया है। मिसौरी यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर दीपक सिंह ने बताया कि सेमीकंडक्टर, डायोड और एंप्लीफायर की तरह ही इस नई इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में सिलिकॉन या जर्मेनियम का ही इस्तेमाल किया गया है। यह डिवाइस बेहद कम ऊर्जा की खपत कर चुंबकीय डायोड के जरिये ट्रांजिस्टर्स और एंप्लीफायर्स से बने ऊर्जा स्रोत को कई गुना बढ़ा देती है। यह डिवाइस कंप्यूटर प्रोसेसर में भी उपयोग में लाई जा सकती है। इससे लैपटॉप या डेस्कटॉप का सीपीयू कम गर्म होगा।  शोधकर्ताओं ने बताया कि इस डिवाइस को पांच घटे तक चार्ज कर 500 घंटे तक बैटरी का उपयोग किया जा सकता है। प्रामाणिक तौर पर इसे विकसित करने के लिए हालांकि अभी कुछ काम बाकी है। इस डिवाइस की खासियत है कि यह ऑन-ऑफ स्विच के रूप में सीसीटीवी कैमरे और रेडियो फ्रीक्वेंसी आधारित उपकरणों में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। दीपक ने कहा कि इस डिवाइस के अमेरिकी पेटेंट और डिवाइस को बाजार में लाने के लिए कंपनी ढूंढने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

किसी चुंबकीय जाली की तरह की विशिष्ट इलेक्ट्रॉनिक गुणों वाली इस संरचना को अमेरिका की मिसौरी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने विकसित किया है। मिसौरी यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर दीपक सिंह ने बताया कि सेमीकंडक्टर, डायोड और एंप्लीफायर की तरह ही इस नई इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में सिलिकॉन या जर्मेनियम का ही इस्तेमाल किया गया है। यह डिवाइस बेहद कम ऊर्जा की खपत कर चुंबकीय डायोड के जरिये ट्रांजिस्टर्स और एंप्लीफायर्स से बने ऊर्जा स्रोत को कई गुना बढ़ा देती है। यह डिवाइस कंप्यूटर प्रोसेसर में भी उपयोग में लाई जा सकती है। इससे लैपटॉप या डेस्कटॉप का सीपीयू कम गर्म होगा।

शोधकर्ताओं ने बताया कि इस डिवाइस को पांच घटे तक चार्ज कर 500 घंटे तक बैटरी का उपयोग किया जा सकता है। प्रामाणिक तौर पर इसे विकसित करने के लिए हालांकि अभी कुछ काम बाकी है। इस डिवाइस की खासियत है कि यह ऑन-ऑफ स्विच के रूप में सीसीटीवी कैमरे और रेडियो फ्रीक्वेंसी आधारित उपकरणों में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। दीपक ने कहा कि इस डिवाइस के अमेरिकी पेटेंट और डिवाइस को बाजार में लाने के लिए कंपनी ढूंढने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

You May Also Like

English News