….तो इस तरह मंत्रियों का बोझ कम करेंगे मोदी सरकार

तीन साल पूरे कर चुकी मोदी सरकार में अब तक के सबसे बड़े कैबिनेट फेरबदल की तैयारी चल रही है. गुरुवार शाम के बाद से ही कई मंत्री इस्तीफे दे चुके हैं, वहीं कई ने इस्तीफे की पेशकश कर दी है. कहा जा रहा है कि PM मोदी जिन मंत्रियों के काम से खुश नहीं हैं उनकी छुट्टी होना लगभग तय है. आपको बता दें कि मोदी कैबिनेट में कई ऐसे मंत्री भी हैं, जिन पर एक से ज्यादा मंत्रालय हैं. उम्मीद है कि इस बार उन्हें भी अतिरिक्त प्रभार से छुटकारा मिल सकता है. रविवार सुबह मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार होगा.....तो इस तरह मंत्रियों का बोझ कम करेंगे मोदी सरकारबड़ीखबर: ट्रंप के आर्थिक सलाहकार केन जस्टर बनेंगे भारत में अमेरिकी राजदूत

1. अरुण जेटली

वित्त मंत्रालय

कारपोरेट मामले

रक्षा मंत्रालय

2. अनंत कुमार

रसायन एवं उर्वरक मंत्री

संसदीय कार्य मंत्री

3. रविशंकर प्रसाद

विधि एवं न्याय

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी

4. नरेन्द्र सिंह तोमर

ग्रामीण विकास

पंचायती राज

पेयजल और स्वच्छता

आवास एवं शहरी विकास

5. स्मृति जुबिन ईरानी

वस्‍त्र

सूचना और प्रसारण मंत्रालय

6. डॉ हर्षवर्धन

विज्ञान और तकनीक

भू विज्ञान

पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन 

7. इन्द्रजीत सिंह राव

योजना (स्वतंत्र प्रभार)

आवास एवं शहरी विकास

8. श्री विजय गोयल

युवा मामले और खेल (स्वतंत्र प्रभार)

जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण

9. श्री मनोज सिन्हा

संचार (स्वतंत्र प्रभार)

रेलवे

10. श्री मुख्तार अब्बास नकवी

अल्पसंख्यक मामलों (स्‍वतंत्र प्रभार)

संसदीय कार्य

11. श्री एस. एस. अहलूवालिया राज्य मंत्री

कृषि एवं किसान कल्याण

12. मनसुख एल.मनडाविया

सड़क परिवहन और राजमार्ग, शिपिंग,

रसायन एवं उर्वरक

13. पी.पी. चौधरी

विधि एवं न्याय

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी

आपको बता दें कि अभी तक राजीव प्रताप रूडी, संजीव बालियान, महेंद्र नाथ पांडेय समेत कई मंत्री इस्तीफा दे चुके हैं. वहींफग्गन सिंह कुलस्ते, राधामोहन सिंह, सुरेश प्रभु, उपेंद्र कुशवाहा, कलराज मिश्र, उमा भारती, निर्मला सीतारमण पर गाज गिरनी तय है.

You May Also Like

English News