SP-BSP में स्वार्थबंधन, गोरखपुर-फूलपुर में BJP ही जीतेगी: योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी (SP) और बहुजन समाजवादी पार्टी (BSP) गठबंधन को लेकर जबरदस्त हमला बोला.SP-BSP में स्वार्थबंधन, गोरखपुर-फूलपुर में BJP ही जीतेगी: योगी आदित्यनाथ

उन्होंने कहा कि हम सूबे में नगर निकाय के चुनाव जीते थे, जिसमें समाजवादी पार्टी और BSP का पूरी तरह से सफाया हुआ था. हमें बीजेपी ने प्रदेश में भेजा है. दोनों सीटों पर बीजेपी भारी मतों से जीतेगी. उन्होंने कहा कि बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के अंदर विकास में विश्वास जगाया है.

‘मोदी का नाम, सरकार का काम’

आजतक से एक्सक्लूसिव बातचीत में सीएम योगी ने कहा कि हमारी सरकार ने गरीब कल्याण की 100 से अधिक घोषणाएं लागू की हैं. पीएम का नाम और केंद्र सरकार का काम, हमने जो किया है, इन सबको ध्यान में खकर हमें बोलने में कोई संकोच नहीं है कि हम गोरखपुर और फूलपुर सीट जीतेंगे. योगी ने कहा कि सपा और बसपा दोनों पार्टियां एक हो गई हैं? सिकंदरा उपचुनाव में भी दोनों एक थीं.

‘स्वार्थ का गठबंधन’

SP और BSP पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि ये स्वार्थ का गठबंधन है. लूट-खसोट का गठबंधन है. अपवित्र गठबंधन होने के नाते, इसको प्रदेश की जनता पहले ही खारिज कर चुकी है. 21 साल हो चुके हैं. इन वर्ष में गोमती में बहुत पानी बह चुका है. ये गठबंधन अपने वजूद को बचाने की कवायद मात्र है. मरता क्या नहीं करता वाली स्थिति है. पर वहां भी राहत नहीं मिलने वाली है. 

सपा और बसपा की विश्वसनीयता खत्म

योगी ने कहा कि जो कुछ दोनों दलों ने किया है, उससे आज उनकी विश्वसनीयता खत्म हो चुकी है. दोनों पार्टियों को जनता ने खारिज कर दिया है. स्वाभाविक रूप से देश के खातिर सपा कुछ करे, यह कहना ही अपने आप में हास्यापद है. देश की जनता जानती है कि दोनों पार्टियां अपने स्वार्थ की लड़ाई लड़ रही हैं.

सबका साथ, सबका विकास

सोशल इंजीनियरिंग पर योगी ने कहा, ‘हमने सबका साथ, सबका विकास का नारा दिया. पीएम ने साल 2014 से नारा दिया था. ये नीतियां किसी व्यक्ति, जाति, मजबह को ध्यान में रखकर नहीं बनाई गई हैं. उसके अनरूप हमारे कार्यक्रम चल रहे हैं. केंद्र और राज्य दोनों ऐसे ही काम कर रहे हैं.

मालूम हो कि यूपी के केशव मौर्य के डिप्टी सीएम बनने के बाद फुलपूर लोकसभा सीट और योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद गोरखपुर लोकसभा सीट खाली हो गई थी, जिन पर चुनाव हो रहे हैं.

You May Also Like

English News