STF: लखनऊ, बाराबंकी और फर्रूखाबाद को दहलाने वाला बावरिया गैंग का डकैत गिरफ्तार!

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के चिनहट, काकोरी, मलिहाबाद के अलावा जनपद बाराबंकी और फर्रूखाबाद में लगातार डकैती डालने वाले बावरिया गैंग के लीडर को यूपी एसटीएफ की टीम ने गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। पकड़े गये बदमाशों के पास से मोबाइल, बाइक, असलहे और लूटा का कुछ सामान बरामद किया गया है।


एसएसपी एसटीएम अभिषेक सिंह ने बताया कि बीते तीन फरवरी को कृष्णानगर पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान चार डकैतों राजस्थान निवासी राजेश, मनोज, राजू और महेन्द्र को गिरफ्तार किया था, जबकि मौके से गैंग का लीडर हरियाणा निवासी विनोद और उसके साथी कालिया और रामवीर भागने में सफल रहे थे।

एसटीएफ टीम को मुखबिर की मदद से बीती रात इस बात की सूचना मिली कि गैंग का लीडर विनोद अपने एक साथी के साथ फैजाबाद रोड की तरफ आने वाला है।

इस सूचना पर एसटीएफ की टीम ने जुग्गौर के पास पहले से घेराबंदी की। इस बीच एसटीएफ को एक बाइक सवार दो संदिग्ध आते दिखाई पड़े। एसटीएफ की टीम जैसे ही उनकी तरफ बढ़ी, पीछे बैठे बदमाश ने फायरिंग कर दी। इस बीच बाइक सवार बदमाश गिर पड़े।

बाइक चला रहा बदमाश मौके से भाग निकला, जबकि फायरिंग कर रहे बदमाश को एसटीएफ ने दबोचा लिया। तलाशी ली गयी तो उसके पास से एक तमंचा, एक अद्घी, 4580 रुपये, सात मोबाइल फोन और लूटे गये कुछ जेवरात मिले। पूछताछ की गयी तो पकड़े गये बदमाश ने अपना नाम हरियाणा निवासी विनोद बावरिया बताया।

सब कुछ प्लान करके करते थे डकैती
पूछताछ के दौरान पकड़े गये बदमाश ने बताया कि वह लोग अपने परिवार के साथ रेलवे लाइन के किनारे कमरे किराये पर लेकर रहते थे। दिन वह लोग साड़ी और फेरी का सामान बेचकर शहर और गांव के घर डकैती के लिए चिन्हित करते हैं। इसके बाद गैंग के सदस्य चिन्हित किये गये घरों में डकैती डालते हैं। गैंग लीडर में बताया कि गैंग के लोग वारदात के दौरान अंधाधुंध फायरिंग कर लोगों में इतनी दहशत पैदा कर देते हैं कि कोई भी विरोध करने की हिम्मत नहीं जुटा सकता है। इसके बाद डकैती से मिला माल गैंग के कुछ सदस्य घर लेकर चले जाते हैं और वहीं पर बेच देते हैं। इस बीच गैंग में नय सदस्य शामिल हो जाते हैं, ताकि उनकी संख्या कम न पड़े।

कासगंज से मंगवाया था असलहा और कारतूस
आरोपी विनोद ने बताया कि चिनहट के जुग्गौर की डकैती के बाद असलहों और कारतूस की जरूरत पड़ी थी। इसके लिए गैंग के रामवीर, दयाराम व मनोज उर्फ छोटू उर्फ राकेश मोटर साईकिल से असलाहा लेने के लिए कासगंज गये थे। इस दौरान चेकिंग में पुलिस ने उनको पकड़ लिया था, रामवीर उस वक्त पकड़ा गया था, जबकि दयाराम और मनोज भागने में सफल रहे थे।

 

You May Also Like

English News