Suicide: लखनऊ में इस प्रेमी-युगल की आत्महत्या की पूरी रिपोर्ट पढि़ए!

लखनऊ: हजरतगंज इलाके में शुक्रवार की सुबह एक प्रेमी और उसकी प्रेमिका का शव सूरजदीप काम्प्लेक्स में खून से लथपथ पाया गया। पुलिस का कहना है कि दोनों ने पहले अपने हाथों की नस काटी। इसके बाद युवती काम्प्लेक्स की पांचवी मंजिल से कूद गयी, जबकि प्रेमी सीढिय़ों से नीचे तक आया और फिर प्रेमिका के शव के पास ही गिर गया और उसकी भी मौत हो गयी। दोनों युगल कैसरबाग के मकबूलगंज इलाके के रहने वाले थे।


एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार ने बताया कि शुक्रवार की सुबह करीब 6.30 बजे हजरतगंज के जापलिंग रोड स्थित सूरजदीप काम्प्लेक्स के गार्ड तेजपाल ने पुलिस कंट्रोल रूम को इस बात की सूचना दी कि काम्लेक्स के ग्राउंड में एक युवक व युवती का शव पड़ा है। एक साथ दो लोगों के शव पड़े होने की सूचना मिलते ही पुलिस के हाथ-पैर फूल गये। कुछ ही देर में इंस्पेक्टर हजरतगंज, सीओ हजरतगंज और एसपी पूर्वी भी मौके पर पहुंच गये। पुलिस को दोनों युवक व युवती के शव ग्राउंड पर खून से लथपथ मिले।

दोनों के हाथों की नस भी कटी हुई थी। इसके बाद पुलिस छानबीन करती हुई छत पर पहुंची तो छत पर खून ही खून ही बिखरा हुआ था। छत पर ही एक नया ब्लाड पड़ा हुआ था। युवती के पैर का एक जूता भी छत पर ही पड़ा था। पुलिस ने छानबीन के लिए मौके पर फारेंसिक टीम को भी बुलाया लिया। वहीं दोनों के शव को पोस्टमार्टम के लिए मच्र्यूरी भेज दिया।

पुलिस को मौके से एक टूटा हुआ मोबाइल फोन मिला। फोन में सिमकार्ड गायब था। पर युवक व युवती की कुछ फोटोग्राफ मौजूद थी। इस छानबीन के दौरान पुलिस को इस बात का पता चला कि कैसरबाग के मकबूलगंज इलाके में रहने वाले काजल नाम की एक युवती के गायब होने की रिपोर्ट उसके प्र्रेमी ओजस्व के खिलाफ दर्ज है।

हजरतगंज पुलिस ने इसके बाद कैसरबाग पुलिस को मौके पर बुला। मौके पर पहुंची कैसरबाग पुलिस ने दोनों की शिना त काजल और ओजस्व के रूप में की। गुरुवार को काजल के मामा गोमतीनगर निवासी भास्कर पाण्डेय ने आजेस्व के खिलाफ काजल को भगा ले जाने की रिपोर्ट दर्ज करायी थी। पुलिस को अपनी छानबीन में इस बात का पता चला है कि काजल और ओजस्व दोनों पड़ोसी थे और दोनों के बीच काफी समय से प्र्रेम-प्रसंग चल रहा था। यह भी चर्चा है कि दोनों शादी करना चाह रहे थे पर काजल के परिवार वालों इस रिश्ते के लिए तैयार नहीं थे। शायद इसी के चलते प्रेमी युगल ने आत्महत्या करने का कदम उठा लिया।

रात 12.41 बजे कैमरे में गिरते दिखी काजल
सूरजदीप काम्प्लेक्स के ग्राउण्ड फ्लोर पर बने एक दफ्तर के सीसीटीवी कैमरे को जब पुलिस ने चेक किया तो कैमरे की फुटेज में 12.41 मिनट पर काजल के दोनों पैर जमीन पर दिखाई पड़े। इस फुटेज से अनुमान लगाया जा रहा है कि कालज 12.41 मिनट पर काम्प्लेक्स की छत से नीचे कूदी थी।

टूटा हुआ एक मोबाइल फोन भी मिला
सूरजदीप काम्प्लेक्स के ग्राउंड फ्लोर पर जहां काजल और ओजस्व के शव पड़े थे, वहीं पर पुलिस को एक टूटा हुआ मोबाइल फोन मिला। पुलिस ने जब मोबाइल फोन को ऑन किया तो उसमें सिमकार्ड गायब था। इसके बाद पुलिस ने फोन को चेक किया तो उसमें न कोई किसी का नम्बर था और न ही कोई मैसेज। बस कबेल ओजस्व और काजल के कुछ फोटोग्राफ मौजूद थे। ऐसा माना जा रहा है कि आत्महत्या करने से पहले काजल और ओजस्व ने मोबाइल से सिमकार्ड निकला कर फेंक दिया और सारे कांटेक्ट और मैसेज भी डिलीट कर दिये। ऐसा दोनों ने शायद इसलिए किया था कि वह दोनों अपने शव की पहचान नहीं होने देना चाहते थे।

नया ब्लेड खरीदकर लाए थे दोनों
छानबीन के दौरान सूरजदीप काम्प्लेक्स की छत पर जहां खून बिखरा पड़ा था, वहीं पुलिस को लेजर कम्पनी का नया ब्लेड और उसकी पैकिंग मिली। इसी ब्लेड से काजल और ओजस्व ने अपने हाथों की नस काटी थी। छत पर ही खून से रंगगोलीनूमा निशान भी मिला है। ऐसा लग रहा था कि जैसे हाथ की नस काटने के बाद काजल और ओजस्व कुछ बनाना चाह रहे थे।

इतनी बड़ी बिल्डिंग फिर सुरक्षा के लिए एक गार्ड
सूरजदीप बिल्डिंग काफी बड़ी है। इस पांच मंजिला बिल्डिंग में दर्जनों कम्पनियों के दफ्तर हैं। बावजूद इसके बिल्डिंग की सुरक्षा-व्यवस्था उतनी ही लचर है। सुरक्षा के लिए तेजपाल नाम का एक गार्ड ही तैनात है। घटना के कुछ देर पहले गार्ड घटनास्थल के पास ही मौजूद था। सीसीटीवी कैमरे में उसकी फुटेज भी दिख रही है। इसके बाद वह ड्यूटी के लिए मुख्य गेट पर चला गया। सवाल यह उठने लगा है कि इतनी बड़ी बिल्डिंग में भवन मालिक की तरफ से कोई सीसीटीवी कैमरा नहीं लगवाया गया था। बिल्डिंग के अंदर आने-जाने वाला का कोई ब्योरा भी नहीं मौजूद था। सूरजदीप काम्प्लेक्स की इस लचर व्यवस्था को देख सीओ हजरतगंज भी भड़क उठे। उन्होंने हजरतगंज पुलिस को आदेश दिया है कि इलाके में पडऩे वाली सभी बिल्डिंगों में सीसीटीवी कैमरे लगवाने की व्यवस्था की जाये।

काजल बीएसी और ओजस्व एनिमेशन का था छात्र
कैसरबाग के मकबूलगंज निवासी काजल और ओजस्व पड़ोसी थे। काजल नवयुग डिग्री कालेज से बीएससी की पढ़ाई कर रही थी, वहीं ओजस्व सूरजदीप काम्प्लेक्स के बगल में स्थित मैक इंस्टीट्यूट से एनिमेशन का कोर्स कर रहा था।

ओजस्व के परिवार को प्रेम-प्रसंग की नहीं थी जानकारी
सिविल अस्पताल के मच्र्यूरी पहुंचे ओजस्व के पिता आनंद तिवारी का कहना है कि गुरुवार की शाम करीब 6 बजे ओजस्व अपनी मां से जिम जाने की बात कहकर निकला था। कुछ ही देर के बाद काजल के घरवाले उनके घर पहुंचे और ओजस्व के बारे में पूछने लगे। उन लोगों ने इस बात की जानकारी दी कि काजल घर से गायब है। वहीं ओजस्व का फोन भी नहीं लग रहा है। इसके बाद ओजस्व के परिवार वालों ने उससे सम्पर्क करने की कोशिश की पर सम्पर्क नहीं हो सका। बीच में कई बार ओजस्व का मोबाइल फोन ऑन हुआ, पर बात नहीं हुई। इसके बाद ओजस्व का फोन स्विच आफ बताने लगा। ओजस्व के पिता का कहना है कि ओजस्व और काजल के बीच चल रहे प्रेम-प्रसंग की जानकारी उनको नहीं थी। उनका यह भी कहना है कि अगर काजल के परिवार वालों को इस बात का पता था तो उन लोगों को इस बात की शिकायत उनसे करनी चाहिए थी।

काजल के हाथ का लिखा लेटर ओजस्व के घर से मिला
ओजस्व के पिता आनंद तिवारी ने बताया कि गुरुवार को उन लोगों को जब ओजस्व और काजल के एक साथ गायब होने की खबर मिली तो उन लोगों ने अपने स्तर से छानबीन शुरू की। इस बीच ओजस्व के कमरे से काजल के हाथ का लिखा एक लेटर मिला। इस लेटर में काजल ने ओजस्व को उसके घरवालों से बातचीत करने के लिए लिखा था, क्योंकि उसके परिवार के लोग उसकी शादी कहीं और तय कर रहे थे।

 

You May Also Like

English News