दिल्ली स्कूल ऑफ जर्नलिज्म में तमिल और बांग्ला भाषा पढ़ना अनिवार्य होगा

दिल्ली स्कूल ऑफ जर्नलिज्म में एडमिशन लेने वाले सभी छात्रों को एक क्षेत्रीय भाषा पढ़ना अनिवार्य होगा। ये क्षेत्रीय भाषा उनकी मातृभाषा से अलग होनी चाहिए। खबर है कि दिल्ली स्कूल ऑफ जर्नलिज्म में एडमिशन लेने के लिए क्षेत्रीय भाषा का ऑप्शन चुनना अनिवार्य होगा। इसके बिना कोर्स में दाखिला नहीं लिया जाएगा। डीयू के अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल दो क्षेत्रीय भाषाएं तमिल और बांग्ला ही उपलब्ध हैं। बाद में और भाषाओं को शामिल किया जाएगा।
दिल्ली स्कूल ऑफ जर्नलिज्म में तमिल और बांग्ला भाषा पढ़ना अनिवार्य होगा
दिल्ली स्कूल ऑफ जर्नलिज्म के डीन जे. पी. दुबे ने बताया कि क्षेत्रीय भाषा पढ़ाने का मकसद छात्रों को देश की दूसरी भाषाओं के प्रति जागरूक करना है। इसके अलावा छात्रों को दूसरे भाषाओं में सूचना एकत्रित करने में भी मदद मिलेगी। उन्होंने बताया कि छात्रों को न सिर्फ भाषा का व्यावहारिक हिस्सा पढ़ाया जाएगा बल्कि उनको पूर्ण रूप से व्याकरण एवं अन्य जानकारी भी दी जाएगी। 

बड़ी खबर: RSS के पास मंडल कमीशन की रिपोर्ट ही वह हथियार, फिर जातीय जनगणना से क्यों डर रहे हैं पीएम मोदी

पांच वर्षीय इंटीग्रेटेड इस कोर्स के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 24 अगस्त से शुरू हो गया है और ये 8 सितंबर 2017 तक चलेगा। छात्रों को फ्रेंच, चाइनीज, स्पैनिश और अरबी में से कोई एक विदेशी भाषा भी चुननी पड़ेगी। इस कोर्स की फीस 25,000 रुपये प्रति सेमेस्टर होगी। 

 

You May Also Like

English News