TDP के बाद शिवसेना के तेवर भी तल्ख, कहा- अहंकार में डूबी BJP

शिवसेना ने लोकसभा उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी को मिली हार को लेकर निशाना साधा है. अपने मुखपत्र सामना में शिवसेना ने कहा कि 2019 में भाजपा के पास 282 सीटें नहीं बचेंगी. बल्कि उनके पास 282 में से 100 सीटें बचाने में भी पसीने छूट जाएंगे.TDP के बाद शिवसेना के तेवर भी तल्ख, कहा- अहंकार में डूबी BJPकांग्रेस के राजस्थान उपचुनाव जीतने के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने कहा था कि अब कांग्रेस को केवल उपचुनाव लड़ना चाहिए. भाजपा को अहंकार और अपने सहयोगियों को त्यागने के कारण इस चुनाव में हार मिली है. कांग्रेस को भी इसी कारण हार का सामना करना पड़ा है. वहीं, ममता बनर्जी ने कहा कि यह भाजपा के अंत की शुरुआत है. सामना में छपे संपादकीय में सुझाव दिया गया है कि हमें उन लोगों को स्वीकार करना चाहिए जिन्होंने भाजपा को नकार दिया है.

सामना में छपे लेख के मुताबिक, बीजेपी ने एक छोटे राज्य त्रिपुरा में जीत हासिल की और पूरी पार्टी जश्न में व्यस्त हो गई. बीजेपी का ये जश्न खत्म होता इससे पहले उत्तर प्रदेश में लोगों ने नकार दिया और परिणाम स्वरूप यूपी उपचुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा. समाजवादी पार्टी ने मजबूत पकड़ के साथ बीजेपी से गोरखपुर और फूलपुर छीन लिया है.

भाजपा कह रही है कि उपचुनाव से देश के मूड की तुलना नहीं की जा सकती. लेकिन केंद्र में मोदी सरकार के आने के बाद हुए 10 लोकसभा उपचुनावों में से 9 में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा है. बीजेपी लोकसभा में 282 सीटों से 272 पर आ गई है. ऐसे में लग रहा है कि भाजपा को 2019 में 100 से 110 सीटों का नुकसान होगा. 

उपचुनाव नतीजों के बाद यह कहा जा सकता है कि लोगों की आंखों में ‘मोदी लहर’ का पानी सूख चुका है और वो अब स्पष्ट रूप से चीजों को देख सकते हैं. बीजेपी को इस बात का अहसास होना चाहिए कि वो रूस, कनाडा, अमेरिया या इजराइल में चुनाव नहीं लड़ रही. उन्हें अपने पैरों को भारत में जमाना चाहिए.

You May Also Like

English News