Unnao rape case: सीबीआई ने उन्नाव रेपकाण्ड में दो पुलिस वालों को किया गिरफ्तार, जानिए क्यों?

लखनऊ: यूपी के चर्चित उन्नाव रेप प्रकरण और पीडि़ता के पिता की हत्या के मामले में सीबीआई ने बुधवार को माखी थाने के पूर्व थानेदार अशोक सिंह भदौरिया और बीट दरोगा कांता प्रसाद सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। सीबीआई जांच शुरू होने के बाद इन दोनों पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया था।

गुरुवार को दोनों आरोपियों को सीबीआई कोर्ट में पेश किया जाएगा। पीडि़त परिवार की ओर से आरोप लगाया गया था कि 4 जून 2017 को रेप प्रकरण को माखी थाने की पुलिस ने साजिशन दबा दिया था। 3 अप्रैल को कचहरी से पेशी से लौटे पीडि़ता के पिता की भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल ने साथियों संग मिलकर पिटाई की थी।

9 अप्रैल को तड़के पीडि़ता के पिता की जिला अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई थी। इस प्रकरण में थानेदार अशोक और बीट दरोगा कांता की ओर से पीडि़ता के पिता के खिलाफ फर्जी रिपोर्ट लिखा कर जेल भेज दिया गया था।

मामले की जांच कर रही सीबीआई ने पीडि़ता के पिता पर रिपोर्ट दर्ज कराने वाले उसके चचेरे भाई टिंकू सिंह को गिरफ्तार किया तो हकीकत सामने आ गई। इस मामले में दोनों पुलिसकर्मी निलंबित किए जा चुके हैं। रेप पीडि़ता के पिता ने सीबीआई के सामने आरोप लगाये थे कि उन्नाव की तत्कालीन एसपी ने भी उनकी कोई मदद नहीं की। उन्हें विधायक व उनके भाई की ऑडियो रिकार्डिंग तक सुनायी गई लेकिन किसी भी सुबूत को उन्होंने गम्भीरता से नहीं लिया।

You May Also Like

English News