UPDATE: जेल में दुराचार पीडि़ता के पिता की मौत में चार पुलिसकर्मी निलम्बित, लखनऊ क्राइम ब्रांच उन्नाव पहुंची!

लखनऊ: उन्नाव के दुराचार पीडि़ता के पिता की जेल में संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के बाद हड़कम्प मचा हुआ है। घटना की जानकारी मिलते ही पूरा प्रशासनिक अमला सकते में आ गया। आनन.फानन में त्वरित कार्रवाई करते हुए एडीजी राजीव कृष्णा ने उन्नाव के एसओ अशोक सिंह को सस्पेंड कर चार लोगों को हिरासत में लिया गया है।


हालात का जायजा लेने के लिए लखनऊ से एएसपी क्राइम टीम के साथ उन्नाव पहुंच गए हैं। प्रमुख सचिव गृह अरविंद सिंह ने नोटिस जारी करते हुए उन्नाव जेल के डीजी और जिला प्रशासन से पूरे मामले की तत्काल रिपोर्ट तलब की है। वहींए युवती की शिकायत पर एडीजी ने मामले की जांच के सीओ कैंट तनु उपाध्याय को सौंप दी है।

मालूम हो कि उन्नाव के माखी थानाक्षेत्र की रहने वाली युवती ने भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर आरोप लगाया था कि जून 2017 में विधायक ने उसे बंधक बनाकर कई बार रेप किया था। यहीं नहीं विधायक ने अपने गुर्गों से भी रेप कराया। इस मामले को लेकर पीडि़ता का परिवार कई बार लखनऊ में पुलिस के उच्चाधिकारियों से भी मिला चुका था।

एक बार मुख्यमंत्री से जनता दरबार में गुहार लगाईए लेकिन जांच की बात कहकर मामले को टाल दिया गया। रविवार को पीडि़त परिवार ने प्रशासन के रवैये से दुखी होकर सीएम आवास पर आत्मदाह का प्रयास किया था। राजधानी पुलिस ने पीडि़त परिवार को जांच कर कार्रवाई करने का आश्वासन देते हुए शांत कराया था। इससे पहले कि मामले की जांच आगे बढ़ती युवती के पिता की रविवार सुबह संदिग्ध हालात में उन्नाव जेल में मौत हो गई।

जेल प्रशासन का कहना है कि युवती के पिता के पेट में रविवार देर रात दर्द उठा थाए जिसके बाद उसे उन्नाव जेल से जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिला अस्पताल के डॉक्टर अतुल ने बताया कि मृतक को रविवार देर रात जिला अस्पताल लाया गया था। उसे पेट में दर्द और उल्टियां हो रहीं थी। सुबह करीब तीन बजे उसकी मौत हो गई।

हालांकि कि प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि मृतक के शरीर में चोट के निशान भी दिख रहे थे। पुलिस ने चार अप्रैल को युवती के पिता को आम्र्स एक्ट और मारपीट के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेजा था। सूत्रों के मुताबिक मोहल्ला सराय थोक ग्राम पंचायत माखी निवासी युवती के पिता की गांव के ही टिंकू सिंह से मारपीट हो गई थी।

इस मामले में बीजेपी विधायक के भाई अतुल सिंह का नाम भी आ रहा था लेकिन पुलिस ने टिंकू सिंह पर कार्रवाई करने के बजाए विधायक के दबाव में युवती के पिता को आम्र्स एक्ट और मारपीट के मामले में जेल भेज दिया था। इस पूरे मामले में यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने बहारइच में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि पीडि़ता के आरोप की जांच करायी जा रही है और इस मामले में उचित कार्रवाई की जायेगी।

You May Also Like

English News