आज भी इस जगह पर माता सीता की मौजूदगी के सक्ष्य निर्मित हैं

रामायण काल की अगर बात करें, तो आज के समय में इसकी जानकारी हमें धर्म ग्रंथों मे ही सुनने को मिलती हैं। वंही अगर साक्ष्य की बात करें, तो यह भी धर्म ग्रन्थों में ही देखने को मिलते हैं। भारत में इस प्रकार की कोई भी वस्तु अब तक मौजूद नहीं है, जो यह साबित करे की भगवान राम और सीता इस धरती पर थे। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि, यह धरती पर नहीं थें? क्योंकि भले भारत में इनके साक्ष्य नहीं मिलते लेकिन भारत के बाहर एक जगह ऐसी भी हैं, जहां भगवान राम और माता सीता की आज भी कुछ जरूरी चीजें संभाल कर रखी गई हैं। जिनके बारे में आज हम आपसे यहां पर चर्चा करेंगे। यह चीजें कंही और नहीं बल्कि भारत के ही पड़ोसी देश श्रीलंका में मौजूद है, तो चलिए जानते हैं इसके बारे में….रामायण काल की अगर बात करें, तो आज के समय में इसकी जानकारी हमें धर्म ग्रंथों मे ही सुनने को मिलती हैं। वंही अगर साक्ष्य की बात करें, तो यह भी धर्म ग्रन्थों में ही देखने को मिलते हैं। भारत में इस प्रकार की कोई भी वस्तु अब तक मौजूद नहीं है, जो यह साबित करे की भगवान राम और सीता इस धरती पर थे। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि, यह धरती पर नहीं थें? क्योंकि भले भारत में इनके साक्ष्य नहीं मिलते लेकिन भारत के बाहर एक जगह ऐसी भी हैं, जहां भगवान राम और माता सीता की आज भी कुछ जरूरी चीजें संभाल कर रखी गई हैं। जिनके बारे में आज हम आपसे यहां पर चर्चा करेंगे। यह चीजें कंही और नहीं बल्कि भारत के ही पड़ोसी देश श्रीलंका में मौजूद है, तो चलिए जानते हैं इसके बारे में....  सीता टीयर तालाब- ये सीता जी के आंसुओं से बना है, कैंडी से लगभग 50 किलोमीटर दूर स्थित नम्बारा एलिया मार्ग पर एक तालाब मौजूद है, जिसे सीता टियर तालाब कहते हैं। इसके बारे कहा गया है कि बेहद गर्मी के दिनों में जब आसपास के कई तालाब सूख जाते हैं, तो भी यह कभी नहीं सूखता। आसपास का पानी तो मीठा है, लेकिन इस का पानी आंसुओं जैसा खारा है। कहते हैं कि रावण जब सीता माता को हरण करके ले जा रहा था, तो इसमें सीता जी के आंसू गिरे थे। आज भी इसे देखने के लिए लोगों की भीड़ लगी रहती है.  पुष्पक विमान स्थल- लंका में आज भी कुछ ऐसी जगह मौजूद है, जिनका संबंध रामायण काल से माना जाता है. सिन्हाला शहर में वेरागनटोटा नाम की एक जगह है, जिसका मतलब ‘विमान उतरने की जगह’ होता है। कहते हैं कि यही वो जगह है, जहां रावण का पुष्पक विमान उतरता था।  अशोक वाटिका- इसे हर भारतीय याद करता है, क्योंकि माता सीता को रावण ने यहीं रखा था। भगवान राम की याद में माता सीता ने एक पेड़ के नीचे न जानें कितने दिन गुज़ार दिए थे। अशोक वाटिका वो जगह है, जहां रावण ने माता सीता को रखा था। आज इस जगह को सेता एलीया के नाम से जाना जाता है, जो की नूवरा एलिया नामक जगह के पास स्थित है। यहां आज सीता का मंदिर है और पास ही एक झरना भी है, कहते हैं देवी सीता यहां स्नान किया करती थीं। इस झरने के आसपास की चट्टानों पर हनुमान जी के पैरों के निशान भी मिलते हैं।

सीता टीयर तालाब- ये सीता जी के आंसुओं से बना है, कैंडी से लगभग 50 किलोमीटर दूर स्थित नम्बारा एलिया मार्ग पर एक तालाब मौजूद है, जिसे सीता टियर तालाब कहते हैं। इसके बारे कहा गया है कि बेहद गर्मी के दिनों में जब आसपास के कई तालाब सूख जाते हैं, तो भी यह कभी नहीं सूखता। आसपास का पानी तो मीठा है, लेकिन इस का पानी आंसुओं जैसा खारा है। कहते हैं कि रावण जब सीता माता को हरण करके ले जा रहा था, तो इसमें सीता जी के आंसू गिरे थे। आज भी इसे देखने के लिए लोगों की भीड़ लगी रहती है.

पुष्पक विमान स्थल- लंका में आज भी कुछ ऐसी जगह मौजूद है, जिनका संबंध रामायण काल से माना जाता है. सिन्हाला शहर में वेरागनटोटा नाम की एक जगह है, जिसका मतलब ‘विमान उतरने की जगह’ होता है। कहते हैं कि यही वो जगह है, जहां रावण का पुष्पक विमान उतरता था।

अशोक वाटिका- इसे हर भारतीय याद करता है, क्योंकि माता सीता को रावण ने यहीं रखा था। भगवान राम की याद में माता सीता ने एक पेड़ के नीचे न जानें कितने दिन गुज़ार दिए थे। अशोक वाटिका वो जगह है, जहां रावण ने माता सीता को रखा था। आज इस जगह को सेता एलीया के नाम से जाना जाता है, जो की नूवरा एलिया नामक जगह के पास स्थित है। यहां आज सीता का मंदिर है और पास ही एक झरना भी है, कहते हैं देवी सीता यहां स्नान किया करती थीं। इस झरने के आसपास की चट्टानों पर हनुमान जी के पैरों के निशान भी मिलते हैं।

You May Also Like

English News