इन कारणों से हो सकता है युवाओं को घुटने में दर्द

पहले के समय में केवल बड़ी उम्र के लोगों को ही घुटने के दर्द की समस्या होती थी, पर आजकल गलत जीवनशैली और गलत खानपान के कारण युवाओं में भी घुटनों के दर्द की समस्या देखी जा रही है. शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने पर घुटनों और जोड़ों में दर्द होने लगता है. कभी-कभी दर्द होने पर जोड़ों में सूजन भी आ जाती है. जिससे मरीज का चलना फिरना भी मुश्किल हो जाता है. इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए बहुत सारी दवाइयों का सेवन करते हैं, पर हम आपको बता दें किसी भी चीज का इलाज तभी हो सकता है जब आपको बीमारी का कारण पता हो. आज हम आपको उम्र से पहले शरीर में होने वाले दर्द का कारण बताने जा रहे हैं. पहले के समय में केवल बड़ी उम्र के लोगों को ही घुटने के दर्द की समस्या होती थी, पर आजकल गलत जीवनशैली और गलत खानपान के कारण युवाओं में भी घुटनों के दर्द की समस्या देखी जा रही है. शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने पर घुटनों और जोड़ों में दर्द होने लगता है. कभी-कभी दर्द होने पर जोड़ों में सूजन भी आ जाती है. जिससे मरीज का चलना फिरना भी मुश्किल हो जाता है. इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए बहुत सारी दवाइयों का सेवन करते हैं, पर हम आपको बता दें किसी भी चीज का इलाज तभी हो सकता है जब आपको बीमारी का कारण पता हो. आज हम आपको उम्र से पहले शरीर में होने वाले दर्द का कारण बताने जा रहे हैं.     1- उम्र से पहले घुटनों में दर्द होने का कारण मोटापा भी हो सकता है. शरीर का वजन बढ़ने पर पूरा भार घुटनों पर पड़ता है. जिससे घुटनों में दर्द होने लगता है.   2- मांसपेशियों में बदलाव होने के कारण समय से पहले ही जोड़ों में दर्द होने लगता है. 20 से 70 साल की उम्र के बीच में मांसपेशियां 40 फ़ीसदी तक सिकुड़ जाती हैं. जिससे उनमें शक्ति कम होने लगती है. ऐसे में जब हम चलते हैं या शारीरिक क्रियाएं करते हैं तो टांगो की मांसपेशियां शरीर का भार उठाते हैं. उम्र के साथ मांस पेशियों में बदलाव होने लगता है और उनकी क्षमता कम हो जाती है. इसके कारण टांगों पर अधिक दबाव पड़ने लगता है और घुटनों में दर्द होने लगता है.      3- ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी में शरीर की हड्डियों को सुरक्षित रखने वाले कोर्टिसोल टूट जाते हैं. जब हड्डियों को मजबूत करने वाले तत्व टूट जाते हैं तो उनमें दर्द होने लगता है.     4- अर्थराइटिस की समस्या के कारण भी हड्डियों में दर्द होने लगता है. अर्थराइटिस होने का खतरा ज्यादातर महिलाओं को होता है. अर्थराइटिस के बीमारी होने पर उम्र बढ़ने से पहले ही शरीर के जोड़ों में तेज दर्द होता है.

1- उम्र से पहले घुटनों में दर्द होने का कारण मोटापा भी हो सकता है. शरीर का वजन बढ़ने पर पूरा भार घुटनों पर पड़ता है. जिससे घुटनों में दर्द होने लगता है. 

2- मांसपेशियों में बदलाव होने के कारण समय से पहले ही जोड़ों में दर्द होने लगता है. 20 से 70 साल की उम्र के बीच में मांसपेशियां 40 फ़ीसदी तक सिकुड़ जाती हैं. जिससे उनमें शक्ति कम होने लगती है. ऐसे में जब हम चलते हैं या शारीरिक क्रियाएं करते हैं तो टांगो की मांसपेशियां शरीर का भार उठाते हैं. उम्र के साथ मांस पेशियों में बदलाव होने लगता है और उनकी क्षमता कम हो जाती है. इसके कारण टांगों पर अधिक दबाव पड़ने लगता है और घुटनों में दर्द होने लगता है. 

3- ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी में शरीर की हड्डियों को सुरक्षित रखने वाले कोर्टिसोल टूट जाते हैं. जब हड्डियों को मजबूत करने वाले तत्व टूट जाते हैं तो उनमें दर्द होने लगता है. 

4- अर्थराइटिस की समस्या के कारण भी हड्डियों में दर्द होने लगता है. अर्थराइटिस होने का खतरा ज्यादातर महिलाओं को होता है. अर्थराइटिस के बीमारी होने पर उम्र बढ़ने से पहले ही शरीर के जोड़ों में तेज दर्द होता है.

You May Also Like

English News