कांग्रेस का हाथ थामने जा रही हैं देश की पहली किन्नर विधायक

मध्यप्रदेश में साल के अंत में होने वाले विधानसभे चुनावों को देखते हुए अभी से ही सीटों को लेकर चर्चा शुरू हो गई है. मप्र में नवम्बर-दिसंबर में चुनाव होने है और इसे लेकर अब कांग्रेस के लिए एक बड़ी खुशखबरी आई है. जहां देश की पहली किंन्नर विधायक शबनम मौसी ने कांग्रेस का हाथ थामने की बात कही है. जो कि कांग्रेस के लिए चुनाव के दौरान काफी फायदेमंद साबित हो सकता है. मध्यप्रदेश में साल के अंत में होने वाले विधानसभे चुनावों को देखते हुए अभी से ही सीटों को लेकर चर्चा शुरू हो गई है. मप्र में नवम्बर-दिसंबर में चुनाव होने है और इसे लेकर अब कांग्रेस के लिए एक बड़ी खुशखबरी आई है. जहां देश की पहली किंन्नर विधायक शबनम मौसी ने कांग्रेस का हाथ थामने की बात कही है. जो कि कांग्रेस के लिए चुनाव के दौरान काफी फायदेमंद साबित हो सकता है.   EDITOR DESK: चुनावी दंगल में गाय की राजनीति    शबनम मौसी ने कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से कांग्रेस की सदस्यता लेने के साथ कोतमा विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने की मांग रखी. शबनम मौसी मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय और उन्होंने ने मीडिया सेल के चेयरमैन मानक अग्रवाल से मुलाकात के दौरान यह कहा.   महागठबंधन में से कौन होगा पीएम पद का उम्मीदवार ?    शबनम मौसी ने  मानक अग्रवाल से बातचीत में यह भी कहा है कि अगर कांग्रेस उन्हें आगामी विस चुनाव में टिकट नही देती है, तो वे इस स्थिति में निर्दलीय चुनाव लड़ने के लिए तैयार है. इससे पहले भी वे साल 2000 में शहडोल जिले के सोहागपुर निर्वाचन क्षेत्र से उपचुनाव में निर्दलीय विधायक चुनी गई थी. बीते दिनों भी शबनम पार्टी कार्यालय पहुंची थी जहां बात ना बनने पर उन्होंने जमकर हंगामा किया था.

शबनम मौसी ने कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से कांग्रेस की सदस्यता लेने के साथ कोतमा विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने की मांग रखी. शबनम मौसी मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय और उन्होंने ने मीडिया सेल के चेयरमैन मानक अग्रवाल से मुलाकात के दौरान यह कहा. 

महागठबंधन में से कौन होगा पीएम पद का उम्मीदवार ?

शबनम मौसी ने  मानक अग्रवाल से बातचीत में यह भी कहा है कि अगर कांग्रेस उन्हें आगामी विस चुनाव में टिकट नही देती है, तो वे इस स्थिति में निर्दलीय चुनाव लड़ने के लिए तैयार है. इससे पहले भी वे साल 2000 में शहडोल जिले के सोहागपुर निर्वाचन क्षेत्र से उपचुनाव में निर्दलीय विधायक चुनी गई थी. बीते दिनों भी शबनम पार्टी कार्यालय पहुंची थी जहां बात ना बनने पर उन्होंने जमकर हंगामा किया था.

You May Also Like

English News