कांशीराम: नौकरी छोड़ चुनी दलितों के लिए लड़ाई की राह, फिर बनी बसपा

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के फाउंडर कांशीराम की आज 11वीं पुण्यतिथि है. कांशीराम भारत में दलित राजनीति को एक नए मुकाम पर ले जाने वाले नेता रहे हैं. पहले खुद कांशीराम ने आगे बढ़कर दलित राजनीति की अगुवाई की और साथ-साथ मायावती को भी तैयार किया. कांशीराम: नौकरी छोड़ चुनी दलितों के लिए लड़ाई की राह, फिर बनी बसपा अगर PM मोदी मान ले केजरीवाल का ये फॉर्मूला तो नहीं बढ़ेगा मेट्रो किराया!

कांशीराम ने दलित समाज के हक और हुकूक के लिए पहले डीएस-4, फिर बामसेफ और 1984 में दलित, ओबीसी और अल्पसंख्यक समाज के वैचारिक नेताओं को जोड़कर बहुजन समाज पार्टी का गठन किया.

देश के कई राज्यों में बीएसपी का जनाधार बढ़ने लगा. इसी कड़ी में कांशीराम के संपर्क में मायावती आईं तो उत्तर प्रदेश में बीएसपी को एक नई ताकत मिली. 1993 में बीएसपी ने एसपी के साथ मिलकर यूपी में सरकार बनाई और फिर तो बीएसपी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा.

पढ़िए कांशीराम से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण पहलू…

1. बीएससी की डिग्री हासिल करने के बाद कांशीराम ने हाई एनर्जी मैटिरियल्स रिसर्च लैबोरेटरी ज्वाइन किया और डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) का हिस्सा बन गए.

2. डीआरडीओ से जुड़ने के कुछ समय बाद ही कांशीराम ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ शेड्यूल्ड कास्ट/ट्राइब्स बैकवर्ड क्लास एंड माइनॉरिटी एंप्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन के आंदोलन से जुड़े. यह समूह बाबा साहब बीआर अंबेडकर के जन्मदिन पर छुट्टी घोषित करने की मांग कर रहा था. 

3. 1965 में ही कांशीराम ने दलित समुदायों के लिए लड़ाई शुरू की थी. इसके बाद उन्होंने भारत की जाति व्यवस्था के बारे में पढ़ना शुरू किया और फिर बीआर अंबेडकर के साथ काम किया.

4. 1971 में लगभग 6 साल बाद कांशीराम ने नौकरी छोड़ दी. इसके बाद उन्होंने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर शेड्यूल कास्ट, शेड्यूल ट्राइब्स, ओबीसी एंड माइनॉरिटी वेलफेयर एसोसिएशन बनाया. इस एसोसिएशन को रजिस्टर्ड भी करवाया गया. इसके जरिए पिछड़ों के साथ होने वाले दुर्व्यवहार को रोकना और लोगों में जाति व्यवस्था के प्रति जागरुकता फैलाने जैसे उद्देश्य पूरे किए.

5. 1973 में कांशीराम ने फिर अपने साथियों के साथ मिलकर बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी कम्युनिटीज एंप्लाइज फेडरेशन (BAMCEF) की स्थापना की. इसका पहला दफ्तर 1976 में दिल्ली में खोला गया. इस फेडरेशन का काम बीआर अंबेडकर और उनके विचारों को लोगों तक पहुंचाना था. इसके बाद कांशीराम ने अपनी एक अलग पहचान बनानी शुरू की और लोगों को जाति व्यवस्था की असलियत से रू-ब-रू करवाना शुरू किया.

6.1981 में कांशीराम ने ‘दलित शोषित समाज संघर्ष समिति’ की शुरुआत की. यह समिति BAMCEF के साथ ही काम करती रही. इसका काम उन कार्यकर्ताओं के का बचाव करना था जो जाति व्यवस्था के प्रति लोगों में जागरुकता फैला रहे थे. हालांकि यह रजिस्टर्ड ऑर्गेनाइजेशन नहीं था. 1986 में उन्होंने खुद के कार्यकर्ता से राजनेता में बनने की घोषणा की और वहीं से उनका राजनीतिक करियर शुरू हो गया.

You May Also Like

English News