काशी को मिला लक्जरी क्रूज, गंगा आरती के साथ घाटों के भी होंगे दर्शन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में काशीवासियों को एक और सौगात मिली है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खिड़किया घाट से गंगा घाट और गंगा दर्शन के लिए बहुप्रतीक्षित लक्जरी क्रूज का लोकार्पण किया.काशी को मिला लक्जरी क्रूज, गंगा आरती के साथ घाटों के भी होंगे दर्शन

यह क्रूज कोलकता में तैयार किया गया है और एक निजी कंपनी इसका संचालन करेगी. अस्सी से राजघाट तक दौड़ने वाले इस क्रूज के जरिये पर्यटकों को काशी में गंगा के बीच एक नया अनुभव मिलेगा. 2000 वर्ग फीट के इस अत्याधुनिक क्रूज में उन व्यवस्थाओं का ध्यान रखा गया है जो किसी बड़े होटल में होता है.   

इस क्रूज में सेफ्टी फीचर का खासा ध्यान रखा गया है. इसका इंजन 450 हॉर्स पॉवर का है. इसके साथ ही एक सर्विस बोट भी है. यह सर्विस बोट इमरजेंसी के समय में लाइफ बोट का काम करेगी. इसके अलावा इस लक्ज़री क्रूज में पर्याप्त संख्या में लाइफजैकेट्स और लाइफगार्ड्स मौजूद रहेंगे.

इसके इंजन को पर्यावरण के मापदंड के हिसाब से तैयार किया गया है जो कि पूरी तरह से साउंड प्रूफ है. खास बात यह है कि इस क्रूज में 2000 स्क्वायर फीट की जगह है, जिसे सेमीनार और पार्टी हाल की तरह इस्तेमाल किया जा सकेग.

साथ ही काशी की धार्मिक आस्था के चलते इस क्रूज पर कोई भी ऐसा खान-पान इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा जो इसके अनुरूप न हो. इस दो मंजिला क्रूज में नीचे का डेक पूरी तरह से वातानुकूलित एक बड़ा हॉल है. इस हॉल के साथ ही पैंट्री की भी व्यवस्था है ताकि सैलानियों को ब्रेकफास्ट, स्नैक्स और लंच परोसा जा सके. इसके अलावा इसमें बायो-टॉयलेट की सुविधा है ताकि किसी भी तरह से कोई गंदगी गंगा के पानी में न मिलने पाए.

इस क्रूज की खिड़कियां काफी बड़ी बनाई गई हैं ताकि अंदर बैठा व्यक्ति बाहर के नज़ारे का पूरा लुत्फ़ उठा सके. यह क्रूज अस्सी घाट पर होने वाले सुबह-ए-बनारस और शाम को दशाश्वमेध घाट गंगा आरती दिखाएगा. इस क्रूज को शुरुआत में अस्सी घाट से राजघाट तक चलाया जाएगा.

क्रूज के पैकेज को तीन अलग-अलग हिस्सों में बांटा गया है पहला सुबह सूर्योदय कि वक्त होगा, दूसरा शाम को सूर्यास्त के वक्त गंगा आरती कराते हुए खत्म किया जाएगा. तो वहीं दोपहर के वक्त इस क्रूज़ का इस्तेमाल कॉरपोरेट मीटिंग, पार्टी के लिए बुक कराया जा सकेगा.

क्रूज की ऑनलाइन बुकिंग के लिए प्रति व्यक्ति जीएसटी समेत 750 रुपये की रकम चुकानी होगी. इसमें नीचे के डेक में 60 लोग और ऊपर के डेक पर 30 लोगों के  बैठने की व्यवस्था है. इस दौरान सैलानियों को घाटों के दर्शन के अलावा जगह-जगह होने वाली विश्व-प्रसिद्ध गंगा आरती भी देखने को मिलेगी.

You May Also Like

English News