जब बंदरों ने बरसाए बम घायल हुए लोग

बन्दर फितरत से ही शरारती होते हैं और उन्हें अगर अपनी शरारतों को अंजाम देने के लिए किसी वस्तु का सहारा मिल जाए, तो उन्हें और क्या चाहिए. ऐसा ही कुछ हुआ उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के एक इलाके में, जहाँ बंदरों को कूड़ेदान में से एक थैली मिली, जिसमे दिवार पर मारने वाले बम थे, खेलते-खेलते जब एक बम बन्दर के हाथ से छूट कर निचे गिरा तो धमाका हुआ. बंदरों को ये खेल बहुत पसंद आया और वो एक-एक कर बम नीचे फेकने लगे.बन्दर फितरत से ही शरारती होते हैं और उन्हें अगर अपनी शरारतों को अंजाम देने के लिए किसी वस्तु का सहारा मिल जाए, तो उन्हें और क्या चाहिए. ऐसा ही कुछ हुआ उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के एक इलाके में, जहाँ बंदरों को कूड़ेदान में से एक थैली मिली, जिसमे दिवार पर मारने वाले बम थे, खेलते-खेलते जब एक बम बन्दर के हाथ से छूट कर निचे गिरा तो धमाका हुआ. बंदरों को ये खेल बहुत पसंद आया और वो एक-एक कर बम नीचे फेकने लगे.    लेकिन बंदरों की इस हरकत से 3 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए, जिनमे एक दादा पोते की जोड़ी भी है. बंदरों ने उन बमों से ऐसी तबाही मचाई की, हालत काबू में करने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ा. इस हादसे के दौरान घायल हुए गुलाब गुप्ता (60) और उनका पांच साल का पोता सम्राट घर के पास स्कूल बस का इंतजार कर रहे थे.     हालाँकि पुलिस ने सुचना मिलने पर, मौके पर पहुंच कर हालत को काबू में किया. साथ ही अधिकारीयों को बंदरों को जल्द पकड़ने के निर्देश भी दिए हैं. पुलिस ने फॉरेंसिक टीम को भी जांच के निर्देश दिए हैं ताकि पता चल सके कि ये बम किस तरह के हैं, कहीं कोई खतरनाक विस्फोटक तो बंदरों के हाथ नहीं लग गया, या इलाके में कही अवैध रूप से बम तो नहीं बनाए जा रहे .

लेकिन बंदरों की इस हरकत से 3 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए, जिनमे एक दादा पोते की जोड़ी भी है. बंदरों ने उन बमों से ऐसी तबाही मचाई की, हालत काबू में करने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ा. इस हादसे के दौरान घायल हुए गुलाब गुप्ता (60) और उनका पांच साल का पोता सम्राट घर के पास स्कूल बस का इंतजार कर रहे थे. 

हालाँकि पुलिस ने सुचना मिलने पर, मौके पर पहुंच कर हालत को काबू में किया. साथ ही अधिकारीयों को बंदरों को जल्द पकड़ने के निर्देश भी दिए हैं. पुलिस ने फॉरेंसिक टीम को भी जांच के निर्देश दिए हैं ताकि पता चल सके कि ये बम किस तरह के हैं, कहीं कोई खतरनाक विस्फोटक तो बंदरों के हाथ नहीं लग गया, या इलाके में कही अवैध रूप से बम तो नहीं बनाए जा रहे .

You May Also Like

English News