… तो इसलिए सर्दियों में बढ़ जाते हैं हार्ट अटैक के मामले

हर साल सर्दियां बढ़ते ही दिल की बीमारियां खासतौर पर हार्ट अटैक पड़ने लगता है. सर्दियों में हार्ट से मरने वालों की संख्या भी गर्मियों के मुकाबले अधिक होती है. ऐसे में ये जानना जरूरी है कि आखिर सर्दियों में अटैक का क्या कारण है.... तो इसलिए सर्दियों में बढ़ जाते हैं हार्ट अटैक के मामले

सर्दियों में हार्ट अटैक का कारण-
आईएमए के अध्यक्ष डॉ.के.के. अग्रवाल का कहना है कि ये देखा गया है कि सर्दियों में दिल और दिमाग के दौरे या कार्डियक अरेस्ट की वजह से मौतों के मामले बढ़ने लगते हैं. इसके कई कारण हैं. पहला तो दिन छोटे हो जाते हैं, जिससे हार्मोन में असंतुलन पैदा होता है और शरीर में विटामिन-डी की कमी आती है. इससे दिल और दिमाग के दौरे की आशंका रहती है. दरअसल, ठंडे मौसम में दिल की धमनियां सिकुड़ जाती हैं, जिससे हार्ट को ब्लड और ऑक्सीजन की कमी हो जाती है. इससे ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है.

विंटर्स में फिट रहने के लिए अपनाएं ये उपाय-

फाइबर से भरपूर आहार लें, इसमें इसबगोल का छिलका, सेब, और दालें खाएं. साथ ही होल ग्रेन, ब्रोकली, ड्राई फ्रूट्स, सीड्स और वेजिटेबल को डायट में शामिल करें. फाइबर कई गंभीर बीमारियों से बचाता है.

उचित मात्रा में पानी पीने से एनर्जी बनी रहती है और डायजेशन अच्छा होता है.

फ्रूट्स, वेजिटेबल्स, स्प्राउट्स, ड्राईफ्रूट्स जैसी चीजें अपनी डायट में शामिल करें. रॉ फूड्स में एन्जाइम, विटामिन और इम्यू्निटी एंटीऑक्सीडेंट होते हैं.

खूब धूप सेंके.

धूम्रपान ना करें. सर्दियों में धूम्रपान करने वालों में अस्थमा और सांस की बीमारियां आम हो जाती हैं, जो दिल के दौरे का खतरा भी बढ़ाती हैं.

सर्दियों में भी रोजाना व्यायाम करें.

You May Also Like

English News