पेट्रोलियम जेली लगाने से हो सकते हैं ये भयंकर साइड इफेक्‍ट….

सर्दियां आ चुकी हैं और इसी दौरान घर-घर में Petrolium Jelly यानी की Vaseline का उपयोग भी काफी तेजी से बढ गया है। आज हम आपको बताएंगे इसके Side Effects के बारे में। त्वचा को मॉश्चराइज करने वाली यह पेटा्रलियम जेली आपको कई बड़ी बीमारियां दे सकती है। यह हमारा मानना नहीं बल्‍कि रिसर्च में पाया गया है कि इसमें मौजूद तेल को अगर हम रोज प्रयोग करेंगे तो फेफड़े तो जाएंगे ही साथ में कैंसर भी हो सकता है।

पेट्रोलियम जेली लगाने से हो सकते हैं ये भयंकर साइड इफेक्‍ट....

प्रेगनेंसी से बचने के लिए पिल्स की जगह…

तो आइये इस बात से पर्दा उठाते हैं और जानते हैं पेट्रोलियम जेली के नुकसान क्‍या क्‍या हैं। यह फैट की टिशू में जमा हो सकती है: वेसिलीन (पेट्रोलियम जेली) में हाइड्रोकार्बन होता है जो कि फैट की टिशू में जमा हो जाता है। जैसा की आपको पता होना चाहिये कि हमारी स्‍किन वेसिलीन को सोख नही पाती और वह एक ढाल की तरह काम करती है। खाना खाने और सांस लेने के दौरान वेसिलीन में पाया जाने वाला मिनरल ऑइल हाइड्रोकार्बन शरीर के अंदर चला जता है। अगर आप स्‍तनपान करवा रही हैं तो हो सकता है कि हाइड्रोकार्बन आपके दूध से शिशु के अंदर चला जाए। 

ऑफिस पॉ‌‌लिटिक्स की वजह से होता है स्ट्रेस, तो इस तरह निपटें

कोलाजन ब्रेकडाउन: रोज रोज पेट्रोलियम जेली लगाने से त्‍वचा अपनी पोषण सोखने की शक्‍ती को खो देती है और वह नवीकरण की प्रक्रिया को धीमा कर देती है। इससे त्‍वचा में पाया जाने वाला कोलाजन टूट जाता है और चेहरे पर जल्‍द ही झुर्रियां दिखाई देने लगती हैं। हार्मोन में असंतुलन: यह आपका हार्मोन गड़बड़ कर सकती है और आपको कुछ गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य संबन्‍धित परेशानिया दे सकती है जैसे, पीरियड्स की समस्‍या, एलर्जी, बाझपन या पोषण की कमी आदि।

फेफड़ों की सूजन: ऐसे प्रोडक्‍ट जिसमे पेट्रोलियम जेली होती है, वह कई घातक रसायनों से भरा होता है जैसे, 1,4 dioxane। इससे आपको कैंसर हो सकता है। यहां तक कि अगर आप पेट्रोलियम जेली को थोड़ा सा भी सूंघ लें तो आपको लिपीडो निमोनिया और फेफड़ों में सूजन की समस्‍या हो सकती है।

You May Also Like

English News