बड़ा ही फायदेमंद होता है ये छोटा सा पत्ता

हम अपनी रसोई में काम करते हुए बहुत सी चीजों का इस्तेमाल करते हैं लेकिन शायद हम उन्हें सिर्फ स्वाद के लिए जानते हैं. बहुत से रोगों के इलाज आपकी रसोई में ही छुपे होते हैं

गर्मियों में चेहरे पर ताजगी के लिए लगाएं तरबूज का फेसपैक

लेकिन आप उन्हें इसलिए नहीं ढूंढ पाते क्यूंकि आपके ऐसी चीजों के गुणों के बारे में नहीं पता होता। पोदीना जो 12 महीने आपकी रसोई में मौजूद रहता है और जिसकी चटनी आप बड़े चाव से खाते हैं, बहुत से रोगों में एक रामबाण औषधि की रूप में काम करता है. गर्मी का सीजन शुरू हो गया है और गर्मी में आपके शरीर को ठंडा रखने में भी ये काफी असरदार होता है. आज हम आपको पुदीने के कुछ ऐसे फायदों से रूबरू करवाते हैं जिनके बारे में शायद पहले आपने न सुना हो.

गर्मी में लू लगने के के बाद पुदीने का सेवन करना चाहिए। लू लगने पर रोगी को पुदीने का रस और प्याज का रस देने से फायदा होता है।

हैजा होने पर पुदीना बहुत फायदा करता है। हैजा होने पर पुदीना, प्याज का रस, नींबू का रस बराबर-बराबर मात्रा में मिलाकर पिलाने से लाभ होता है।

पुदीने की रस में पानी मिलाकर अथवा पुदीने के काढ़े का घूँट मुँह में भरकर रखें, फिर उगल दें। इससे मुख की दुर्गन्ध का नाश होता है।

पेट दर्द में पुदीने के बीजों का चूर्ण पानी के साथ देने से पेट दर्द खत्म हो जाता है। बच्चों में प्राय: कब्जियत की शिकायत बनी रहने के कारण वे पेट दर्द से बेचैन रहते हैं। पुदीने की पत्तियों का रस या अर्क 4-5 बूंदे पानी या शक्कर के साथ मिलाकर देने से वे दर्द से छुटकारा पाते हैं।

मसिक धर्म के दर्द में, सुबह से शाम तक, कम से कम 3 बार पुदीने की चाय का सेवन करिये। इससे न सिर्फ आपको दर्द में राहत मिलेगी, बल्कि मासिक धर्म में होने वाली समस्याओं से भी छुटकारा मिलेगा।

पुदीने के एक चम्मच ताजा रस में दो चम्मच सिरका और समान मात्रा में शहद और गाजर का रस मिलाकर दिन में 2-3 बार देने से तपेदिक, दमा, ब्रोंकाइटिस आदि से पीडि़त व्यक्ति को शक्ति मिलती है। इसके अतिरिक्त जमा हुआ कफ बाहर निकल जाता है और फेफड़े साफ हो जाते हैं।

डिहाइड्रेशन में पुदीना, प्याज और नींबू का रस समान मात्रा में मिलाकर पीने से फ़ायदा होता हैं । अगर किसी को उल्टी-दस्त, डिहाइड्रेशन हो तो पुदीने का रस हर दो घंटे के बाद मरीज़ को देते रहें ।

You May Also Like

English News