मोर पंख के ये लाभकारी उपाय जान के, घर में मोर पंख रखने के लिए मजबूर हो जायेगे आप !

हम अक्सर अपने शास्त्रो में बहुत सी ऐसी चीज़ों के बारे में पढ़ते है जो आज के समय में भी हमारे लिए फलदायी साबित हो सकती है . ऐसी ही एक चीज़ मोर पंख है . वैसे कई बार ऐसा देखा जाता है कि कुछ मोर पंख को अपनी किताबो और कॉपियों में रखते है . वो इलसिए क्योंकि मोर पंख का शिक्षा से भी गहरा सम्बन्ध है . दरअसल ये बात शायद कम लोग जानते होंगे कि हमारे जो पुराने समय के कवि थे और महृषि थे वो मोर पंख को ही कलम बना कर उससे लिखा करते थे . इसके इलावा मोर पंख भगवान् कृष्ण को भी बहुत प्रिय है . इसलिए तो उन्होंने इसे अपने मुकुट का साज बना लिया . लेकिन अगर हम ये कहे कि आज के समय इसी मोर पंख का इस्तेमाल कर आप अपनी सारी परेशानियों को दूर कर सकते है तो आपका क्या कहना है ? जी हां ये सच है . अब मोर पंख से आपकी परेशानियां कैसे दूर हो सकती है ? ये हम आपको बताते है .

मोर पंख के ये लाभकारी उपाय जान के, घर में मोर पंख रखने के लिए मजबूर हो जायेगे आप !

१. घर से बुरे प्रभावों का विनाश .. कई बार आपके घर में बुरी सोच या बुरी शक्तियों का वास होने लगता है . ऐसे में अगर आप अपने घर में मोर का पंख लगाएंगे तो न केवल बुरी शक्तियों का निष्कासन होगा बल्कि आपके घर में सकारात्मक सोच और व्यव्हार का भी वास होगा . अर्थात ये बुरे चीज़ों के प्रभाव को खत्म करने में सहायक होगा .

२. वास्तु दोष करने में सहायक ..  हम अक्सर देखते है कि कई बार साधु बाबा मोर पंख से बने झाड़ से लोगों पर लगी बुरी नज़र और बुरी साया का बसेरा निकालते है . पर ये वास्तव में सत्य है . मोर पंख का इस्तेमाल करने से आपके सारे वास्तु दोष तो दूर होते ही है . साथ ही अगर आप पर किसी भूत बाधा का साया हो उससे सम्बंधित भी सारी परेशानियां दूर हो जाती है .

४. विद्यार्थियों के लिए लाभकारी .. अब ये तो हमने बताया ही था कि मोर पंख को बहुत से विद्यार्थी अपनी किताबों के बीच रखते है . असल में इससे ज्ञान में भी वृद्धि होती है . साथ ही इसे विद्यार्थियों के लिए लाभदायक माना जाता है . इसके इलावा यदि आप किसी मन्त्र सिद्धि की माला का जाप करते है तो उस माला को इन मोर पंखों के बीच रखना शुभ होता है .

४. बुरे ग्रहों को शांत करना .. अब गृह के बारे में तो हमें कुछ खास ज्ञान नहीं होता . इसलिए ऐसा कहा जाता है कि यदि आपके खराब गृह चल रहे हो तो अपने घर के अलग अलग स्थान पर मोर का पंख रख दे . इससे आपके बुरे ग्रहो की दशा ही बदल जाएगी और आपका वास्तु दोष दूर हो जायेगा .

५.रोगों से छुटकारा .. वैसे आपको ये मालूम न हो लेकिन मोर के पंख का इस्तेमाल बहुत से रोगों का इलाज करने के लिए भी किया जाता है . जैसे तपेदिक, लकवा, दमा, नज़ला और बांझपन जैसे रोगों को दूर करने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है .

६. धन धान में वृद्धि ..ऐसा माना जाता है कि यदि घर के दक्षिण पूर्व कोने में मोर का पंख लगाया जाये तो इससे घर में अधिक बरकत होती है . साथ ही यदि घर में अचानक कोई परेशानी आने वाली हो तो उससे भी बचाव हो सकता है .

७. सांप से बचाव ..ये बात आपको वाकई हैरान कर देगी पर ये सच है . असल में मोर और सांप में दुश्मनी होती है . इसलिए यदि घर में मोर का पंख रखेगे तो सांप घर में प्रवेश नहीं कर पाएंगे . इस बार मोर का पंख घर की पूर्वी और उतार दक्षिण दीवार पर लगाने से आपके राहु में जो दोष होता है वो भी परेशान नहीं करेगा . अर्थात आप राहु दोष से बच जायेगे .

८. सुख शान्ति में वृद्धि ..यदि मोर का एक ही पंख किसी भी मंदिर में राधाकृष्ण की मूर्ति के मुकुट में 40 दिन के लिए रखे या स्थापित करे . साथ ही हर रोज शाम को उन्हें मक्खन और मिश्री का भोग लगाएं . इसके बाद 41 वें दिन उस मोर के पंख को मंदिर से घर लाकर अपने लॉकर में रखे दे . तो आप खुद ये महसूस करेंगे कि आपके घर में सुख शांति की वृद्धि हो रही है .

९. कालसर्प दोष से बचाव ..यदि आपकी कुंडली में कालसर्प दोष है तो उसे दूर करने की मोर पंख में अध्भुत क्षमता है . कालसर्प वाले व्यक्ति को अपने तकिये के खोल के अंदर यानि तकिये के नीचे नहीं बल्कि अंदर , केवल 7 मोर के पंख सोमवार की रात को रखने चाहिए . फिर उसी तकिए पर सोना चाहिए . इससे कालसर्प दोष दूर होने में सहायता आवश्य मिलती है .

१०. विरोधी से मित्रता..यदि आप अपने किसी विरोधी से परेशान हैं,तो मोर के पंख पर हनुमान जी की मूर्ति के मस्तक से सिंदूर लेकर उसे मंगलवार या शनिवार को विरोधी का नाम लिखकर अपने घर के मंदिर में रात भर रखें . तो अगली सुबह उठ कर बिना स्नान किये उसे चलते पानी में प्रवाहित कर दें यानि चलते पानी में बहा दे . ऐसा करने से आपका विरोधी भी आपका मित्र बन सकता है .

११. बच्चों का बुरी नज़र से बचाव .. अब यदि आपके घर में कोई बच्चा जिद्दी हो, तो मोर के पंखों से उस बच्चे को हवा देने से धीरे धीरे उसकी जिद कम होने लगती है . वही दूसरी तरफ मोर के पंख को चांदी की तावीज़ में डालकर नवजात बच्चे के सिर के पास रखने से बच्चे की बुरी नज़र और बुरे दोषो से सुरक्षा होती है .

You May Also Like

English News