यहाँ खूब चलता है स्कूल गर्ल्‍स संग अधेड़-बूढ़े पुरुषों के ‘पेड सेक्स’

हाई स्कूल में डेटिंग? दुनिया के कई देशों में यह आम बात है, लेकिन जापान का मामला अलग है। यहां ‘हाई स्कूल डेटिंग’ का काफी चलन है। इसमें स्कूल यूनिफॉर्म पहने लड़कियां 40, 50 और इससे भी ज्यादा उम्र के पुरुषों के साथ डेटिंग करती हैं। यह डेटिंग साधारण नहीं, बल्कि इसमें पैसों का लेनदेन होता है। लड़कियां अपनी उम्र से कई गुना बड़ी आयु वाले पुरुषों के साथ डेटिंग करने के एवज में अच्छी-खासी रकम लेती हैं। इस तरह की ज्यादातर डेटिंग्स में मामला सेक्स पर जाकर खत्म होता है। यह हाई स्कूल डेटिंग असल में ‘बाल वेश्यावृति’ का ही एक रूप है। जापान में इसे ‘JK’ या फिर ‘हाई स्कूल डेटिंग’ बिजनस कहा जाता है। स्थानीय भाषा में JK का मतलब जोशी कोसेई होता है, जिसका अर्थ हाई स्कूल में पढ़ने वाली लड़कियां है। इसे यहां काफी मुनाफे का बिजनस माना जाता है।

यहाँ खूब चलता है  स्कूल गर्ल्‍स संग अधेड़-बूढ़े पुरुषों के ‘पेड सेक्स’ वॉशिंगटन पोस्ट ने इस पूरे मामले पर एक रिपोर्ट छापी है। एक हाई स्कूल कैफे में बैठे हुए एक अधेड़ उम्र शख्स ने अखबार को बताया, ‘इन लड़कियों से बात करना आसान है। इन दिनों हमें साधारण बार अच्छे नहीं लगते। वहां बड़ी उम्र की महिलाओं के साथ मैं बोर हो गया था।’ स्कूल यूनिफॉर्म पहने हुए एक 17 साल की नाबालिग लड़की इस शख्स और उसके एक दोस्त के लिए बीयर और खाने-पीने की चीजें लेकर आई। इन दोनों लोगों ने माना कि छोटी उम्र की यूनिफॉर्म पहनी लड़कियां उन्हें ज्यादा लुभाती हैं। 40 की उम्र के एक दूसरे अधेड़ शख्स ने कहा, ‘ये लड़कियां बहुत प्यारी लगती हैं। स्कूल यूनिफॉर्म में ये असलियत से ज्यादा प्यारी लगती हैं।’

इस तरह की डेटिंग्स के लिए खास कैफे बने होते हैं। कई जगह तो बड़े दिलचस्प नियम भी हैं। मसलन, कैफे 10 बजे बंद हो जाने चाहिए ताकि वहां आने वाले पुरुष सही समय पर अपने घर अपनी पत्नियों के पास पहुंच सकें। हाई स्कूल डेटिंग भी कई तरह की होती है। कई कैफे में ऐसी व्यवस्था है कि कम उम्र की हाई स्कूल लड़कियां वन-वे शीशे के आगे स्कूल यूनिफॉर्म पहनकर बैठती हैं और अपने ‘ग्राहकों’ की मर्जी के मुताबिक पोज देती हैं। फिर ‘टूर गाइडिंग’ की भी व्यवस्था है। इसमें ग्राहक चाहे, तो लड़कियों को लेकर टहलने जा सकता है। इस तरह के मामले अक्सर सेक्स सर्विस देने पर खत्म होते हैं। ऐसी डेटिंग्स भी हैं, जहां ग्राहक सेक्स करने में ही दिलचस्पी लेते हैं और इसके एवज में पैसे देते हैं।
ओसाका यूनिवर्सिटी में समाजशास्त्र और जेंडर स्टडीज पढ़ाने वाले एक प्रफेसर ने बताया कि जापान मूल रूप से पितृसत्तात्मक समाज है। ऐसे में पुरुषों को कम उम्र की लड़कियां ज्यादा लुभाती हैं। ऐसी लड़कियों के साथ सेक्स करने में उनकी ज्यादा दिलचस्पी होती है। स्टेट डिपार्टमेंट ने हाल ही में अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार तौर-तरीकों पर तैयार की गई अपनी एक रिपोर्ट में जापान के अंदर बच्चों के साथ हो रहे यौन शोषण पर काफी चिंता जाहिर की। विभाग ने माना कि पैसे देकर डेटिंग करने का यह चलन असल में बच्चों की सेक्स ट्रैफिकिंग का एक बड़ा कारण है। पिछले कुछ सालों से इस बिजनस को खत्म करने की कई कोशिशें हुई हैं, लेकिन इनमें से ज्यादातर बेअसर ही साबित हुई हैं। इसकी एक वजह यह भी है कि लोगों को यह सामान्य लगता है। बहुत कम लोग ही इसे किसी परेशानी या समस्या के तौर पर देखते हैं। बाकियों को जैसे इससे कोई दिक्कत हीं नहीं है। जापानी समाज का अधिकांश हिस्सा इस पूरी व्यवस्था के बारे में क्या सोचता है, इसकी बानगी युकी ओमाया नाम के एक फटॉग्रफर की जुबानी सुनिए, ‘ऐसे पुरुष हैं जो कि हाई स्कूल में पढ़ने वाली लड़कियों के साथ समय गुजारना चाहती हैं और फिर ऐसी लड़कियां भी हैं जो उनके साथ वक्त बिताकर पैसे कमाना चाहती हैं। इसमें गलत क्या है?’
 

You May Also Like

English News