ये देखिये भारत की गुलामी का सबसे बढ़ा दस्तावेज़, पढ़ने के बाद चकरा जाएगा आपका भी दिमाग…

मित्रों वर्ष 1953 मे भारत के एक व्यक्ति ”श्री राम नारायण” के एक प्रश्न कि (ब्रिटिश राष्ट्रीयता अधिनियम 1948 के तहत भारतीय नागरिकों की स्थिति क्या है के उत्तर में भारत के विदेश मंत्रालय ने वर्तमान में भी भारत के गुलाम होने की बात को स्वीकार किया और पत्र के उत्तर मे ब्रिटिश सरकार के under secretary का पत्र प्रस्तुत किया ।

पहले आप पत्र के उत्तर का हिन्दी में अनुवाद पढ़ें… बाकी पूरा पत्र नीचे दिया गया है ।

आपके द्वारा भेजे गये पत्र दिनांक 5 सितंबर 1953 में मुझे ये कहने का निर्देश हुआ है कि “ब्रिटिश राष्ट्रीयता अधिनियम 1948 की धारा एक (1) के तहत भारत का प्रत्येक नागरिक आज भी ब्रिटिश कानून का विषय है और इस स्थिति में भारत के गणतंत्र (आजाद) होने के बाद कोई परिवर्तन नहीं हुआ है

ये देखिये भारत की गुलामी का सबसे बढ़ा दस्तावेज़, पढ़ने के बाद चकरा जाएगा आपका भी दिमाग...

 मित्रो यह दस्तावेज योगेश मिश्र (वकील एवं सविधान शोधकर्ता) की वेबसाइट से लिया गया है उनके द्वारा भारत के संविधान पर किये गये शोधकार्य के और भी बहुत से दस्तावेज़ जो की भारत की गुलामी के विषय मे होंगे उनको मैं थोड़े-थोड़े समय बाद अपनी website पर Upload करते रहेंगे। कृप्या कोई भी इन दस्तावेजों का दुरुपयोग करने का प्रयास न करें, नहीं तो मजबूरन मुझे उनके विरुद्ध कानूनी कारवाई करनी पड़ेगी ।

एक दूसरा प्रमाण जिससे सिद्ध होता है कि भारत अभी भी गुलाम है

भाई राजीव दीक्षित जी के व्याख्यान पर आधारित हिसार के आर टी आई एक्टिविस्ट श्री राहुल सहरावत जी ने ब्रिटेन की रानी की भारत यात्रा पर भारत सरकार से मांगी थी जानकारी । 27 दिसंबर 2013 को सूचना के अधिकार के तहत मांगी थी जानकारी सर्वप्रथम भारत सरकार ने ऐसी किसी भी सूचना देने से साफ़ इन्कार कर दिया था परंतु राजीव भाई से प्रेरित राहुल जी ने धर्य नहीं खोया सूचना आयोग से इस सत्य को प्रमाणित करने के लिए लगातार 2 वर्ष तक संघर्ष किया अंत में सूचना आयोग के दखल के बाद विदेश मंत्रालय में गोल मोल करके जवाब दिया है ।

सूचना अधिकार अधिनियम 2005 के तहत मांगी गई सुचना का विवरण इस प्रकार है :-

दिनांक 27 दिसंबर 2013

  1. क्या  ब्रिटेन के राजा रानी को भारत आने के लिए बीजा पासपोर्ट की जरूरत है ?
  1. क्या ब्रिटेन की महारानी बिना बीजा के भारत आई थी ?
  1. ब्रिटेन की महारानी को भारत आने के लिए आखिर क्यों नहीं बीजा की आवश्यकता होती है ?

4.क्या भारत के राष्ट्रपति व प्रधानमन्त्री को ब्रिटेन जाने हेतू बीजा पासपोर्ट की आवश्यकता होती है ?

कृपया उपरोक्त सूचना की सत्यापित प्रति उपलब्ध करवाये ।

मांगी गई सुचना का विवरण:-

ये देखिये भारत की गुलामी का सबसे बढ़ा दस्तावेज़, पढ़ने के बाद चकरा जाएगा आपका भी दिमाग...

भारत सरकार के विदेश मंत्रालय का जवाब:-

प्रश्न संख्या 1 से 3 का जवाब ब्रिटेन की वेबसाइट पर उपलब्ध है

(मतलब भारत सरकार ने ये स्वीकार किया है की ब्रिटेन की रानी बिना बीजा के भारत आई थी अन्यथा उनका उत्तर सरल और सीधा होता परंतु अपने दस्तावेज के द्वारा सत्य को भारत सरकार नहीं बताना चाहती।) अब प्रश्न ये है ब्रिटेन की रानी आई थी भारत में सूचना मांगी गई भारत सरकार से लेकिन जवाब देगी ब्रिटेन की वेबसाइट ।

आखिर कैसी ये आजादी कैसा है ये गणतंत्र ?

प्रश्न संख्या 4 का उत्तर बिलकुल स्पष्ठ है की ब्रिटेन में प्रवेश हेतू भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमन्त्री को बीजा पासपोर्ट की आवश्यकता होती है।ड्राइवर बदलने से बात नहीं बनने वाली नई आजादी पूर्ण स्वराज्य के लिए । व्यक्ति नहीं व्यवस्था बदलो ।

सरकार द्वारा आर. टी. आई. का जवाब :-

ये देखिये भारत की गुलामी का सबसे बढ़ा दस्तावेज़, पढ़ने के बाद चकरा जाएगा आपका भी दिमाग...

इस विषय पर अधिक जानकारी के लिये आप ये विडियो देखे :-

You May Also Like

English News