ये हैं वो 5 कारण, जिसके चलते इंग्लैंड के हाथों हारा भारत

फैंस को उम्मीदें थीं कि कप्तान विराट कोहली की कप्तानी में पांच टेस्ट मैचों के लिए इंग्लैंड दाैरे पर गई भारतीय टीम सीरीज का आगाज जीत के साथ करेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इंग्लैंड ने रोमांचक मुकाबले में भारत को 31 रनों से हराया आैर सीरीज में 1-0 की बढ़त बनाई। मैच के दाैरान भारतीय टीम में कई खामियां देखने को मिलीं, जिसके चलते हार का मुंह देखना पड़ा। ये हैं वो 5 कारण, जिसके चलते इंग्लैंड के हाथों हारा भारत

1. पुजारा को बाहर निकालना
कप्तान विराट कोहली ने जब प्लेइंग इलवेन घोषित की तो उसमें हैरान कर देने वाली बात यह रही कि राहुल द्रविड़ के बाद दीवार कहे जाने वाले चेतेश्वर पुजारा को टीम में शामिल नहीं किया गया। पुजारा की जगह केएल राहुल को जगह दी गई, लेकिन उन्होंने दोनों पारियों में कोई खास योगदान नहीं दिया। राहुल ने पहली पारी में 4 आैर दूसरी पारी में महज 13 रन ही बनाए। यहां से साबित हो गया कि कोहली का राहुल को टीम में शामिल करने का फैसला गलत रहा। पुजारा के बाहर होने के कारण भी भारत को हार के साथ कीमत चुकानी पड़ी है। 

2. खराब फिल्डिंग
एक बार फिर भारतीय खिलाड़ियों ने खराब फिल्डिंग करते हुए सबको निराश किया। बल्ला तो नहीं चला, लेकिन साथ-साथ में मैदान पर जरूरी कैच लपकने में भी खिलाड़ियो के हाथ नहीं चल सके। अजिंक्या रहाणे ने पहली पारी केटन जेनिंग्स का कैच आसान कैच छोड़ा। अनुभवी खिलाड़ी शिखर धवन ने मैच में 3 कैच टकपाए, वो भी ऐसे माैके पर जब भारत को विकेट को जरूरत रही। धवन ने पहली पारी में सैम कुरेन, जबकि दूसरी पारी में आदिल राशिद आैर फिर से सैम कुरेन का कैच छोड़ा। कुरेन ने जीवनदान मिलने के बाद 63 रनों की पारी खेल डाली जो भारत की हार का सबसे बड़ा कारण बना।

3. विकेटकीपर की कमी महसूस
टेस्ट में जबसे महेंद्र सिंह धोनी ने संन्यास लिया है, उसके बाद भारतीय टीम में कोई ऐसा विकेटकीपर नहीं मिला जो लंबे समय तक टेस्ट में बना रहे। दिनेश कार्तिक को रिद्दिमान साहा की जगह टीम में शामिल किया गया लेकिन कार्तिक उसका फायदा नहीं उठा सके। कार्तिक विकेट के पीछे भी गेंद को लपकने में मुश्किल में आए आैर ना ही बल्ले से रन बना सके। वह पहली पारी में बिना रन बनाए पवेलियन लाैट गए आैर जब दूसरी पारी में कोहली के साथ मैच जीताने की जिम्मेदारी आई तो 20 रन बनाकर चलते बने। 

4. बल्लेबाजी क्रम फेल
मैच के दोनों पारियों में कोहली के अलावा बाकी सभी खिलाड़ियों ने खराब बल्लेबाजी की। इसकी वजह से भारत की मुट्ठी से मैच निकल गया। ओपनिग जोड़ी से लेकर आॅलराउंडर तक सभी खिलाड़ी फ्लाॅप आए। ओपनर जोड़ी धवन आैर मुरली विजय पहली पारी में 50 रनों की साझेदारी कर सके। जब दूसरी पारी में टिकने की बात आई तो ओपनिंग जोड़ी 22 रनों के अंदर ही पवेलियन लाैट गई। वहीं मध्यक्रम में ना अजिंक्या रहाणे चल सके जो भारत की हार का प्रमुख कारण बने। 

5. धवन का फ्लाॅप शो
घरेलू मैदान में बड़ी पारियां खेलने वाले धवन इंग्लैंड में फेल साबित हुए। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ फ्लाॅप प्रदर्शन जारी रखा। धवन पहली पारी में 26 तो दूसरी पारी में 13 रन बनाकर टीम को मुसीबत में फंसाकर चलते बने। अगर दूसरे मैच में भी उन्हें फिर माैका दिया जाता है तो यह कोहली की गलती होगी। धवन की जगह केएल राहुल ओपनिंग कर सकते थे, लेकिन पुजारा को बाहर कर कोहली ने धवन को माैका देना जरूरी समझा, जिसका परिणाम भारत को हार के साथ भुगतना पड़ा। धवन का इंग्लैंड के खिलाफ प्रदर्शन अब भी 8 पारियों में 161 रन रहा, जिसमें कोई अर्धशतक आैर ना ही अर्धशतक शामिल है।

You May Also Like

English News