वीकेंड में घूमना चाहते हैं नैनीताल, तो एक बार जरूर देख लीजिए ये ‘Do’ लिस्ट

अक्सर ऐसा होता है कि भागदौड़ में बिजी रहने जी वजह से हम ट्रिप की प्लानिंग नहीं कर पाते। ऐसे में वीकेंड पर आसपास घूमने के अलावा हमारे पास कोई ऑप्शन नहीं रहता। अगर आप वीकेंड पर ही ट्रिप की प्लानिंग करते हैं, तो आप उत्तराखंड के नैनीताल को लिस्ट में शामिल कर सकते हैं। आइए, जानते हैं नैनीताल में क्या है खास।नैनी झील    नैनी झील यहां के बहुत ही आकर्षक और मशहूर जगहों में से एक है। इस झील में आप बोटिंग का भरपूर मजा उठा सकते हैं। यहां के खूबसूरत प्राकृतिक नजारे देखकर आपको बेहद खुशी मिलेगी।   नैना देवी मंदिर     यह मंदिर नैना झील के उत्तरी दिशा में पड़ता है। यहां सती के शक्ति रूप की पूजा की जाती है। इस मंदिर के दर्शन करने के लिए नवरात्रों में सबसे ज्यादा लोग आते हैं। माना जाता है कि नैना देवी के नाम पर ही नैनीताल का नाम रखा गया है।    फैमिली के साथ ट्रिप का लेना चाहते हैं मजा, तो ट्रैवल लिस्ट में शामिल कर लीजिए असम के ये खूबसूरत नजारे यह भी पढ़ें रामनगर      15 अगस्त के आसपास जा रहे हैं गोवा तो एक बार पढ़ लीजिए ये बदले हुए नियम यह भी पढ़ें रामनगर, जिम कार्बेट नेशनल पार्क के लिए मशहूर है। राजधानी दिल्ली से लगभग 250 किलोमीटर की दूरी पर है। आसपास के अन्य प्रसिद्ध स्थल हैं गर्जिया देवी मंदिर और सीता बनी मन्दिर। यहां आप आकर भगवान के दर्शन के साथ साथ यहाँ की हसीन वादियों के खूबसूरत नजारों का भी लुफ्त उठा सकते हैं।      भारत की इस जगह से देख सकते हैं श्रीलंका, नेचर और एडवेंचर के शौकीन जरूर घूमें यह भी पढ़ें नैनीताल की खूबसूरती देखनी है, तो मिस न करें ये सब   ‘नैना पीक’ जिसे चाइना पीक भी कहते हैं, नैनीताल की सबसे ऊंची चोटी है। यह समुद्र तल से 2611 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, यहां तक घोड़े की सवारी करके पहुंचा जा सकता है। टिफिन टॉप या डोरोथी सीट एक आदर्श पिकनिक स्थल है जहां पर्यटक अपना खाली समय भरपूर मनोरंजन के साथ बिता सकते हैं। इसके अलावा ईको-केव-गार्डन, नैनीताल का दूसरा सबसे पॉपुलर पर्यटक स्थल है।  साथ ही राजभवन, चिड़ियाघर, फ्लैट्स, मॉल, सेंट जॉन चर्च इन वाइल्डरनेस, और पंगोट नैनीताल के सबसे पॉपुलर टूरिस्ट स्पोर्ट्स हैं। ठंडी सड़क, गुर्ने हाउस, खुर्पाताल, गुआनो हिल और अरबिंदो आश्रम में भी घूमा जा सकता है। आप यहां कई एडवेंचर स्पोर्ट्स का भी लुफ्त उठा सकते हैं।    वीकेंड में घूमने का प्लान है तो घूम आइए चंडीगढ़, जानें ग्रीन सिटी में क्या है खास यह भी पढ़ें कैसे पहुंचे   फ्लाइट से   नैनीताल में कोई एयरपोर्ट नहीं है नैनीताल के सबसे नजदीक पंतनगर एयरपोर्ट है जो शहर करीब 70 किलोमीटर दूर है। पंतनगर तक केवल दिल्ली से सीधी उड़ान उपलब्ध है। अगर आप मुंबई से नैनीताल या कोलकाता से नैनीताल आना चाहते हैं तो दिल्ली तक की फ्लाइट बुक करें फिर यहां से पंतनगर की फ्लाइट पकड़ सकते हैं या फिर दिल्ली से नैनीताल तक का सफर सड़क के रास्ते भी पूरा कर सकते हैं जिसमें करीब 8-9 घंटे लगते हैं।    ट्रेन से   नैनीताल में कोई रेलवे स्टेशन नहीं है नैनीताल के सबसे नजदीक काठगोदाम रेलवे स्टेशन है नैनीताल से काठगोदाम की दूरी 34 किलोमीटर है। देहरादून से काठगोदाम के लिए सीधी ट्रेन है जो करीब 7 घंटे में काठगोदाम उतार देती है जबकि आगरा से काठगोदाम की कोई सीधी ट्रेन नहीं है आगरा से काठगोदाम जाने के लिए आपको पहले दिल्ली जाना होगा जहां से सीधी ट्रेन है। दिल्ली से नैनीताल जाने का सबसे अच्छा तरीका है आप रानीखेत एक्सप्रेस पकड़ें जो रात दस चलती है और सुबह 5 बजे काठगोदाम पहुंचा देती है।  सड़क से   नैनीताल सड़कमार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है दिल्ली से नैनीताल की दूरी करीब 320 किलोमीटर है जिसे पूरा करने में 8-9 घंटे लगते हैं। नैनीताल नैशनल हाइवे 87 के जरिए पूरे देश से जुड़ा है। इसके अलावा दिल्ली नैनीताल के लिए सीधी बस सेवा भी उपलब्ध है। दिल्ली से नैनीताल जाने के लिए आप वॉल्वो बस भी बुक कर सकते हैं। दिल्ली से नैनीताल पहुंचाने में बस 8-9 घंटे लेती है।

नैनी झील

नैनी झील यहां के बहुत ही आकर्षक और मशहूर जगहों में से एक है। इस झील में आप बोटिंग का भरपूर मजा उठा सकते हैं। यहां के खूबसूरत प्राकृतिक नजारे देखकर आपको बेहद खुशी मिलेगी। 

नैना देवी मंदिर 

यह मंदिर नैना झील के उत्तरी दिशा में पड़ता है। यहां सती के शक्ति रूप की पूजा की जाती है। इस मंदिर के दर्शन करने के लिए नवरात्रों में सबसे ज्यादा लोग आते हैं। माना जाता है कि नैना देवी के नाम पर ही नैनीताल का नाम रखा गया है। 

रामनगर

रामनगर, जिम कार्बेट नेशनल पार्क के लिए मशहूर है। राजधानी दिल्ली से लगभग 250 किलोमीटर की दूरी पर है। आसपास के अन्य प्रसिद्ध स्थल हैं गर्जिया देवी मंदिर और सीता बनी मन्दिर। यहां आप आकर भगवान के दर्शन के साथ साथ यहाँ की हसीन वादियों के खूबसूरत नजारों का भी लुफ्त उठा सकते हैं। 

नैनीताल की खूबसूरती देखनी है, तो मिस न करें ये सब 

‘नैना पीक’ जिसे चाइना पीक भी कहते हैं, नैनीताल की सबसे ऊंची चोटी है। यह समुद्र तल से 2611 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, यहां तक घोड़े की सवारी करके पहुंचा जा सकता है। टिफिन टॉप या डोरोथी सीट एक आदर्श पिकनिक स्थल है जहां पर्यटक अपना खाली समय भरपूर मनोरंजन के साथ बिता सकते हैं। इसके अलावा ईको-केव-गार्डन, नैनीताल का दूसरा सबसे पॉपुलर पर्यटक स्थल है।  साथ ही राजभवन, चिड़ियाघर, फ्लैट्स, मॉल, सेंट जॉन चर्च इन वाइल्डरनेस, और पंगोट नैनीताल के सबसे पॉपुलर टूरिस्ट स्पोर्ट्स हैं। ठंडी सड़क, गुर्ने हाउस, खुर्पाताल, गुआनो हिल और अरबिंदो आश्रम में भी घूमा जा सकता है। आप यहां कई एडवेंचर स्पोर्ट्स का भी लुफ्त उठा सकते हैं। 

कैसे पहुंचे 

फ्लाइट से 

नैनीताल में कोई एयरपोर्ट नहीं है नैनीताल के सबसे नजदीक पंतनगर एयरपोर्ट है जो शहर करीब 70 किलोमीटर दूर है। पंतनगर तक केवल दिल्ली से सीधी उड़ान उपलब्ध है। अगर आप मुंबई से नैनीताल या कोलकाता से नैनीताल आना चाहते हैं तो दिल्ली तक की फ्लाइट बुक करें फिर यहां से पंतनगर की फ्लाइट पकड़ सकते हैं या फिर दिल्ली से नैनीताल तक का सफर सड़क के रास्ते भी पूरा कर सकते हैं जिसमें करीब 8-9 घंटे लगते हैं।

ट्रेन से 

नैनीताल में कोई रेलवे स्टेशन नहीं है नैनीताल के सबसे नजदीक काठगोदाम रेलवे स्टेशन है नैनीताल से काठगोदाम की दूरी 34 किलोमीटर है। देहरादून से काठगोदाम के लिए सीधी ट्रेन है जो करीब 7 घंटे में काठगोदाम उतार देती है जबकि आगरा से काठगोदाम की कोई सीधी ट्रेन नहीं है आगरा से काठगोदाम जाने के लिए आपको पहले दिल्ली जाना होगा जहां से सीधी ट्रेन है। दिल्ली से नैनीताल जाने का सबसे अच्छा तरीका है आप रानीखेत एक्सप्रेस पकड़ें जो रात दस चलती है और सुबह 5 बजे काठगोदाम पहुंचा देती है।

सड़क से 

नैनीताल सड़कमार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है दिल्ली से नैनीताल की दूरी करीब 320 किलोमीटर है जिसे पूरा करने में 8-9 घंटे लगते हैं। नैनीताल नैशनल हाइवे 87 के जरिए पूरे देश से जुड़ा है। इसके अलावा दिल्ली नैनीताल के लिए सीधी बस सेवा भी उपलब्ध है। दिल्ली से नैनीताल जाने के लिए आप वॉल्वो बस भी बुक कर सकते हैं। दिल्ली से नैनीताल पहुंचाने में बस 8-9 घंटे लेती है।

You May Also Like

English News