हॉकी: जापान पर शानदार जीत से भारत सेमीफाइनल में पहुंचने के करीब

गत चैपियन भारत ने एशियाई खेलों की पुरुष हॉकी स्पर्धा में जापान को 8-0 से हराकर लगातार तीसरी जीत दर्ज की. भारतीय टीम ने अभी तक तीन मैचों में 51 गोल दागे हैं, उसने पूल ए के पिछले मैचों में इंडोनेशिया को 17-0 से हराने के बाद हांग कांग को 26-0 से शिकस्त दी थी.गत चैपियन भारत ने एशियाई खेलों की पुरुष हॉकी स्पर्धा में जापान को 8-0 से हराकर लगातार तीसरी जीत दर्ज की. भारतीय टीम ने अभी तक तीन मैचों में 51 गोल दागे हैं, उसने पूल ए के पिछले मैचों में इंडोनेशिया को 17-0 से हराने के बाद हांग कांग को 26-0 से शिकस्त दी थी.  ड्रैग फ्लिकर रूपिंदर पाल सिंह ने 17वें और 37वें मिनट में और मंदीप सिंह ने 32वें और 56वें मिनट में दो-दो गोल किेए. एसवी सुनील ने सातवें, दिलप्रीत सिंह ने 12वें, आकाशदीप सिंह ने 45वें और विवेक सागर प्रसाद ने 47वें मिनट में गोल दागे.  दुनिया की पांचवें नंबर की भारतीय टीम अब 14वीं रैंकिंग पर काबिज कोरिया से खेलेगी और फिर पूल लीग का समापन श्रीलंका के खिलाफ मुकाबले से करेगी.  भारत ने अच्छी शुरुआत करते हुए जापानी गोल में हमले बोले. टीम ने दूसरे ही मिनट में प्रयास किया, लेकिन सुरेंद्र कुमार के क्रॉस पर दिलप्रीत का डिफ्लेक्शन शॉट वाइड चला गया.  गत चैंपियन को हालांकि गोल के लिए इंतजार नहीं करना पड़ा और आकाशदीप ने रिवर्स हिट पास दिया और सुनील ने आसानी से इसे नेट में पहुंचा दिया. इसके बाद दिलप्रीत ने पांच मिनट बाद स्कोर दोगुना किया.  भारतीय टीम पेनल्टी कॉर्नर को गोल में बदलने का मौका चूक गई. जिसके बाद जापान ने पहला प्रयास किया, लेकिन इसमें विफल रहे. केंटा तनाका ने दाईं ओर से प्रयास किया, लेकिन सतर्क भारतीय गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने इस शॉट को रोका.  दूसरे क्वार्टर में भारत 2-0 से बढ़त बनाए थी और रूपिंदर ने 17वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर को गोल में बदलकर इसे 3-0 कर दिया.जापानी टीम गोल हासिल करने को जूझती रही और भारत के दो प्रयासों को विफल कर दिया.  भारत ने तीसरे क्वार्टर में पेनल्टी कॉर्नर पर मौका गंवा दिया, लेकिन दो मिनट बाद अमित रोहिदास ने मंदीप को गोल करने के लिए मदद की और स्कोर 4-0 हो गया.  भारत को तब पेनल्टी स्ट्रोक मिला, जब विवेक को सर्कल के अंदर जापानी डिफेंडर ने बाधा पहुंचाई और रूपिंदर ने इस मौके को गोल में बदलने में जरा गलती नहीं की. भारत ने जापान पर दबाव बनाए रखा और जल्द ही पांचवां पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया, लेकिन इसका फायदा नहीं उठा सके. आकाशदीप, विवेक और मंदीप ने बाद में मैदानी गोल किए

ड्रैग फ्लिकर रूपिंदर पाल सिंह ने 17वें और 37वें मिनट में और मंदीप सिंह ने 32वें और 56वें मिनट में दो-दो गोल किेए. एसवी सुनील ने सातवें, दिलप्रीत सिंह ने 12वें, आकाशदीप सिंह ने 45वें और विवेक सागर प्रसाद ने 47वें मिनट में गोल दागे.

दुनिया की पांचवें नंबर की भारतीय टीम अब 14वीं रैंकिंग पर काबिज कोरिया से खेलेगी और फिर पूल लीग का समापन श्रीलंका के खिलाफ मुकाबले से करेगी.

भारत ने अच्छी शुरुआत करते हुए जापानी गोल में हमले बोले. टीम ने दूसरे ही मिनट में प्रयास किया, लेकिन सुरेंद्र कुमार के क्रॉस पर दिलप्रीत का डिफ्लेक्शन शॉट वाइड चला गया.

गत चैंपियन को हालांकि गोल के लिए इंतजार नहीं करना पड़ा और आकाशदीप ने रिवर्स हिट पास दिया और सुनील ने आसानी से इसे नेट में पहुंचा दिया. इसके बाद दिलप्रीत ने पांच मिनट बाद स्कोर दोगुना किया.

भारतीय टीम पेनल्टी कॉर्नर को गोल में बदलने का मौका चूक गई. जिसके बाद जापान ने पहला प्रयास किया, लेकिन इसमें विफल रहे. केंटा तनाका ने दाईं ओर से प्रयास किया, लेकिन सतर्क भारतीय गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने इस शॉट को रोका.

दूसरे क्वार्टर में भारत 2-0 से बढ़त बनाए थी और रूपिंदर ने 17वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर को गोल में बदलकर इसे 3-0 कर दिया.जापानी टीम गोल हासिल करने को जूझती रही और भारत के दो प्रयासों को विफल कर दिया.

भारत ने तीसरे क्वार्टर में पेनल्टी कॉर्नर पर मौका गंवा दिया, लेकिन दो मिनट बाद अमित रोहिदास ने मंदीप को गोल करने के लिए मदद की और स्कोर 4-0 हो गया.

भारत को तब पेनल्टी स्ट्रोक मिला, जब विवेक को सर्कल के अंदर जापानी डिफेंडर ने बाधा पहुंचाई और रूपिंदर ने इस मौके को गोल में बदलने में जरा गलती नहीं की. भारत ने जापान पर दबाव बनाए रखा और जल्द ही पांचवां पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया, लेकिन इसका फायदा नहीं उठा सके. आकाशदीप, विवेक और मंदीप ने बाद में मैदानी गोल किए

You May Also Like

English News