20 किमी पास आई दिल्ली, 50 हजार वाहनों के काले धुएं से बचेगा ताज

मुरैना। नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने सड़क मार्ग से सफर करने वाले लोगों के लिए नेशनल हाइवे-3(आगरा-ग्वालियर मार्ग) को नेशनल हाइवे-2(दिल्ली-आगरा मार्ग) से जोड़ने वाले फोरलेन बायपास को खोल दिया है। एनएचएआई ने नया बायपास शुरू करके राष्ट्रीय पर्यटन दिवस से ठीक पहले विश्व धरोहरों में शामिल भारत की शान ताजमहल को भी तोहफा दिया है।

20 किमी पास आई दिल्ली, 50 हजार वाहनों के काले धुएं से बचेगा ताज

दिल्ली से ग्वालियर की ओर आने-जाने वाले वाहनों को अब आगरा शहर में प्रवेश नहीं करना होगा। जिससे ताज ट्रेपेजियम जोन(ताज समलंब क्षेत्र) में वाहनों से होने वाले प्रदूषण में कमी आएगी और ताज के काला हो जाने का खतरा भी अब काफी हद तक घट जाएगा।

मैं सोने जा रही हूं पापा, सुबह कमरे में नहीं, किराए का कमरे में जाकर देखा तो…

ग्वालियर से दिल्ली जाने वाले लोगों को अब 20 किमी कम सफर करना होगा। नेशनल हाइवे अथॉरिटी ने छह साल पहले शुरू हुए एनएच-2 से एनएच-3 को जोड़ने वाले बायपास के निर्माण को पूरा करते हुए इसके वाहनों के लिए खोल दिया है।

इस रास्ते को दिसंबर के आखिरी हफ्ते में औपचारिक तौर से शुरू किया गया था, लेकिन पिछले दो हफ्तों में हाइवे की दोनों ओर की लेन वाहनों के आवागमन के लिहाज से पूरी तरह से खोल दी गई हैं। खास बात यह है कि अप्रैल महीने तक इस रोड पर किसी भी तरह का टोल वसूल नहीं होगा।

अप्रैल तक टोल नाका बन जाने और टोल रेट तय हो जाने के बाद ही यहां टोल वसूली शुरू होगी। यह बायपास 32.4 किमी लंबा है। इसलिए इसके टोल रेट में 30 से 35 रुपए के बीच में ही रहेंगे, लेकिन 20 किमी की दूरी घटने और आगरा के ट्रैफिक जाम से मुक्ति मिलने के बदले यह कीमत कुछ भी नहीं होगी।

आगरा से 15 किमी पहले मिलेगा बायपास, 35 किमी बाद निकालेगा

ठंड से हाथियों को बचाने के लिए बनाया जा रहा है स्वेटर

नया बायपास दिल्ली जाने वाले वाहनों को अब नेशनल हाइवे क्रमांक 3 के माइल स्टोन नंबर 13.3 पर रोहता गांव के पास से यह बायपास पकड़ना होगा। वाहन इस बायपास पर 32 किमी का सफर कर आगरा से करीब 35 किमी दूर माइन स्टोन नंबर 176.8 पर बरेह नामक गांव के पास निकलेंगे। यहां से दिल्ली की दूरी महज 180 किमी के आसपास ही रह जाएगी।

ताज महल को यह होगा फायदा

एनएचआई आगरा के अधिकारियों के मानें तो सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश पर ताज महल चारों ओर 50 किमी के दायरे को ताज समलंब क्षेत्र घोषित किया है। यहां पर लगातार प्रदूषण कम करने के प्रयास हो रहे हैं।

अधिकारियों के मुताबिक मथुरा आगरा के बीच वाहनों का पैसेंजर कार यूनिट(पीसीयू) करीब 27 हजार प्रतिदिन है। जबकि मनिया से आगरा के बीच पीसीयू करीब 30 हजार प्रतिदिन है। यानी हर रोज दिल्ली और ग्वालियर की ओर से आगरा में करीब 50 हजार छोटे बड़े वाहन प्रवेश करते हैं, लेकिन इस बायपास के शुरू होने से आधे से अधिक वाहन शहर के बाहर से गुजर जाएंगे और ताज समलंब क्षेत्र में प्रदूषण का स्तर काफी हद तक गिर जाएगा।

नेशनल हाइवे-2 को आगरा के बाहर से होते हुए नेशनल हाइवे क्रमांक 3 से जोड़ने वाले बायपास को शुरू कर दिया गया है। इससे प्रत्यक्ष रूप से 20 किमी और अप्रत्यक्ष रूप से 30 किमी तक की दूरी और आगरा के ट्रैफिक में फंसकर खराब होने वाले समय की बचत होगी। ताज महल को इससे सबसे अधिक फायदा होगा। क्योंकि हजारों वाहन आगरा शहर में प्रवेश नहीं करेंगे, जिससे प्रदूषण के स्तर में कमी आएगी। – एसबी सिंह, प्रोजेक्ट डायरेक्टर एनएचएआई आगरा

 

You May Also Like

English News