हुर्रियत के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक ने कहा, ‘एक आतंकी मारोगे, तो 10 और बंदूक उठाएंगे’

अगर कश्मीर में एक आतंकी को मारोगे तो 10 और बंदूक उठाने को तैयार होंगे। नई दिल्ली में बैठे लोग सोचते हैं कि सभी आतंकियों को मारकर कश्मीर समस्या का समाधान हो जाएगा, लेकिन वे यह भूल जाते हैं कि आतंकवाद दमन की प्रतिक्रिया है। यह बात हुर्रियत (म) के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक ने कही।
हुर्रियत के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक ने कहा, 'एक आतंकी मारोगे, तो 10 और बंदूक उठाएंगे'
57 दिनबाद शुक्रवार को हाउस अरेस्ट से रिहा होने के बाद मीरवाइज ने जुमा की नमाज से जामिया मस्जिद में लोगों के सामने अपना खुतबा पेश किया। मीरवाइज ने कहा कि प्रतिदिन पढे़ लिखे युवा मारे जाते हैं और नई दिल्ली में बैठे कुछ लोगों में एक विश्वास है कि इन सबको मारे जाने से समस्या खत्म हो जाएगी, लेकिन वे यह भूल जाते हैं कि इन लड़कों ने दमन की प्रतिक्रिया के रूप में और विवाद के समाधान के लिए हथियार उठाए थे।

ये भी पढ़े: #बड़ी खुशखबरी: रंग लायी मोदी-ट्रम्प की दोस्ती, अब 1 सितम्बर से 26 प्रति लीटर होगा पेट्रोल

मीरवाइज ने कहा कि जब तक राज्य में सुरक्षाबलों की मौजूदगी और दमन जारी रहेगा, तब तक चाहे आप एक आतंकी को मारो, लेकिन दस अन्य हथियार उठाने के लिए तैयार होंगे। इसलिए उन्हें मारने से भावनाएं नहीं मर सकतीं, जो उनके जनाजों के दौरान देखने को मिलती हैं।
 
 

You May Also Like

English News